Homeउत्तर बस्तर (कांकेर) : मासिक वार्ता रमन के गोठ में मुख्यमंत्री ने कहा- बेटियों महिलाओं को सक्षम बनाने छत्तीसगढ़ में योजनाओं का सकारात्मक क्रियान्वयन मुख्यमंत्री

Secondary links

Search

उत्तर बस्तर (कांकेर) : मासिक वार्ता रमन के गोठ में मुख्यमंत्री ने कहा- बेटियों महिलाओं को सक्षम बनाने छत्तीसगढ़ में योजनाओं का सकारात्मक क्रियान्वयन मुख्यमंत्री

Printer-friendly versionSend to friend

कांकेर जिले में चिरायु योजना के क्रियांवयन की मुक्त कंठ से प्रशंसा



उत्तर बस्तर (कांकेर) 09 अक्टूबर 2016

कांकेर में स्वास्थ्य योजना चिरायु के क्रियान्वयन का अनुकरणीय पहल किया गया है । आत्मिक खुशी मिलती है जब कोई अस्वस्थ बच्चे के स्वस्थ होने पर उनके चेहरे पर चमक और आत्मविश्वास दिखाई देता है । कांकेर जिला प्रशासन ने इस योजना में अनेक आवश्यकता मंदों को लाभान्वित कर अन्य जिले के लिए अनुकरणीय काम किया है ।
आज प्रसारित आकाशवाणी कार्यक्रम रमन के गोठ की 14वीं कड़ी के श्रवण कार्यक्रम का कांकेर विकासखण्ड के ग्राम किरगोली के प्राथमिक शाला में आयोजित किया गया । आकाशवाणी कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कांकेर में चिरायु कार्यक्रम के क्रियान्वयन की प्रशंसा की। मुख्यमंत्री ने बताया कि कांकेर जिले में उनके द्वारा चिरायु योजना में लाभान्वित और स्वस्थ जीवन जी रहे 89 बच्चों और उनके अभिभावकों से मुलाकात की । इनमें बच्चों में हृदय रोग के 38, पैरों की विकृति के 18, कटे-फटे होंठ के 28 बच्चे शामिल है जो चिरायु योजना में अपना इलाज करा कर स्वस्थ और आत्मविश्वास से परिपूर्ण समाज की मुख्यधारा से जुडकर जीवन जी रहे हैं । मुख्यमंत्री ने कहा कि कांकेर जिले में 101 बच्चों को चिरायु योजना से लाभांवित किया गया है । योजना के तहत गंभीर बीमारियों से पीड़ित 412 बच्चों को उच्च चिकित्सा संस्थानों में इलाज के लिए चिन्हित किया गया है । शेष बचे को चरणबद्ध रूप से इलाज के लिए भेजा जा रहा है । उन्होंने छत्तीसगढ़ के अन्य जिलों में भी चिरायु योजना का कांकेर जिले की तरह क्रियान्वयन कर आवश्यकतामंदों को लाभांवित करने का आवाहन किया है।
छत्तीसगढ़ में बेटियों महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने की योजना का बेहतर क्रियान्वयन
 आज रमन के गोठ कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह ने 11 अक्टूबर को अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस पर बेटियों को बधाई देते हुए छत्तीसगढ़ में महिला सशक्तिकरण, बेटियों को विकास के सकारात्मक माहौल मुहैया कराने छत्तीसगढ़ में योजनाओं के क्रियान्वयन की विस्तृत जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के 27 में से 13 जिलों में पुरुषों की तुलना में महिलाओं की आबादी अधिक है । राज्य में प्रति एक हजार पुरुषों पर 991 महिलाएं हैं । मुख्यमंत्री ने रमन के गोठ कार्यक्रम में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, नोनी सुरक्षा उज्वला योजना कुपोषण मुक्ति अभियान महिला स्वसहायता समूह को सक्षम बनाने सहित अन्य योजनाओं की जानकारी दी । मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में महिलाओं की सुरक्षा के लिए टोल फ्री नंबर 1091 हर जिले में स्थापित है। उन्होंने कहा कि इस नंबर पर संकट ग्रस्त कोई भी महिला अपनी शिकायत दर्ज करा सकती हैं । मुख्यमंत्री ने कहा कि पारिवारिक विकारों के निपटारे के लिए परिवार परामर्श केंद्र की स्थापना की गई है । जहां सामाजिक आर्थिक और कानूनी आदि संरक्षण के सभी तरह के परामर्श दिए जाते हैं । मुख्यमंत्री ने अपने मासिक वार्ता में संस्थागत प्रसव और टीकाकरण को बढ़ावा देने बीजापुर जिले के भोपालपटनम की श्रीमती चंद्रकांता नीलम की विशेष प्रशंसा की।
