Homeरायपुर : चावड़ी के मजदूरों में भी ‘रमन के गोठ’ को लेकर भारी उत्साह : पितर-पाख, नवरात्रि और दशहरे का गुरतुर गोठ सुन भाव विभोर हुए मेहनतकश

Secondary links

Search

रायपुर : चावड़ी के मजदूरों में भी ‘रमन के गोठ’ को लेकर भारी उत्साह : पितर-पाख, नवरात्रि और दशहरे का गुरतुर गोठ सुन भाव विभोर हुए मेहनतकश

Printer-friendly versionSend to friend

    रायपुर, 11 अक्टूबर 2015

राजधानी रायपुर के गांधी मैदान के पास चावड़ी में गांवों से रोजी-रोजगार के लिए हर दिन आने वाले मेहनतकश मजदूरों और कामगारों ने भी आज मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के आकाशवाणी से प्रसारित ’रमन के गोठ’ कार्यक्रम को बड़े उत्साह के साथ सुना। चावड़ी के चबूतरे पर बैठकर और वहीं पर पेड़ के तने से टिककर मजदूर इस कार्यक्रम को पूरे समय तक सुनते रहे। इन कामगारों को मुख्यमंत्री द्वारा बतायी गई प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना सबसे ज्यादा पसंद आयी। कई मजदूर मोबाईल फोन को कान से लगाकर और कई मजदूर इयर फोन लगाकर एफ.एम. रेडियो के जरिए रमन के गोठ को बड़े ध्यान से सुनते रहे। मुख्यमंत्री के हर वाक्य पर मजदूरो के चेहरे खिलते नजर आए। डॉ. रमन सिंह से इस कार्यक्रम में पितर-पाख, शक्ति पूजा पर्व नवरात्रि, विजय पर्व दशहरा के गुरतुर -गुरतुर गोठ सुनकर मजदूर भाव-विभोर हो गए। कामगारों ने चर्चा में छोटे-छोटे व्यवसाय के माध्यम से लोगों को रोजगार देने की राज्य सरकार की योजना के संबंध में आपस में चर्चा कर पूछताछ करते रहे। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह से सभी पंचायतों के गांवों में जरूरतमंद लोगों के लिए एक क्विंटल अनाज सुरक्षित रखने के आदेश की बात सुनकर मजदूर खुश होते रहे। मुख्यमंत्री ने जैसे ही बताया कि छत्तीसगढ़ में कोई भूखा न रहे इसलिए पंचायतों में अनाज रखवाए गए हैैं। मजदूरों ने सिर हिलाकर और मस्कुरा कर खुशी व्यक्त की। चावड़ी के मजदूर श्री बीरबल निषाद,श्री हेमन्त विश्वकर्मा ग्राम बकोरी मगरलोड, श्री अनक राम ग्राम सकरी,श्री बंशीराम कंडरा,श्री मयंक सिन्हा, श्री चुम्मन राम, श्री ताराचंद साहू आदि ने छत्तीसगढ़ी भाषा में अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि ’रमन के गोठ’ बने लागीस हे। मुख्यमंत्री ह पितरपाख के संग हमर पुरखा मनके घलो सुरता करिस हे। 
 

क्रमांक-3364/राजेश
 

Date: 
11 Oct 2015