Homeरायपुर : रमन के गोठ में सुशासन की प्रतिबद्धता: डॉ. मन्नूलाल यदु : राजधानी रायपुर में पुरानी बस्ती के लोगों की उत्साहवर्धक टिप्पणियां

Secondary links

Search

रायपुर : रमन के गोठ में सुशासन की प्रतिबद्धता: डॉ. मन्नूलाल यदु : राजधानी रायपुर में पुरानी बस्ती के लोगों की उत्साहवर्धक टिप्पणियां

Printer-friendly versionSend to friend

 रायपुर, 11 अक्टूबर 2015

राजधानी रायपुर की पुरानी बस्ती स्थित टूरी हटरी में  आज सवेरे स्थानीय साहित्यकारों, साग-सब्जी और मनिहारी सामान बेचने वालों ने भी वक्त निकालकर आकाशवाणी रायपुर से प्रसारित मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के रेडियो कार्यक्रम ‘रमन के गोठ’ को ध्यान से सुना और अपनी उत्साहवर्धक टिप्पणियां दी। वरिष्ठ साहित्यकार और भाषा वैज्ञानिक डॉ.मन्नूलाल यदु ने कहा -‘डॉ. रमन सिंह का ‘गोठ’ प्रशंसनीय इस अर्थ में है कि उन्होंने छत्तीसगढ़ में सुशासन स्थापित करने हेतु अपनी प्रतिबद्धता व्यक्त की है। सर्वहारा वर्ग का उत्थान एवं समाज के अंतिम व्यक्ति की खुशहाली से छत्तीसगढ़ में न केवल राम-राज्य आएगा, अपितु मुख्यमंत्री जी की जन कल्याणकारी योजनाओं के संकल्पपूर्वक क्रियान्वयन से छत्तीसगढ़ विश्व का सिरमौर बनेगा और महात्मा गांधी के सुराज का सपना सार्थक होगा। डॉ. यदु ने कहा - मुख्यमंत्री जी के साथ जनसम्पर्क विभाग भी धन्यवाद  का विशेष पात्र है, जिनके प्रयास से मुख्यमंत्री जी के स्वच्छ प्रशासक की छवि उत्तरोत्तर बढ़ रही है।

टूरी हटरी में पान ठेला चलाने वाले श्री संतोष सिंह ठाकुर ने भी ’रमन के गोठ’ सुना और लोगों को भी सुनाया,उन्होने कहा कि रमन के गोठ में आम लोगों तक शासन की बात सीधे पहुँचती  है, इसलिए इसका प्रसारण इसी तरह करने रहना चाहिए। कुशालपुर निवासी श्रीमती साधना शर्मा ने कहा - बहुत अच्छा लगता है जब हम रमन के गोठ कार्यक्रम के माध्यम से हम अपने घरों में सीधे मुख्यमंत्री की बात सुनते हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री के घर-घर तक अपनी पहुंच बना कर शासन की बात पहुंचाने वाले इस कार्यक्रम को एक सराहनीय पहल बताया। इसके साथ ही टूरी हटरी में पूर्व पार्षद श्री रमेश यदु सहित स्थानीय नागरिक श्री चंद्रपाल यदु,श्री घनश्याम अग्रवाल, प्रोफेसर श्री घनाराम साहू ,श्रीमती नीरा साहू,सीमा सिंग,सब्जी वाले सर्वश्री शंकरलाल,राजकुमार कश्यप,मनोज सोनी, श्रीमती लक्ष्मीबाई, श्रीमती कालेन्द्रीबाई सहित कई लोग ’रमन के गोठ’ सुनकर उत्साहित थे।

 

क्रमांक-3367/रीनू


 

Date: 
11 Oct 2015