Homeरायपुर : मुख्यमंत्री ने तिरिथ बाई को दिलाया निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन और स्मार्ट कार्ड

Secondary links

Search

रायपुर : मुख्यमंत्री ने तिरिथ बाई को दिलाया निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन और स्मार्ट कार्ड

Printer-friendly versionSend to friend

 रायपुर, 09 अक्टूबर 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने एक दिव्यांग नागरिक की दिव्यांग गर्भवती पत्नी से मिली चिट्ठी का तत्काल संज्ञान लिया और उन्हें प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की सर्वोच्च प्राथमिकता वाली उज्ज्वला योजना के तहत निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन भी दिलवा दिया। यह प्रसंग छत्तीसगढ़ के पिथौरा (जिला महासमुन्द) का है। मुख्यमंत्री ने आज आकाशवाणी से प्रसारित अपनी मासिक रेडियो वार्ता ’रमन के गोठ’ में इसका विशेष रूप से उल्लेख किया। उन्होंने कहा-पिथौरा की श्रीमती तिरिथ बाई तारक ने ’रमन के गोठ’ सुनकर मुझे पत्र लिखा था कि उनके पति दिव्यांग हैं और वे गर्भवती हैं। स्मार्ट कार्ड भी नहीं बनवा सकी हैं और उज्ज्वला योजना के तहत रसोई गैस कनेक्शन चाहती हैं। मैंने महासमुन्द कलेक्टर को निर्देश दिए कि बहन तिरिथ बाई की समस्या का समाधान जल्द किया जाए। डॉ. रमन सिंह ने कहा-चूंकि तिरिथ बाई ने रमन के गोठ सुनकर मुझे पत्र लिखा था, इसलिए मैं आज इसी कार्यक्रम में यह बताना चाहूंगा कि उन्हें स्मार्ट कार्ड और रसोई गैस कनेक्शन दे दिया गया है। अब तिरिथ बाई को रसोई के लिए लकड़ी नहीं जलाना पड़ेगा। उनके परिवार का इलाज भी स्मार्ट कार्ड के जरिए होगा। उल्लेखनीय है कि श्रीमती तिरिथ बाई और उनके पति श्री लीलाधर तारक दोनों दिव्यांग है। वे पिथौरा के वार्ड नम्बर सात में अपनी छह साल की बेटी के साथ खपरेल के कच्चे मकान में रहते हैं। दोनों को 350 रूपए प्रति माह की दर से सात सौ रूपए की सामाजिक सुरक्षा पेंशन भी मिलती है। उन्हें राशन कार्ड पर हर महीने 35 किलो अनाज भी मिल रहा है। मुख्यमंत्री के निर्देश पर महासमुंद जिला प्रशासन की ओर से उन्हें दो दिन पहले छह अक्टूबर को प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत रसोई गैस कनेक्शन के साथ गैस सिलेण्डर और चूल्हा तथा रेगुलेटर भी प्रदान कर दिया गया है। डॉ. रमन सिंह ने एक अन्य श्रोता, ग्राम पाहंदा, जिला कोरबा निवासी श्री सम्मेलाल कुर्रे की चिट्ठी का भी जिक्र किया और कहा-श्री कुर्रे ने बताया है कि पंचायतों में शिविर लगाए जा रहे हैं, जहां स्कूली बच्चों के लिए जाति, निवास और आमदनी प्रमाण पत्र आसानी से बन रहे हैं।   


क्रमांक-3444/स्वराज्य
 

Date: 
09 Oct 2016