Homeरायपुर : मंहत घासीदास संग्रहालय में नाटक कलाकारों ने सुना ‘रमन के गोठ’ : मालवाहकों में सवारी न करने की सलाह ने किया प्रभावित

Secondary links

Search

रायपुर : मंहत घासीदास संग्रहालय में नाटक कलाकारों ने सुना ‘रमन के गोठ’ : मालवाहकों में सवारी न करने की सलाह ने किया प्रभावित

Printer-friendly versionSend to friend

   रायपुर, 08 नवम्बर 2015

महंत घासीदास संग्रहालय परिसर रायपुर में आज सांस्कृतिक एवं समाजसेवी संस्था ‘कमला मेमोरियल सोसायटी’ के नाटक कलाकारों ने रेडियों में प्रसारित कार्यक्रम रमन के गोठ सुना। रेडियों के जरिए डॉ. रमन सिंह द्वारा प्रदेश के अनेक समस्याओं एवं सुझावों को सुनकर कलाकरों ने कहा कि उन्हें डॉ. सिंह के विगत दिनों फिंगेश्वर के पास टैªक्टर में सवार होकर देवी दर्शन के लिए जा रहे स्कूली विद्यार्थियों के साथ हादशा पर शोक व्यक्त करना और ऐसे मालवाहकों में सवारी नहीं करने की सलाह ने काफी प्रभावित किया। सोसायटी के निदेशक श्री वसंत वीर उपाध्याय ने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि रेडियों में प्रसारित कार्यक्रम रमन के गोठ क जरिए डॉ. रमन सिंह द्वारा लोगों के पत्रों का जवाब एक तरह से समास्या का समाधान है। डॉ. सिंह ने पत्रों के जवाब में तत्काल संज्ञान लेते हुए संबंधित अधिकारियों को निर्देशित भी कर रहे है। वाद्य कलाकार और संगीत शिक्षक श्री विनय बोपचे ने कहा कि डॉ. रमन सिंह के द्वारा कला और संगीत के दिशा में किए जा रहे प्रयास की सराहना की, श्री बोपचे ने कहा कि इससे प्रदेश के लोककला और संस्कृति का संवर्धन होगा। प्रदेश क विभिन्न क्षेत्रों से आये अन्य कलाकारों में कुम्हारी निवासी कुमारी दिव्या टण्डन, कुमारी माला तेन्दूलकर, श्री वीर तेन्दूलकर, अहिरवारा से आये डबल कुमार ढीवर, सुश्री पम्मी हिरवानी सहित हितेन्द्र हिरवानी, केशव साहू, महेश यादव और लोमनचन्द साहू ने भी रमन के गोठ सुना।  
   

क्रमांक-3881/ओम
 

Date: 
08 Nov 2015