Home रायपुर : मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना : राज्य में 67 हजार से ज्यादा बेटियों के हाथ हुए पीले

Secondary links

Search

रायपुर : मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना : राज्य में 67 हजार से ज्यादा बेटियों के हाथ हुए पीले

Printer-friendly versionSend to friend


रायपुर, 10 अप्रैल 2017

राज्य शासन के महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत पिछले वित्तीय वर्ष 2016-17 में माह दिसंबर 2016 तक गरीब परिवारों की एक हजार 677 बेटियों के विवाह करवाए गए। इन्हें मिलाकर योजना प्रारंभ से यानी वर्ष 2005-06 से अब तक कुल 67 हजार 364 कन्याओं के हाथ पीले हुए।
इस अवधि में योजना के तहत सामूहिक विवाह समारोहों के आयोजन में 69 करोड़ 49 लाख रूपए खर्च किए गए। मुख्यमंत्री कन्या विवाह में संबंधित जिलों के स्थानीय जिला प्रशासन और समाजसेवी संस्थाओं के सहयोग से सामूहिक विवाह समारोह आयोजित किए जाते हैं। इन समारोहों में बेटियों की शादी उनके अपने धार्मिक-सामाजिक रीति-रिवाजों के अनुसार होती है।
    उल्लेखनीय है कि गरीब परिवारों की बेटियों के विवाह में होने वाली आर्थिक कठिनाई के निवारण, विवाह के अवसर पर होने वाली फिजूलखर्ची रोकने, सादगीपूर्ण विवाह को बढ़ावा देने निर्धनों के मनोबल/आत्मसम्मान को बढ़ाने उनकी सामाजिक स्थिति में सुधार लाने सामूहिक विवाहों को प्रोत्साहन देेने तथा विवाहों में दहेज लेन-देन की रोकथाम करने हेतु मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना संचालित है।
    गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वाले परिवार/मुख्यमंत्री खाद्यान्न योजना अंतर्गत कार्डधारी परिवार की 18 वर्ष से अधिक आयु की अधिकतम दो कन्याओं के विवाह हेतु 15 हजार रूपए की आर्थिक सहायता दी जाती है। यह सहायता 11500 रूपए तक की  सामग्री के रूप में और 1000 रूपए बैंक ड्राफ्ट के रूप में दी जाती है। सामूहिक विवाह आयोजन पर प्रति कन्या 2500 रूपए तक राशि व्यय किए जाने का प्रावधान है। राज्य शासन द्वारा मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजनांतर्गत विधवा/अनाथ/निराश्रित कन्याओं को भी शामिल किए जाने का निर्णय लिया गया है। वित्तीय वर्ष 2017-18 में लगभग 9000 बेटियों के विवाह कराने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए बजट में 13 करोड़ रूपए का प्रावधान रखा गया है।
    मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना अंतर्गत सूखे से प्रभावित किसानों को उनकी कन्या के विवाह हेतु 15 हजार प्रति विवाह के स्थान पर 30 हजार प्रति विवाह प्रदान किए जाने का निर्णय लिया गया था। यह योजना 1 वर्ष अर्थात् 1 जनवरी 2016 से 31 दिसंबर 2016 तक लागू थी। योजना के अंतर्गत सूखे से प्रभावित किसानों की 7775 कन्याओं के विवाह हेतु 23 करोड़ 33 लाख रूपए की सहायता राशि दिसंबर 2016 तक प्रदान की गयी है।


क्रमांक 179/चित्ररेखा

Date: 
10 Apr 2017