Homeग्रामीण यांत्रिकी सेवा द्वारा संपादित कार्यों के लिए नई दर अनुसूची तैयार-दो अप्रैल से होगी लागू

ग्रामीण यांत्रिकी सेवा द्वारा संपादित कार्यों के लिए नई दर अनुसूची तैयार-दो अप्रैल से होगी लागू

Printer-friendly versionSend to friend

    रायपुर, 29 मार्च 2012

राज्य शासन के पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग द्वारा निर्माण सामग्री मे बढ़ती लागत और मजदूरी की प्रचलित दरों के आधार पर वर्ष 2009 की दर अनुसूची को संशोधित कर नई दर अनुसूची तैयार की गई है। नई दर अनुसूची आगामी दो अप्रैल से लागू होगी। यह दर अनुसूची ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के वेबसाइट http://cg.nic.in/resworks (सीजीडाटएनआईसीडाटइन/आरइएसडब्ल्यूओआरकेएस) पर आगामी दो अप्रैल से आनलाईन उपलब्ध होगी।
    पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारियों ने आज यहां बताया कि नई दर अनुसूची हिन्दी में तैयार की गई है, जो ग्राम पंचायतों और ग्रामीण यांत्रिकी सेवा द्वारा संपादित विभागीय निर्माण कार्यों के लिए उपयुक्त होगा। इस दर अनुसूची में सम्मिलित दरों में ठेकेदारों का लाभांश नही जोड़ा गया है, इस लिए विभागीय रूप से कार्य करने वाले दरों से किसी भी प्रकार की कटौती नहीं की जाएगी। अधिकारियों ने बताया कि वर्तमान में अकुशल मजदूरों के लिए न्यूनतम मजदूरी महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के 122 रूपए प्रतिदिन और अन्य योजनाओं में 165 रूपए प्रतिदिन है, तद्नुसार दोनों प्रकार के कार्यों के लिए दरें दी गई है। अधिकारियों ने बताया कि केन्द्र सरकार द्वारा मनरेगा की मजदूरी आगामी एक अप्रैल से 132 रूपए प्रतिदिन करने की घोषणा की गई है।
    राज्य शासन द्वारा नई दर अनुसूची लागू करने संबंधी परिपत्र यहां मंत्रालय से सभी जिला कलेक्टरों, जिला पंचायतों के सभी मुख्य कार्यपालन अधिकारियों और ग्रामीण यांत्रिकी सेवा संभाग के सभी कार्यपालन अभियंताओं को जारी कर दिया गया है। परिपत्र मे कहा गया है कि ऐसे निर्माण कार्य जिन्हें ठेकेदारों के माध्यम से किया जाना है, कि स्वीकृति दिए जाने के पूर्व प्राक्कलन में 15 प्रतिशत ठेकेदार के लाभांश जोड़कर तकनीकी एवं प्रशासकीय स्वीकृति जारी की जाए। विभागीय रूप से जो निर्माण कार्य किए जाते हैं उनके प्राक्कलन में लगने वाली सामग्री की मात्रा तथा मजदूरों की संख्या स्पष्ट दर्शाई  जाएगी तथा नई दर अनुसूची के आधार पर ऐसे निर्माण कार्य जिनको ग्राम पंचायतों द्वारा बहुतायत में किया जाता है, के मानक प्राक्कलन तथा प्रत्येक आयटम में लगने वाली सामग्री एवं मजदूरी की संख्या का पत्रक मुख्य अभियंता द्वारा अलग से जारी किया जा रहा है।


क्रमांक-   5721  /काशी

Date: 
29 Mar 2012