Homeरायपुर : ढीमर पारा में उत्साह से सुना गया ’रमन के गोठ’ : मुख्यमंत्री ने किया विद्यार्थियों,युवाओं और महिलाओं को जागरूक

Secondary links

Search

रायपुर : ढीमर पारा में उत्साह से सुना गया ’रमन के गोठ’ : मुख्यमंत्री ने किया विद्यार्थियों,युवाओं और महिलाओं को जागरूक

Printer-friendly versionSend to friend

  रायपुर, 14 फरवरी 2015

राजधानी रायपुर के महामाया मंदिर वार्ड स्थित ढीमरपारा के पीपर चौक में चौपाल लगाकर कर मोहल्लेवासियों ने मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की रेडियो वार्ता ’रमन के गोठ’ के छटवें प्रसारण को काफी उत्साह और प्रसन्नता से सुना। चौपाल में ढीमर पारा निवासी सर्वश्री नरेन्द्र कुमार, हरगोविंद भारत, रज्जूलाल, रामदास ढीमर,जयपाल यदु, श्रीमती अनिता ढीमर, श्रीमती किरण ढीमर,श्रीमती लक्ष्मी ढीमर,श्रीमती रीमा ढीमर, लोहार चौक निवासी श्री नितिन शर्मा सहित कई महिलाएं बच्चे और बुजुर्ग उपस्थित थे। चौपाल में उपस्थित महामाया मंदिर वार्ड की पूर्व पार्षद श्रीमती सरिता वर्मा ने कहा कि रमन के गोठ के माध्यम से महिलाओं को सखी वन स्टॉप सेंटर के बारे में बहुत उपयोगी जानकारी मिली है। ये जानकारी घरेलू हिंसा,दहेज प्रताड़ना, उत्पीड़न,अवैध मानव व्यवहार, बाल विवाह ,भ्रूण हत्या जैसे कई मामलों में पीड़ित महिलाओं में जागरूकता बढ़ाने में निश्चित ही सहयोगी होगी।  मुख्यमंत्री जी ने कई जनकल्याणकारी योजनाओं की सौगात छत्तीसगढ़वासियों को दी है। उन्होंने कहा कि योजनाओं के सफल क्रियान्वयन और जागरूकता के लिए हम सब सहयोग के लिए तैयार है।

मुख्यमंत्री को सुनकर उत्साहित लोगों ने कहा कि डॉ.रमन सिंह की बातों में महिलाओं, बच्चों, युवाओं और मेहनतकश लोगों के लिए प्रतिबद्धता साफ झलकती है। मुख्यमंत्री ने रेडियो के माध्यम से सीधे बोर्ड परीक्षा दे रहे 8 लाख विद्यार्थियों को संबोधित कर अपने छात्र जीवन की बातें साझा की और उन्हें परीक्षा में हताश और निराश न होकर संभावनाओं के साथ आगे बढ़ने के लिए शुभकामनाएं दी हैं। इससे निश्चित ही विद्यार्थियों के मनोबल में वृद्धि होगी। साथ ही युवाओं के लिए सरकार द्वारा किये जा रहे प्रयास आई.आई.टी.,कौशल उन्नयन के लिए लाईवलीहुड कॉलेज, सीधी भर्ती में भर्ती के लिए 5 वर्ष की छूट जैसे प्रावधानों को सुनकर उनमें नई ऊर्जा का संचार होगा। ’रमन के गोठ’ में छत्तीसगढ़ के कई इलाकों से आए पत्रों के बारे में सुनकर लोगों ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखने की बात भी कही।

                                                            क्रमांक-5610/रीनू
 

      






 

Date: 
14 Feb 2016