Homeरायपुर : प्रबुद्धजनों ने सुना ‘रमन के गोठ’ : अच्छी लगी पेड़ की छांव में दिल से बनी योजनाओं वाली बात

Secondary links

Search

रायपुर : प्रबुद्धजनों ने सुना ‘रमन के गोठ’ : अच्छी लगी पेड़ की छांव में दिल से बनी योजनाओं वाली बात

Printer-friendly versionSend to friend

    रायपुर, 08 मई 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के रेडियो वार्ता ‘रमन के गोठ’ की आज कड़ी को प्रबुद्धजनों ने भी सुना और सभी ने तपती धूप में पेड़ की छांव में दिल से बनी योजनाओं की सफलता वाली बात को सराहा। साहित्यकार और पूर्व आई.ए.एस.अधिकारी डॉ. सुशील त्रिवेदी ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने विद्यार्थियों को परीक्षा में अच्छे प्रदर्शन के लिए बधाई दी और बालिकाओं को परीक्षा में अच्छे प्रदर्शन के लिए अतिरिक्त रूप से सराहा है। रमन के गोठ के जरिए छात्र-छात्राओं से चर्चा कर मुख्यमंत्री ने राज्य की एकदम नई पीढ़ी से पालक की भांति नाता जोड़ लिया। डॉ. त्रिवेदी ने कहा कि हमारे समय की सबसे बड़ी समस्या जल की कमी है, जो कि मानव निर्मित है, उसकी ओर भी ध्यान आकर्षित करते हुए मुख्यमंत्री ने लोगों को जल संरक्षण से जोड़ा और जागरूक किया है। यह सभी बातें उनकी लोक कल्याणकारी सोच का प्रतिबिम्ब है।  
    छत्तीसगढ़ हिन्दी ग्रंथ अकादमी के संचालक श्री रमेश नैयर ने कहा कि तपती धूप में गांव में पेड़ की छांव में गांव वालों के बीच बैठकर दिल से बनी योजनाएं अधिक सफल होती है, मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का यह कहना गांवों के विकास के प्रति उनकी प्रतिबद्धता को दर्शाता है। मुख्यमंत्री ने अबूझमाड़ के दूरस्थ अंचल के 53 गांवों में बिजली पहुंचाने की घोषणा की है। इससे दूरस्थ अंचल के गांवों के विकास को एक नई दिशा मिलेगी। जैविक खेती एक राष्ट्रीय महत्व का विषय है। कारली गांव के लोगों ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को जैविक खेती से उत्पादित चावल की पोटली भेंट की, रेडियो वार्ता में इसकी चर्चा से जहां जैविक खेती की महत्ता का प्रचार हुआ, लोगों को जैविक खेती के लिए प्रोत्साहन भी मिला, वहीं इस चर्चा से जनता के प्रति मुख्यमंत्री के अपनेपन की भावना का भी पता चलता है। इसके अलावा अक्षय तृतीया के अवसर पर होने वाले बाल विवाह को रोकने की अपील और जल औषधि केन्द्र के बारे में दी गई जानकारी भी महत्वपूर्ण और उपयोगी है।
    साहित्यकार श्री संजीव बख्शी ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह प्रेरक व्यक्तित्व के धनी हैं, इसलिए उनकी बातें सभी को बहुत भाती है। रमन के गोठ की आज की कड़ी में उन्होंने सारी बातें दिल से कही है। अबूझमाड़ क्षेत्र के 53 गांवों में बिजली पहुंचाने, आम, महुवां, कुसुम पेड़ के नीचे दिल से बनी योजना , कारली के ग्रामीणों द्वारा पोटली में मुख्यमंत्री को चांवल देना जैसे विषयों पर रमन के गोठ में चर्चा से मुख्यमंत्री की सहृदयता का पता चलता है। मुख्यमंत्री ने सस्ती जेनेरिक दवाओं की गुणवत्ता के बारे में जानकारी दी और इसके उपयोग पर बल दिया है। श्री बख्शी ने कहा कि गांव-गांव के लोग रमन के गोठ कार्यक्रम को सुनते हैं। निश्चित ही आज की कड़ी को सुनकर जेनेरिक दवा खरीदने वालों के पैसे बचेंगे।


      क्रमांक-777/सुनीता

 

Date: 
08 May 2016