Homeरायपुर : सरकार के सामाजिक सरोकारों की झलक है ‘रमन के गोठ’ : मरीन ड्राइव पर लोगों ने उत्साह से सुना मुख्यमंत्री को रेडियो पर

Secondary links

Search

रायपुर : सरकार के सामाजिक सरोकारों की झलक है ‘रमन के गोठ’ : मरीन ड्राइव पर लोगों ने उत्साह से सुना मुख्यमंत्री को रेडियो पर

Printer-friendly versionSend to friend

रायपुर. 13 सितम्बर 2015

चिलचिलाती धूप और गर्मी के बावजूद आज यहां रायपुर के मरीन ड्राइव पर लोगों ने रेडियो पर मुख्यमंत्री की वार्ता ‘रमन के गोठ’ को बड़े उत्साह से सुना। अपने विभिन्न निजी कार्यों से मरीन ड्राइव तथा इसके आसपास आए लोगों ने पौने 11 बजते ही रेडियो को घेर लिया और पूरे 15 मिनट तक तल्लीनता से ‘रमन के गोठ’ सुनते रहे। छत्तीसगढ़ के आकाशवाणी के सभी केन्द्रों द्वारा आज सवेरे पौने 11 बजे से 11 बजे तक जनसंपर्क विभाग द्वारा तैयार किए गए मुख्यमंत्री के मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘रमन के गोठ’ की पहली कड़ी का प्रसारण किया गया।

      ‘रमन के गोठ’ सुनकर लोगों ने उत्साहजनक प्रतिक्रिया दी और रेडियो के माध्यम से प्रदेश की जनता तक पहुंचने के इस प्रयास को उन्होंने काफी सराहा। मरीन ड्राइव के नजदीक मदर टेरेसा वार्ड में रहने वाली अधिवक्ता श्रीमती गौरी राव ने कार्यक्रम सुनकर कहा कि इससे लोगों को सरकार के सरोकारों का पता चलता है। मुख्यमंत्री से हरेली, तीजा, पोला जैसे छत्तीसगढ़ के त्यौहारों और ठेठरी, खुरमी जैसे पकवानों की चर्चा सुनकर शहरी युवा प्रदेश की लोक संस्कृति से परिचित हुए हैं। मुख्यमंत्री की बातों से खेती और किसानों के प्रति उनकी गंभीर चिंता जाहिर होती है। मदर टेरेसा वार्ड के पार्षद श्री कचरू साहू ने कहा कि यह मुख्यमंत्री का रेडियो के माध्यम से प्रदेश की जनता से जुड़ने का सराहनीय कदम है। इसके माध्यम से उनकी बातें दूरस्थ अंचलों में रहने वाले लोगों तक भी पहुंची है। ‘रमन के गोठ’ के जरिए लोगों को सरकार की प्राथमिकताओं और भावी कार्यक्रमों का पता चला।

      तेलीबांधा के श्री आशीष कुमार दास ने कहा कि मुख्यमंत्री को सुनकर चालू खरीफ मौसम में खेती और किसानों के बारे में उनकी चिंता साफ झलकती है। कार्यक्रम से हमें पता चला कि अवर्षा के हालात के चलते अब 33 प्रतिशत फसल नुकसान वाले किसानों को भी फसल बीमा योजना का लाभ मिलेगा। पहले यह केवल 50 फीसदी नुकसान वाले किसानों को मिलता था। राजेन्द्र नगर के व्यवसायी श्री छगन साहू ने कहा कि मुख्यमंत्री की बातें सुनकर आज किसानों को अवश्य बड़ा संबल मिला होगा कि सरकार उनके हर सुख-दुख में साथ है। सूखे की समस्या से जूझ रहे किसानों को सरकार हर संभव राहत और मदद देने जा रही है। मुख्यमंत्री की पूरी चर्चा काफी प्रासंगिक और आम लोगों के सरोकार की थी। मरीन ड्राइव में कार्यक्रम सुनने के बाद श्री आशीष श्रीवास्तव ने कहा कि मुख्यमंत्री का यह बेहद प्रभावी और सार्थक प्रयास है। उनकी चर्चा में तीज-त्यौहार, संस्कृति, खेती-बाड़ी और पर्यावरण सहित समाज के सभी वर्गों के लोगों की चिंता और सरोकार शामिल है।

क्रमांक-2792/कमलेश

Date: 
13 Sep 2015