Homeबालोद : आकाशवाणी से ‘‘रमन के गोठ‘‘ की तेरहवीं कड़ी : मानव तस्करी रोकने बालोद जिला प्रशासन और पुलिस को मिली सफलता की तारीफ

Secondary links

Search

बालोद : आकाशवाणी से ‘‘रमन के गोठ‘‘ की तेरहवीं कड़ी : मानव तस्करी रोकने बालोद जिला प्रशासन और पुलिस को मिली सफलता की तारीफ

Printer-friendly versionSend to friend

मुख्यमंत्री ने पद्मश्री सम्मानित श्रीमती शमशाद बेगम के कार्यों की सराहना की

बालोद, 11 सितम्बर 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के लोकप्रिय मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘‘रमन के गोठ‘‘ की तेरहवीं कड़ी के प्रसारण को आज यहॉ स्थानीय नवीन टाउन हॉल में सामूहिक रूप से बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधियों, नागरिकों, प्रशासनिक अधिकारियों-कर्मचारियों, छात्र-छात्राओं सहित सभी वर्ग के लोगों ने उत्साहपूर्वक ध्यान से सुना और कार्यक्रम की सराहना की। इस अवसर पर कलेक्टर श्री राजेश सिंह राणा, अपर कलेक्टर श्री डी.एस.सोरी, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती पद्मिनी भोई साहू, पार्षद श्री कमलेश सोनी, श्री रिच्छेद मोहन कलिहारी, श्री सुरेश निर्मलकर आदि ने भी कार्यक्रम का श्रवण किया।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आज आकाशवाणी से प्रसारित ‘‘रमन के गोठ‘‘ कार्यक्रम में ग्रामीणों से मानव तस्करों के चंगुल में नहीं आने का आव्हान किया। उन्होंने लोगों से गांव में अगर कोई संदिग्ध व्यक्ति नजर आए तो उसकी सूचना तत्काल पुलिस को देने का भी आग्रह किया। उन्होंने इस समस्या को हल करने के लिए लोगों में जागरूकता बढ़ाने तथा जनता और प्रशासन के बीच निरंतर समन्वय की जरूरत पर भी बल दिया। मुख्यमंत्री ने कहा-यह बड़ी विडम्बना है कि एक ओर हम 21वीं सदी में वैज्ञानिक विकास की बात करते हैं तो दूसरी तरफ मानव तस्करी की चर्चा भी होती है। यह एक विश्वव्यापी समस्या है कि बेहतर रोजगार के लिए बाहर जाने वाले को कई बार अपराधियों के द्वारा किए जाने शोषण का शिकार होना पड़ता है।
मुख्यमंत्री ने आज के प्रसारण में जहां मानव तस्करी जैसे विषय को अत्यंत गंभीरता से लिया। उन्होंनेे उत्तर प्रदेश में संकट में फंसी छत्तीसगढ़ के बालोद जिले की 32 बेटियों को सकुशल घर वापस लाने में बालोद जिला प्रशासन और पुलिस को मिली सफलता का भी जिक्र किया और इसके लिए उन्होंने जिले के पुलिस अधीक्षक श्री आरिफ हुसैन के प्रयासों की भी तारीफ की।
सामाजिक बुराईयों के खिलाफ कमांडो की तरह तैयार हो रही बेटियां
मुख्यमंत्री ने कहा कि पदमश्री सम्मानित श्रीमती शमशाद बेगम ने इन बेटियों को सामाजिक बुराईयों से लड़ने तथा गांवों की सुरक्षा के लिए प्रशिक्षण देकर कमांडों की तरह तैयार कर रही है। बालोद जिला प्रशासन ने इन बेटियों के लिए रोजगारमूलक प्रशिक्षण के साथ-साथ ऋण दिलाने की भी व्यवस्था की है। उन्हें स्व-रोजगार स्थापना के लिए प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत बैंकों से भी ऋण दिलाया गया है। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि प्रदेश के श्रमिकों को मानव तस्करों से बचाने के लिए राज्य सरकार ने नई दिल्ली स्थित अपने छत्तीसगढ़ सदन में आवासीय आयुक्त के नियंत्रण में एक विशेष प्रकोष्ठ बनाने का बड़ा निर्णय लिया है। यह प्रकोष्ठ छत्तीसगढ़ के श्रमिकों और दिल्ली तथा आस-पास के राज्यों के उनके नियोक्ताओं के साथ अच्छे संबंध विकसित करने के लिए भी कदम उठाएगा। इसके अलावा श्रमिकों की समस्याओं का निराकरण भी प्रकोष्ठ के माध्यम से किया जाएगा। उन्हें बीमारी या अन्य परेशानी की स्थिति में तत्काल मदद भी पहुंचाई जाएगी।
श्रोताओं की प्रतिक्रिया:-
    ‘‘रमन के गोठ‘‘ सुनकर नगर पालिका परिषद बालोद के पार्षद श्री कमलेश सोनी ने कहा कि इस प्रसारण से हमें शासन की योजनाओं की जानकारी समय-समय पर मिलती रहती है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री ने आज जिला प्रशासन और पुलिस के लिए जो तारिफ की वह जिले के लिए काफी सम्मानजनक बात है। कलेक्टर श्री राजेश सिंह राणा ने इस अवसर पर कहा कि कोई बैंक या कम्पनी ज्यादा ब्याज की लालच दे तो समझ लीजिए कि वह फर्जी कंपनी है। ऐसी कंपनियों से दूर रहें और जिला प्रशासन तथा पुलिस को तत्काल सूचित करने की बात कही।
श्रोताओं ने लिखकर दी अपनी प्रतिक्रिया:-
    आज स्थानीय नवीन टाउन हॉल में ‘‘रमन के गोठ‘‘ सुनकर उसकी  प्रतिक्रिया देने ड्राईंग शीट लगाया गया था जिसमें लोगों ने अपनी अपनी प्रतिक्रिया लिखकर दी। जिसमें सभी वर्ग के स्कूली बच्चों से लेकर युवा, महिलाओ, शिक्षकों, प्रबुद्धजनों सभी ने अपनी-अपनी प्रतिक्रिया ड्राईंग शीट में लिखकर दी। जिसे सभी लोगों ने सराहा और रमन के गोठ की तारीफ की।


क्रमांक/01

 

Date: 
11 Sep 2016