Home रायपुर : वन स्टॉप सेंटर ‘सखी’ परिसर में आयोजित कार्यशाला में महिलाओं ने सुना रमन के गोठ

Secondary links

Search

रायपुर : वन स्टॉप सेंटर ‘सखी’ परिसर में आयोजित कार्यशाला में महिलाओं ने सुना रमन के गोठ

Printer-friendly versionSend to friend

कर्मचारियों ने कहा हमारी जिम्मेदारी अब और बढ़ी


    रायपुर, 14 फरवरी 2016

जिला अस्पताल परिसर में स्थापित वन स्टॉप सेंटर परिसर में महिला अधिकारों की जानकारी प्रदान करने के लिये आयोजित कार्यशाला में शामिल महिलाओं ने आज मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह के रमन के गोठ कार्यक्रम का सीधा प्रसारण सुना। मुख्यमंत्री ने जब माघी पुन्नी के अवसर पर आयोजित होने वाले राजिम कुंभ और स्कूली छात्र-छात्राओं की परीक्षा के बाद वन स्टॉप सेंटर का उल्लेख किया तो कार्यशाला में उपस्थित महिलाएं एवं वन स्टॉप सेंटर के कर्मचारी खुशी मिश्रित आश्चर्य में डूब गये। उन्हें यकीन ही नहीं हो रहा था कि प्रदेश के मुखिया उनके संटर के बारे में सारे प्रदेश को बता रहे हैं।
    रमन के गोठ में सखी का उल्लेख सुनकर वहां की केंद्र प्रभारी प्रीति पाण्डेय, काउंसलर नीति सिंह, केस वर्कर कीर्ति चंद्रा एवं हेमपुष्पा यादव, आई.टी.स्टॉफ यशवंत यादव ने कहा कि वे सभी अत्यंत गर्व महसूस कर रहे हैं। सभी ने एक स्वर में कहा कि अब से उनकी जिम्मेदारी और बढ़ गई है। मुख्यमंत्री द्वारा रेडियो पर सखी का उल्लेख किये जाने से वन स्टाप संेटर द्वारा महिलाओं को दी जाने वाली सुविधा की जानकारी प्रदेश के छोटे-छोटे कस्बों तक पहुंची है। इससे अधिकाधिक महिलाएं अपनी समस्या लेकर बेझिझक यहां आ सकेंगीं। केंद्र प्रभारी प्रीति पाण्डे ने भी पीड़ित महिलाओं से अपील की है कि वे मुख्यमंत्री द्वारा उल्लेखित नंबरों 0771-4061215 या टोल फ्री नं. 181 पर किसी भी समय कॉल कर अपनी समस्या दर्ज करा सकती हैं। सखी में कार्यरत विभिन्न विभागीय अधिकारियों द्वारा उनकी समस्या का निराकरण करने में सभी प्रकार की सहायता दी जायेगी।
    कार्यशाला में उपस्थित महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री अशोक पाण्डे ने कहा कि आज का दिन उनके विभाग के लिये गर्व का दिन है। आज रेडियो वार्ता के माध्यम से पूरे छत्तीसगढ़ की जनता को वन स्टॉप सेंटर की जानकारी प्राप्त हुई है। कार्यशाला कार्यक्रम में आई संगीता रामटेके, ज्योति,ममता गजभिये, कीर्ति साहू ने कहा कि रमन के गोठ के माध्यम से उन्हें पता चला कि वन स्टॉप सेंटर में महिलाओं की सभी प्रकार की समस्याओं का निराकरण किया जाता है। वे अब अपने आस-पास की पीड़ित महिलाओं को ‘सखी’ भेजकर उनकी मदद करेंगीं। एकीकृृत बाल विकास परियोजना अधिकारी सुनीता श्रीवास्तव ने कहा कि मुख्यमंत्री ने परीक्षा के अपने अनुभव सभी के साथ बॉंटे इससे बच्चों के मन में परीक्षा का भय कम होगा और बच्चे अच्छा प्रदर्शन करने के दबाव से मुक्त होकर पढ़ाई कर सकेंगें। साथ ही वन स्टॉप सेंटर के माध्यम से महिलाओं की और अधिक मदद करने को प्रेरित हुई हैं। वन स्टॉप सेंटर में कार्यरत पुलिस विभाग की सबइंस्पेक्टर श्रीमती लक्ष्मी पटेल, नर्सिंग स्टॉफ श्रीमती एस.मुखर्जी एवं होमगार्ड श्रीमती टिकेश्वरी साहू ने रमन के गोठ सुनने के बाद कहा कि आज वन स्टॉप सेंटर में काम करने पर उन्हें फख्र महसूस हो रहा है।
    कार्यशाला में आई संगीता रामटेके ने बताया कि आज उन्हे रमन के गोठ के माध्यम से पता चला कि वन स्टॉप सेंटर महिलाओं के प्रति होने वाली हिंसा से सुरक्षा प्रदान करने में इतना कारगर है। वे अपने महिला समूह की महिलाओं को भी इसकी जानकारी देंगी। कार्यशाला में आई रूकमणि साहू ने कहा कि मुख्यमंत्री ने युवाओं से आत्मनिर्भर बनने की बात कही इससे युवा आगे बढ़ने के लिये प्रेरित होंगें। इस अवसर पर उपस्थित कीर्ति जाधव, ज्योति साहू, गेंद कुंवर, रीता, लक्ष्मी यादव, रूकमणि साहू, उषा पात्रे, शारदा सेंद्रे, सुनीता यादव सभी ने रमन के गोठ की सराहना करते हुए अगले माह फिर से सुनने की बात कही।


क्रमांक-5606/सीमा

Date: 
14 Feb 2016