Homeरायपुर : लोक सुराज अभियान: मुख्यमंत्री के निर्देशों पर त्वरित अमल

Secondary links

Search

रायपुर : लोक सुराज अभियान: मुख्यमंत्री के निर्देशों पर त्वरित अमल

Printer-friendly versionSend to friend

तेन्दूपत्ता संग्राहकों के खातों में जमा बोनस की राशि का
गांव-गांव जाकर किया जाएगा नगद वितरण

मुख्य सचिव ने सभी जिला कलेक्टरों को जारी किए निर्देश

गांवों में बैनर-पोस्टर और मुनादी कराकर दी जाएगी बोनस वितरण की जानकारी


    रायपुर, 20 अप्रैल 2017

तेंदूपत्ता संग्राहकों को उनके खातों में जमा बोनस राशि का नगद वितरण गांव-गांव जाकर किया जाएगा। मुख्य सचिव श्री विवेक ढांड ने सभी कलेक्टरों को इस संबंध में आज यहां मंत्रालय महानदी भवन से पत्र जारी कर विस्तृत निर्देश जारी किए है। उन्होंने अपने पत्र में कलेक्टरों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं कि तेन्दूपत्ता संग्राहकों के खातों में जमा एक हजार रुपए तक की बोनस की राशि का नगद वितरण गांव-गांव जाकर किया जाए। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने लोक सुराज अभियान के दौरान तेन्दूपत्ता संग्राहकों को उनके बोनस की राशि का जल्द से जल्द वितरण करने के निर्देश अधिकारियों को दिए थे।
मुख्य सचिव ने पत्र में कहा है कि वर्तमान में वन विभाग द्वारा जिला सहकारी बैंकों, ग्रामीण बैंक, अन्य राष्ट्रीयकृत बैंकों में तेन्दूपत्ता संग्राहकों की राशि उनके खातों में जमा करा दी गई है तथा हितग्राहियों की सूची भी दी गई है। अधिकांश तेन्दूपत्ता संग्राहकों को औसतन 500 से 1000 रूपए तक बोनस के रूप में प्राप्त होते हैं। अधिकतर संग्राहक जो दुर्गम क्षेत्रों में निवास करते हैं, उन्हें बैंक की शाखा से भुगतान लेने के लिए 50 से 150 किलोमीटर दूर तक आना पड़ता है। राशि कम होने के कारण तेन्दूपत्ता संग्राहक राशि प्राप्त करने नहीं आ पाते हैं। तेन्दूपत्ता संग्राहकों की इस कठिनाई को दूर करने के लिए कलेक्टरों को गांव-गांव में बोनस राशि का नगद वितरण कराने के निर्देश दिए गए हैं।
मुख्य सचिव ने पत्र में कहा है कि जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक, प्राथमिक सहकारी समितियों और आवश्यक होने पर प्राथमिक वनोपज समितियों के कर्मचारियों का सहयोग नगद बोनस वितरण में लिया जाए। बोनस वितरण के दौरान पुलिस के माध्यम से सुरक्षा की भी व्यवस्था की जाए। मुख्य सचिव ने अपने पत्र में यह निर्देश भी दिए हैं कि तेन्दूपत्ता संग्राहकों को जागरूक करने के लिए प्राथमिक सहकारी समितियों, प्राथमिक वनोपज सहकारी समितियों में बेनर, पोस्टर लगाए जाएं । इसके साथ ही साथ गांव-गांव में बोनस राशि वितरण करने की सूचना तेन्दूपत्ता संग्राहकों को पारम्परिक तरीके से देने के लिए डोंडी (मुनादी) भी कराई जाए। मुख्य सचिव ने कलेक्टरों को इन निर्देशों का कड़ाई से पालन करने और तेन्दूपत्ता संग्राहकों को बोनस राशि का वितरण सात दिनों के भीतर सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।

 

क्रमांक-356/सुदेश/सोलंकी
 

Date: 
20 Apr 2017