Homeरायपुर : ‘रमन के गोठ’ ने जनता के दिलों में छोड़ी अमिट छाप

Secondary links

Search

रायपुर : ‘रमन के गोठ’ ने जनता के दिलों में छोड़ी अमिट छाप

Printer-friendly versionSend to friend

रायपुर, 15 सितम्बर 2015

आकाशवाणी से शुरू हुए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की नियमित रेडियो वार्ता के कार्यक्रम ’रमन के गोठ’ में उनकी भावनाओं ने राज्य की ढाई करोड़ जनता के दिलों में अमिट छाप छोड़ी। बस्तर से लेकर सरगुजा तक पहाड़ी और मैदानी इलाकों में शहरों और सुदूरवर्ती गांवों में भी लोगों ने बड़ी उत्सुकता के साथ मुख्यमंत्री का यह प्रसारण सुना। लोगों ने अपनी उत्साहजनक प्रतिक्रिया दी।
किसानों के दुख-दर्द में स्वयं को शामिल करते हुए मुख्यमंत्री द्वारा प्रदेश की महिलाओं के लिए तीजा पर्व की मंगल कामना को राज्य की महिलाओं ने विशेष रूप से सराहा। चाहे साहित्यकार हो, अधिकारी हो, जनप्रतिनिधि हो या आम नागरिक, गृहणी या विद्यार्थी हर वर्ग ने मुख्यमंत्री की रेडियोवार्ता की दिल खोलकर प्रशंसा की। ‘रमन के गोठ’ का पहला प्रसारण छत्तीसगढ़ के तीज-त्यौहारों, शिक्षा की गुणवत्ता, स्वच्छता अभियान और खेती-किसानी की वर्तमान दशा पर केन्द्रित था। रमन के गोठ के प्रथम प्रसारण होने के कारण लोगों में खास उत्साह था। लोग घरों, चौक-चौराहों और सार्वजनिक स्थलों में रेडियो से उत्साहपूर्वक मुख्यमंत्री की बातें सुनते रहे।
मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने रमन के प्रथम गोठ में महिलाओं के प्रमुख लोक पर्व तीजा पर महिलाओं के सुहाग के सुरक्षित रहने की जो कामना की है, उससे महिलाओं में विशेष रूप प्रसन्नता देखी गयी है। मानसून की कम बारिश की दशा में मुख्यमंत्री के गोठ ने किसानों और खेतिहर मजदूरों को राहत के साथ-साथ आत्म विश्वास दिलाया। खेती-किसानी से जुड़े अक्ती, सवनाही, भोजली, हरेली और पोरा तिहार की आत्मीय बातों नेे प्रदेशवासियों को खूब भाया। खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति श्री पुन्नूलाल मोहले, लोकसभा सांसद द्वय श्री लखन लाल साहू, श्री बंशीलाल महतो सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने आकाशवाणी से मुख्यमंत्री के खास प्रसारण को सुना। संसदीय सचिव श्री लखन देवागंन ने कोरबा जिले के ग्राम जेंजरा में गांव वालों के साथ रमन के गोठ को सुना और इस कार्यक्रम की खास तारीफ की। श्रम मंत्री श्री भैया लाल राजवाड़े ने कोरिया जिले केमुख्यालय बैकुण्ठपुर के मानस भवन में रमन के गोठ का प्रसारण सुना और इसकी तारीफ की।
दंतेवाड़ा की सविता नाग, दशरी बाई, राजनांदगांव जिले के ग्राम खैरझिटी निवासी श्रीमती नागेश्वरी सिन्हा, ग्राम आरला निवासी ममता देवांगन, बिलासपुर जिले के श्रीमती पार्वती कश्यप, श्रीमती पूनम कश्यप, श्रीमती मोंगरा बाई, श्रीमती कुंदिया बाई, अम्बिकापुर जिले की दिलेश्वरी पैकरा, माधुरी पाठक, अंजनी सिंह, वीभा राजवाड़े, शिल्पी गुप्ता, पुष्पा सिंह, ने मुख्यमंत्री से तीजा तिहार की सुग्घर बातें सुनकर खुश हुई। दंतेवाड़ा के हिड़मा पोडियामी ने रमन के गोठ सुनकर अपनी प्रक्रिया में कहा कि मुख्यमंत्री तीज-त्यौहारों पर अपना बधाई संदेश दे रहे हैं। यह खुशी की बात है। इस तरह का संवाद मन को खुशी देता है। राजधानी के वरिष्ठ पत्रकार श्री बाबूलाल शर्मा ने एक निजी टी.व्ही चैनल की परिचर्चा में कहा कि जनता ने इस कार्यक्रम को इस रूप में लिया है कि प्रदेश का मुखिया स्वयं प्रदेश की सुखे की स्थिति पर खुद उनके सामने आकर यह सांत्वना दे रहा है कि आपके साथ मैं खड़ा हूं। आप किसी भी प्रकार की चिन्ता न करें। इससे जनता में उनके व उनकी सरकार के प्रति विश्वास और बढ़ा है।
