Homeरायपुर : रेडियो श्रोता संघ ने चौपाल में सुनी मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता

Secondary links

Search

रायपुर : रेडियो श्रोता संघ ने चौपाल में सुनी मुख्यमंत्री की रेडियो वार्ता

Printer-friendly versionSend to friend

रायपुर, 11 अक्टूबर 2015

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की रेडियो वार्ता के लोकप्रिय कार्यक्रम ‘रमन के गोठ’ की दूसरी कड़ी के प्रसारण को आज सवेरे यहां छत्तीसगढ़ रेडियो श्रोता संघ के बैनर पर संघ के सदस्यों ने काफी तल्लीनता के साथ सुना। सिविल लाइन स्थित अपेक्स बैंक अध्यक्ष और रेडियो श्रोता संघ के सरंक्षक श्री अशोक बजाज के निवास ‘चौपाल’ में राजधानी के विभिन्न हिस्सों से श्रोता एकत्रित हुए। उन्होंने  कार्यक्रम की सराहना करते हुए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को धन्यवाद दिया। श्रोताओं ने कहा कि इस कार्यक्रम के जरिए मुख्यमंत्री से हमें प्रदेश के तीज त्यौहारों, सरकार द्वारा लोगों की भलाई के लिए चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी मिल रही है। रेडियो श्रोता संघ के अध्यक्ष श्री परस राम साहू सहित सर्वश्री आकाश बजाज, मोहन लाल देवांगन, विनोद वंडलकर, भूपेन्द्र साहू, बुद्धेश्वर वर्मा, दुर्गा प्रसाद जोगी, कुबेर सपहा, गणेश राम सुन्दरानी, चन्द्रहास साहू, सुरेश सरवैया, प्रशांत साहू और प्रदीप साहू सहित अनेक नियमित रेडियो श्रोता उपस्थित थे, जिन्होंने रमन के गोठ की सराहना की। संघ के अध्यक्ष श्री परसराम साहू ने कहा मुख्यमंत्री आकाशवाणी के जरिये प्रदेश की जनता से रूबरू हो रहे है। हर महीने हम इस कार्यक्रम का इंतजार करते हैं, हम रेडियो के नियमित श्रोता है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने अवर्षा के कारण किसानों की चिंता को ध्यान में रखते हुए डीजल पंपों को डीजल अनुदान देने की बात कही है। रेडियो श्रोता संघ के श्री आकाश बजाज ने कहा कि डॉ. रमन सिंह ने प्रदेश में सूखे की स्थिति को ध्यान में रखकर इस वर्ष राज्योत्सव नहीं मनाने का निर्णय लिया है, जो स्वागत योग्य है। राज्य स्थापना दिवस पर केवल एक दिन का राज्य अलंकरण समरोह आयोजित किया जाएगा। श्री मोहनलाल देवांगन ने कहा कि मुख्यमंत्री ने तीज त्यौहारों एवं लोगों के हित में चलाई जा रही योजनाओं का जिक्र इसमें किया है। डॉ. रमन सिंह प्रदेशवासियों की चिंता करते हैं। उन्होंने महात्मा गांधी-नरेगा योजना के अंतर्गत 100 दिन से बढ़ाकर 150 दिन का रोजगार देने का निर्णय प्रदेश के लाखों श्रमिकों के हित में एक बेहतर कदम है।  
 

क्रमांक-3365/लोन्हारे
 

Date: 
11 Oct 2015