Homeअम्बिकापुर : उत्साह से सुना गया ‘‘रमन के गोठ’’ की दसवीं कड़ी का प्रसारण : उज्जवला योजना एक सार्थक एवं अभिनव योजना

Secondary links

Search

अम्बिकापुर : उत्साह से सुना गया ‘‘रमन के गोठ’’ की दसवीं कड़ी का प्रसारण : उज्जवला योजना एक सार्थक एवं अभिनव योजना

Printer-friendly versionSend to friend

अम्बिकापुर 12 जून 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की मासिक रेडियोवार्ता ‘‘रमन के गोठ’’ की दसवीं कड़ी को आज सरगुजा जिले के जिला मुख्यालय अम्बिकापुर के जिला पंचायत के सभाकक्ष में और गांव-गांव में उत्साह से सुना गया। ‘‘रमन के गोठ’’ सुनने के बाद सामाजिक कार्यकर्ता श्रीमती ममोल कोचेटा ने कहा कि महिलाओं के लिए शुरू की गई उज्जवला योजना एक बहुत ही सार्थक और अभिनव योजना है। इससे महिलाओं को विभिन्न बिमारियों से मुक्ति मिलेगी। इसी तरह श्री के.पी. दीक्षित और श्री गिरीष गुप्ता ने हमर छत्तीसगढ़ योजना और जल एवं वन संरक्षण के लिए चलाये जा रहे अभियान की सराहना की।
‘‘रमन के गोठ’’ में मुख्यमंत्री ने विकास पर्व की बधाई दी और छत्तीसगढ़ में जल एवं पर्यावरण संरक्षण के किये गये कार्यो की सराहना करते हुए आषा व्यक्त की कि सब मिलकर छत्तीसगढ़ को स्वच्छ, स्वस्थ्य, प्रदूषण मुक्त और हरा-भरा राज्य बनाने में सफल होंगे। मुख्यमंत्री ने बताया कि छत्तीसगढ़ ने एक व्यक्ति के पीछे तीन पेड़ लगाने का संकल्प लिया है और इसके लिए हरियर छत्तीसगढ़ और पानी बचाओं अभियान चलाया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र सरकार ने दो वर्ष में विकास के नये-नये कीर्तिमान स्थापित किये हैं। इन उपलब्धियों और गौरव से देषवासियों को जोड़ने के लिए यह विकास पर्व मनाया जा रहा है। इसमें छत्तीसगढ़ की भी उत्साहजनक भागीदारी है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री श्री मोदी द्वारा प्रधानमंत्री किसान बीमा योजना, जनधन योजना, मुद्रा योजना, डिजिटल इंडिया आदि अन्य योजनाए लागू की गई है, जिनसे छत्तीसगढ़ में समृद्धि और खुषाहाली का नया दौर शुरू हो गया है। उन्होंने कहा कि धान का समर्थन मूल्य 60 रूपये प्रति क्विंटल बढ़ाकर श्री मोदी ने किसानों को एक बड़ी सौगात दी है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत प्रदेष के 20 हजार गांव के पंच-सरपंच, जनपद एवं जिला पंचायत के सदस्य, नगर पंचायत के पार्षदों द्वारा अपने-अपने क्षेत्र की मिट्टी और पानी लाकर नया रायपुर में वृक्षारोपण किया जायेगा। मुख्यमंत्री ने अच्छे भविष्यवाणी के लिए किसानों को शुभकामनाएं दी और कहा कि सोसायटीओं में खाद-बीज दवा के पर्याप्त भण्डारण कर लिया गया है, जहां से किसान अपने जरूरत के अनुसार खाद-बीज एवं दवा उठाले। उन्होंने बताया कि एक महीने पहले से खाद-बीज उठाव करने पर भी ब्याज नहीं लगेगा। उन्होंने बताया आपदा प्रबंधन के लिए जिलों को 84 करोड़ रूपये उलब्ध कराई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बारिष के दिनों में मच्छरदानी लगाकर सोने की आदत डालें और सर्पदंष जैसी स्थिति में बैगा-गुनिया झाड़-फूक के चक्कर में न पड़े और नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में जाकर उपचार करायें।
मुख्यमंत्री ने बताया कि उज्जवला योजना के तहत अगले दो वर्षो के भीतर राज्य के 25 लाख गरीब परिवारों की महिलाओं को रसोई गैस कनेक्षन मात्र 200 रूपये में दिये जायेंगे। उन्होंने कहा कि इससे हर वर्ष 1 करोड़ वृक्ष कटने से बचेगें और माताओं एवं बहनों को खाना बनाने में सुविधा होगी तथा उन्हें विभिन्न बिमारियों से बचाने में मददगार होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि 21 जून को विष्व योग दिवस मनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि योग स्वस्थ और प्रसन्नचित रहने की कला है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस माह कबीर जयंती, छत्रसाल जयंती, महाराणा प्रताप जयंती एवं वीरांगना दुर्गावती का बलिदान दिवस भी है। मैं सभी को नमन करता हॅू और चाहता हूं कि हम सब उनसे प्रेरणा लेकर अपना जीवन सार्थक बनाएं।
इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री आर. एक्का, अपर कलेक्टर श्री एस.एन. राम और सामाजिक कार्यकर्ता तथा गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।


समाचार क्रमांक 1208/2016   
 

Date: 
12 Jun 2016