बलौदाबाजार-भाटापारा जिले के ग्राम मोहतरा के किसान श्री लतेल साहू, श्री मिठाई लाल और श्री मोतीलाल साहू ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन द्वारा जनता से जुड़ने के लिए किए गए इस संवाद को लाभकारी बताया। अम्बिकापुर जिले की समाज सेविका श्रीमती ममोल कोजेटा ने इसे सार्थक पहल बताया। बालोद जिले के बारहवीं कक्षा के छात्र रवि कुमार तथा कस्तूरबा गांधी बालिका आवाीय विद्यालय कवर्धा की छात्रा कुमारी अंजू ध्रुर्वे ने कहा कि छत्तीसगढ़ में शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने के लिए किए जा रहे प्रयास सार्थक साबित होंगे।   
सूरजपुर जिले के किसान श्री नंदलाल यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से किसानों के लिए राहत भरी बातें सुनकर अच्छा लगा। कोरबा जिले के ग्राम बुंदेली के भरतलाल साहू ने रमन के गोठ कार्यक्रम को जनता से जोड़ने का अच्छा माध्यम बताया। नगरपालिका परिषद बेमेतरा के अध्यक्ष श्री विजय सिन्हा ने कहा कि रमन के गोठ के द्वारा मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने जनता के साथ जो संवाद किया है, उसका लाभ जनता को भविष्य में और अधिक मिलेगा। बिलासपुर जिले की श्रीमती शगीना बेगम ने कहा कि इस कार्यक्रम को सुनने के लिए मन में बड़ी उत्सुकता थी। रेडियो सुनते समय ऐसे लग रहा था जैसे मुख्यमंत्री पास में ही खड़े होकर भाषण दे रहे हैं। बिलासपुर जिले की श्रीमती रेजा बाई ने कहा कि रमन के गोठ कार्यक्रम बहुत अच्छा लगा। मुख्यमंत्री के राज में छत्तीसगढ़ आगे बढ़ रहा है। मैं मुख्यमंत्री को चिट्टी लिखकर आशीर्वाद दूंगी। राजनांदगांव जिले के देवडोंगर निवासी पूर्णिमा देव ने कहा कि मुख्यमंत्री ने इस संवाद के माध्यम से किसानों के प्रति सहानुभूति प्रकट की है।
नगर पालिका जांजगीर-चाम्पा की अध्यक्ष श्रीमती मालती देवी रात्रे ने कहा कि मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ के तीज-त्यौहारों विशेष रूप से तीजा-पोरा और छत्तीसगढ़ी व्यंजनों ठेठरी-खुरमी की बात कर महिलाओं को सम्मान दिया है। जांजगीर-चाम्पा जिले के ही नवागढ़ पेड़री के सरपंच श्री राजकुमार कश्यप ने मुख्यमंत्री से खेती-किसानी की बातें सुनकर खुशी व्यक्त करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री खुद किसान परिवार से हैं। किसानों की भलाई के लिए प्रदेश सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयास सराहनीय है। लाईवलीहुड कॉलेज जांजगीर-चाम्पा के विद्यार्थी श्री राजेन्द्र कुमार ने कहा कि युवाओं के कौशल विकास के लिए शुरू किए गए प्रशिक्षण कार्यक्रमों से युवाओं की जिन्दगी संवरेगी।
बस्तर जिले की ग्रामीण महिलाएं श्रीमती बागो बघेल और श्रीमती पदमा कश्यप ने रमन के गोठ सुनकर कहा कि वे अपने गांवों को साफ-सुथरा बनाने स्वयं प्रयास करंेगी। बस्तर जिले के तोकापाल विकासखंड के ग्राम एर्राकोट और पलवा में भी लोगों ने इस महत्वपूर्ण प्रसारण को सुना। जगदलपुर के वरिष्ठ अधिवक्ता डॉ. प्रताप नारायण अग्रवाल ने इसे अभिनव प्रयास बताया। उन्होंने कहा कि इससे प्रशासनिक कार्यों में मजबूती आएगी। जगदलपुर के वरिष्ठ साहित्यकार एवं रंगकर्मी श्री नरेन्द्र पाढ़ी ने इस कार्यक्रम का समय बढ़ाने का सुझाव दिया और कहा कि इसमें साहित्य और कला जैसे विषयों को भी जोड़ा जाना चाहिए। जगदलपुर की ही वरिष्ठ साहित्यकार श्रीमती मोहिनी ठाकुर ने रमन के गोठ कार्यक्रम को किसानों और विद्यार्थियों के लिए लाभदायक बताया।
रायगढ़ जिले के श्री पूरन चौहान और श्री मालाकार ने रमन के गोठ में छत्तीगसढ़ में बच्चों की शिक्षा व्यवस्था तथा गांवों को साफ-सुथरा बनाने के लिए की गयी बातों को विशेष रूप से सराहा। रायगढ़ जिले की ग्राम पंचायत लोईंग के ग्रामीणों ने इस कार्यक्रम को सुनने के बाद पूरे ग्राम पंचायत को खुले में शौचमुक्त बनाने का संकल्प लिया।


क्रमांक-2851/राजेश

Date: 
15 Sep 2015