Homeअम्बिकापुर : कैशलेस लेन-देन करने वाले सरगुजा के चाय और पान दुकान वाले का मुख्यमंत्री ने ‘‘रमन के गोठ’’ की सत्रहवीं कड़ी में किया उल्लेख

Secondary links

Search

अम्बिकापुर : कैशलेस लेन-देन करने वाले सरगुजा के चाय और पान दुकान वाले का मुख्यमंत्री ने ‘‘रमन के गोठ’’ की सत्रहवीं कड़ी में किया उल्लेख

Printer-friendly versionSend to friend

उत्साह से सुना गया ‘‘रमन के गोठ’’ की सत्रहवीं कड़ी का प्रसारण



अम्बिकापुर 08 जनवरी 2017

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने मासिक रेडियावार्ता ‘‘रमन के गोठ’’ की सत्रहवीं कड़ी में कैशलेस ट्रान्जेक्शन करने वाले सरगुजा जिले के जिला मुख्यालय अम्बिकापुर के गांधी चौक में किंग टी स्टॉल चाय की दुकान चलाने वाले श्री राजा गुप्ता और ग्राम पंचायत कंठी में पान दुकान चलाने वाले श्री संतलाल राजवाड़े का उल्लेख किया। आज यहां जिला पंचायत के सभाकक्ष में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की मासिक रेडियोवार्ता ‘‘रमन के गोठ’’ का सामूहिक श्रवण किया गया। इसके साथ ही सरगुजा जिले के गांव-गांव में ‘‘रमन के गोठ’’ की सत्रहवीं कड़ी को उत्साह से सुना गया।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह अपने ‘‘रमन के गोठ’’ की मासिक रेडियोवार्ता की सत्रहवीं कड़ी में ईश्वर से प्रार्थना की कि मुझे इतनी शक्ति और विनम्रता, लगन और कर्मठता प्रदान करें कि विगत 13 वर्षो की तरह आने वाले वर्षो में भी जनता की सेवा अपने पूरे सामर्थ्य से कर सकंू उन्होंने कहा कि नये साल में हम न सिर्फ अपने पुराने संकल्पों को पूरा करेंगे,बल्कि नई सोच, नई जरूरत और नई योजनाओं का लाभ दिलाने के लिए भी तन-मन-धन से प्रयास करेंगे। मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को नये साल की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि नये वर्ष सुख, समृद्धि और सफलताओं से भरा हो। उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था को कालाधन की भयंकर बीमारी से मुक्त कराने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा की गई ऐतिहासिक, साहसिक, क्रान्तिकारी और दूरदर्शी पहल का पहला चरण अभूतपूर्व सफलता के साथ पूरा हुआ है। इससे बेइमानों, षड़यंत्रकारियों और स्वार्थी तत्वों के हौसले पस्त हुए हैं। ईमानदार और देश भक्त जनता का आत्मविश्वास बढ़ा है। जनता को विश्वास हुआ है कि अब इस देश में ईमानदारी की कदर होगी और बेइमानों को घुटने टेकने पड़ेगें। नोटबंदी का तोहफा जनता को नये आवास ऋण की ब्याज दर में 3 से 4 प्रतिशत तक की कमी के रूप में मिलेगा। बैंको ने पुराने आवास ऋणों की ब्याज दर भी घटा दी है। इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने रबी फसल के लिए 60 दिन का ब्याज माफ करने, गर्भवती महिलाओं को 6 हजार रूपये डी.बी.टी. के माध्यम से देने, वरिष्ठ नागरिकों को बैकों में स्थाई जमा पर 8 प्रतिशत ब्याज दर देने तथा लघु उद्योगों को 2 करोड़ रूपये की गारंटी देने की घोषणा भी की है।     
मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि कैशलेस लेन-देन को बढ़ावा देने के लिए प्रशिक्षण देने वाले हम देश के अवल राज्य बन गये हैं। 31 दिसम्बर 2016 तक प्रशिक्षण देने के निर्धारित लक्ष्य से तीन गुना अधिक लोगों को प्रशिक्षित किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि हर जिले में कैशलेस ट्रान्जेक्शन का प्रशिक्षण दिया जा रहा है और कैशलेस ट्रान्जेक्शन करने वाले व्यापारियों तथा आम नागरिकों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही प्रदेश की ढाई करोड़ जनता को कैशलेस लेन-देन के लिए प्रशिक्षित कर दिया जायेगा और प्रदेश का हर नागरिक हमारी डिजिटल आर्मी का प्रशिक्षित सैनिक होगा। इससे डिजिटल साक्षरता का भी विस्तार बहुत तेजी से होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कैशलेस इकॉनामी गांव, गरीब, किसान के लिए वरदान हैं। क्योंकि यह उन्हें अपने मेहनत और हक का पूरा पैसा दिलाने का माध्यम बनेगी। उन्होंने कहा कि कैशलेस ट्रान्जेक्शन से छोटे दुकानदार और आम जनता के लिए फायदे ही फायदे हैं। सबसे पहला फायदा तो उनकी राशि की सुरक्षा है। जब कोई व्यक्ति शासकीय योजना या अन्य वस्तु या सेवा के बदले में नगद भुगतान प्राप्त करता है तो सबसे पहले बात तो यहीं होती है कि उसे पूरी राशि मिले। कहीं किसी तरह की कटौती न हो और न ही कोई मेहनत की कमाई पर डंडी न मार दें। नगद पैसा गुमने, चोरी होने एवं धोखाधड़ी आदि की  अशंकाओं से भरा होता है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि गांव-गांव में बच्चे महिलाओं एवं बुजुर्ग सब मोबाईल फोन चलाना सीख लेते हैं तो कैशलेस लेन-देन भी सीख सकते हैं। इसके लिए बहुत पढ़ा-लिखा होना जरूरत नहीं है। अब तो अंगूठे के निशान से भी कैशलेस लेन-देन कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भीम एप का लोकापर्ण किया है जो आधार कार्ड के माध्मय से लेन-देन के लिए होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि गांव-गांव से छोटे और बड़े शहरों से जो समाचार आ रहे हैं वह हम सब के लिए बहुत उत्साहजनक है। ऐसी अनके खबरें मिल रही है कि गांव-गांव में सेलून वाला, सब्जी वाला, अण्डे वाला, चाट-गुपचुप वाला, चाय दुकान वाला, पान दुकान वाला, किराना स्टोर वाला, पंचर दुकान वाला से लेकर कृषि उपज मंडी तक कैशलेस लेन-देन हो रहा है। अब तो संदेश नीचे से ऊपर की तरफ जा रहा है। समाज का निचला स्तर जिस तेजी और प्रसन्नता के साथ कैशलेस हुआ है, उसे देखकर बड़े लोग प्रेरणा ले रहे हैं।


समाचार क्रमांक 49/2017

Date: 
08 Jan 2017