Homeअम्बिकापुर : ‘‘रमन के गोठ’’ में सरगुजा जिले का पत्र शामिल : सरगुजावासी हुए बेहत खुश एवं उत्साहित

Secondary links

Search

अम्बिकापुर : ‘‘रमन के गोठ’’ में सरगुजा जिले का पत्र शामिल : सरगुजावासी हुए बेहत खुश एवं उत्साहित

Printer-friendly versionSend to friend

अम्बिकापुर 11 अक्टूबर 2015

‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम की दूसरी कड़ी में आज  सरगुजा जिले के जिला मुख्यालय अम्बिकापुर के श्री कमलेश सिंह द्वारा पत्र के माध्यम से उठायी गयी सड़क एवं रेल मार्ग की समस्या के संबंध में प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा संतोषजनक जवाब देने पर सरगुजावासी बेहद खुश एवं उत्साहित हैं। मुख्यमंत्री को पत्र भेजने वाले श्री कमलेश सिंह ने कहा कि आकाशवाणी से प्रसारित ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम में उनके प्रष्न का डॉ. रमन सिंह द्वारा बहुत अच्छा जवाब देने से उन्हें बड़ी खुशी हुई है।
मुख्यमंत्री को पत्र लिखने वाले श्री कमलेश सिंह ने कहा कि मेरा यह मानना है कि जनसमस्याओं के निराकरण के लिए अपने स्तर से प्रयास करते रहना चाहिए, चूंकि कहीं न कहीं बात सुनी जाती है, जिसे मुख्यमंत्री ने आज चरितार्थ कर दिया। उन्होंने यह भी कहा कि ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के मुख से यहां की समस्याओं के निराकरण हेतु किये जा रहे प्रयासों के बारे में सुनने पर मुझे तथा जिलेवासियों को सुखद अनुभूती हुई है। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम में बताया कि गुमला-कटनी राष्ट्रीय राजमार्ग के तहत सूरजपुर से अम्बिकापुर सड़क मरम्मत के लिए 105 करोड़ रूपये की स्वीकृति प्रदान कर दी गई है। साथ ही अम्बिकापुर से जशपुर तक सड़क मरम्मत की स्वीकृति के लिए आवष्यक प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरगुजा क्षेत्र का विकास उनकी प्राथमिकता है। डॉ. सिंह ने कहा कि विश्रामपुर से अम्बिकापुर तक रेल लाईन का विस्तार हो जाने से अम्बिकापुरवासियों को राजधानी रायपुर और देश के विभिन्न हिस्सों में आने जाने से सुविधा हो रही है। साथ ही उन्होंने कहा कि जनभावनाओं को देखते हुए सरगुजावासियों की मांग पर अम्बिकापुर से बरवाडीह रेल लाईन स्वीकृति के लिए प्रस्ताव केन्द्र सरकार को भेजा गया है।
मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने बताया कि महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना के तहत सूखा प्रभावित क्षेत्रों में अधिक से अधिक रोजगारमूलक कार्य खोलने के निर्देश कलेक्टरों को दिये गये हैं। उन्होंने पितृपक्ष में अपने पुर्वजों का अच्छा स्वागत सत्कार कर भरपूर आर्शीवाद प्राप्त करने का आग्रह किया है। मुख्यमंत्री ने नवरात्री एवं विजयादशमी की भी लोगों को शुभकामनायें दी है। उन्होंने प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना से जरूरतमंदों को 50 हजार से 10 लाख रूपये तक का ऋण उपलब्ध कराकर साहूकारों से मुक्ति दिलाने वाला अभिनव योजना बताया है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के विकास में सभी वर्गो की भागीदारी आवश्यक है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत खुले में शौचमुक्त घोषित ग्राम पंचायतों के पंचायत पदाधिकारियों को 31 दिसम्बर को सम्मानित किया जायेगा।
‘‘रमन के गोठ’’ की द्वितीय कड़ी सुनने के लिए आज यहां जिला पंचायत के सभाकक्ष में सामूहिक श्रवण की व्यवस्था की गई थी। इस अवसर पर शहर के गणमान्य नागरिक, साहित्यकार एवं पत्रकारों ने ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम की सराहना की है। श्री अखिलेश सोनी ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा रेडियो के माध्यम से जन-जन तक सीधे मुखातिब होकर शासकीय योजनाओं को उन तक पंहुचाने के लिए एक अच्छा सार्थक एवं सराहनीय प्रयास किया गया है। नगर निगम अम्बिकापुर के पूर्व महापौर श्री प्रबोध मिंज ने कहा कि ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम के तहत रेडियो के माध्यम से अपनी बात पंहुचाने का यह नायाब तरीका है, जो भविष्य में बहुत उपयोगी साबित होगी। छत्तीसगढ़ हस्तशिल्प बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष श्री अनिल सिंह मेजर ने कहा कि ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम के तहत शासन की योजनाओं की जानकारी लोगों को मिल रही है, जिससे योजनाओं का क्रियान्वयन भी अच्छे तरह से हो सकेगा तथा जानकारी के अभाव में कोई शासकीय योजनाओं के लाभ लेने से वंचित नहीं रह पायेंगे। साथ ही छत्तीसगढ़ की संस्कृति को जन-जन तक पंहुचाने की सराहनीय पहल है। साहित्यकार डॉ. सचिन मंदिलवार ने कहा कि रेडिया प्रसारण में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि सरगुजा क्षेत्र का विकास उनकी प्राथमिकता में है जो हम सब के लिए खुशी की बात है। समाजसेविका श्रीमती ममोल कोचेकर ने कहा कि ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम के माध्यम से मुख्यमंत्री डॉ. सिंह समय-समय पर पड़ने वाली तीज-त्यौहारों की बधाई देते है, जो एक अच्छी पहल है। पत्रकार श्री अनंगपाल दीक्षित ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के बाद छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा रेडियो के माध्यम से लोगों तक अपनी बात पंहुचाने का एक सराहनीय प्रयास किया जा रहा है। साहित्यकार श्री रंजीत सारथी ने कहा कि गांव के विकास से ही देश का विकास होगा और मुख्यमंत्री गांव के विकास एवं किसानों के विकास के प्रति अपने विचार को ‘‘रमन के गोठ’’ के माध्यम से अवगत करायें है। साहित्यकार श्री प्रकाश कष्यप ने कहा कि एक साथ बैठकर रेडियों सुनने से उन्हें अपने बचपन में गांव की चौपाल में रेडियों सुनने की याद ताजा हो गयी है। उन्होंने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के इस प्रयास की सराहना की है।
इस अवसर पर जिला पंचायत के सीईओ श्री आर.एक्का, साक्षरता भारत के जिला परियोजना अधिकारी श्री के.पी.दीक्षित, श्री गिरिश गुप्ता गणमान्य नागरिक, साहित्यकार एवं बड़ी संख्या में श्रोतागण उपस्थित थे।

 

समाचार क्रमांक  1753/2015      

 

Date: 
11 Oct 2015