 विजयदशमी पर्व की प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इस पर्व का भारतीय संस्कृति में विशेष महत्व है । उन्होंने लोगों का आह्वाहन कर कहा कि वह अपनी बुराइयों का त्याग कर कौशल, अधोसंरचना, सेवा, रोजगार, उधमिता, संस्कृति के 10 लक्ष्य निर्धारित कर अपने जीवन को शिखर पर ले जाने संकल्प ले । आदि शक्ति की आराधना सम्मान और परंपरा का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ के सभी शक्तिपीठों की जानकारी दी । उन्होंने कहा की शक्ति की आराधना का पर्व हमें आपसी सद्भाव और सहिष्णुता से जीने की प्रेरणा देता है । मुख्यमंत्री ने नवरात्रि, दशहरा, करवाचैथ, धनतेरस, दिवाली आदि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं दी । मुख्यमंत्री ने दीपावाली पर्व पर लोगों से समृद्धि को स्वछता से जोड़ने का आवाहन किया । उन्होंने कहा कि सभी ध्वनि, जल और वायु प्रदूषण रोकने कार्य करें । इस वर्ष पांच दिवसीय राज्य उत्सव की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि 1 नवंबर 2000 को पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेई ने छत्तीसगढ़ राज्य की सौगात दी थी। राज्य उत्सव का महत्व बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इससे हमें विकास की गाथा के पन्ने पलटने, भावी विकास का नया लक्ष्य तय करने और छत्तीसगढ़ के विकास का नया कीर्तिमान गढ़ने का संकल्प लेने की प्रेरणा मिलती है । मासिक वार्ता में मुख्यमंत्री ने सोशल मीडिया, फेसबुक, एसएमएस से मिल रही श्रोताओं की प्रतिक्रियाओं का जिक्र किया और महासमुंद जिले की तीरथ भाई को रमन के गोठ कार्यक्रम से इस स्मार्ट कार्ड रसोई गैस से लाभान्वित किए जाने जानकारी दी। इन योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाने की जानकारी तिरथबाई ने पत्र के माध्यम से मुख्यमंत्री को दी थी।
प्रतिक्रियाएं-
ग्राम किरगोली के आनंद राम मंडावी ने कहा कि धार्मिक त्योहारों के अवसर पर फिजुल खर्चे से बचने और अपने ग्रामांे में स्वच्छ भारत मिशन को सफल बनाने शौचालय का निर्माण योगदान देने की जानकारी मिली जो महत्वपूर्ण है। किरगोली के भगवान सिंह उइके ने बताया कि रमन के गोठ कार्यक्रम से उन्हें दुपहिया वाहन चलाते समय हेलमेट पहनने और नशे का सेवन नहीं करने की जानकारी मिली। सरपंच श्री केश्व मंडावी ने बताया कि आज के मुख्यमंत्री के रमन के गोठ कार्यक्रम में धार्मिक त्योहारों के अवसर पर सभी नारियों का सम्मान का ध्यान रखने की जानकारी मिली । श्रीमती अंजली पोया ने कहा कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं का संदेश मिला जो मुझे बहुत लगा और स्वच्छ भारत अभियान को चलाने से वातावरण स्वच्छ और सुंदर होगा इसकी जानकारी मुझे मिली। आज के रमन के गोठ में किरगोली के रायसिंह नेताम, हेमलता नेताम, तरूणा मंडावी, सुखचंद मंडावी, घंश्याम जैन, माध्व दर्रो, महेश कुमार विश्वकर्मा, रागिनी हेमरोम, लक्ष्मीकांत साहू, बिरेन्द्र कुमार और ललिता बेक ने अपनी अपनी प्रतिक्रयाएं दी।,
रमन के गोठ कार्यक्रम मंे उप सरपंच श्रीमती कमितला मंडावी, पंच सतीश उइके, बिरेन्द्र उइके, श्रीमती त्रिवेणी मंडावी, श्रीमती हेमलता नेताम, चंद्रवती कुलदीप, सुमन दर्रा, डिप्टी कलेक्टर सुश्री अनुप्रिया मिश्रा, तहसीलदार श्री टी.पी.साहू, सीईओ जनपद श्री जीडी गजबल्ला, सहित ग्रामीणजन उपस्थित थे।


क्र/ /सहारे/संत
 

Date: 
09 Oct 2016