Homeकवर्धा : रमन के गोठ से मिली छत्तीसगढ़ के गौरवशाली इतिहास की जानकारी : नीम पेड़ के छांव में सुना गया रमन के गोठ

Secondary links

Search

कवर्धा : रमन के गोठ से मिली छत्तीसगढ़ के गौरवशाली इतिहास की जानकारी : नीम पेड़ के छांव में सुना गया रमन के गोठ

Printer-friendly versionSend to friend

कवर्धा, 14 अगस्त 2016

मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता ’रमन के गोठ’ की 12वीं कड़ी का प्रसारण आकाशवाणी के रायपुर केन्द्र से रविवार 14 अगस्त को सवेरे 10.45 बजे से 11.05 बजे तक किया गया। रमन के गोठ कार्यक्रम को कवर्धा के वीर सावरकर के भवन के सामने नीम पेड़ के छांव में नगर के गणमान्य नागरिकों ने उपस्थित होकर सुना। इस अवसर पर जिला पंचायत सदस्य श्री परदेशी पटेल, नगर पालिका के उपाध्यक्ष श्री मनोज गुप्ता, पार्षद श्री उमंग पाडेय, श्री सचिन अग्रवाल, श्री रूपेश जैन, श्री हामिद सिद्धिकी,श्रीमती विजय लक्ष्मी तिवारी, राजकुमार शिवहरे, श्री राजेश सिंह क्षत्रीय, श्री चन्द्रिका सिंह ठाकुर, सहित नगर पालिका के मुख्यकार्यपालन अधिकारी श्री सुदेश सिंह ठाकुर सहित अनेक गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। रमन के गोठ कार्यक्रम के बाद जिला पंचायत सदस्य श्री परेदशी पटेल ने अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के मासिक रेडिया वार्ता रमन के गोठ के 12 वीं कड़ी का प्रसारण किया गया। यह 12वीं कड़ी प्रदेश वासियों सहित खास कर युवा वर्ग के लिए प्रेरणादायक और ज्ञानवर्धक साबित होगी। इस कड़ी के माध्यम से हमे छत्तीसगढ़ के स्वंतत्रता एवं स्वाधीनता के गौरवशाली इतिहास के बारे में विस्तार से जानकारी मिली। श्रीमती विजय लक्ष्मी तिवारी ने कहा कि छत्तीसगढ़ के अनेक स्वंतत्रता संग्राम सेनानियों ने अपने प्राणों की आहूति दी है। सोनाखान के शहीद वीर नारायण सिंह की गौरवशाली इतिहास इस को रेखांकित करती है,कि हमारे प्रदेश के अनेक स्वतत्रंता संग्राम सेनानियों ने अपने प्राणों की आहूति दी हैं। नगर पालिका उपाध्यक्ष श्री मनोज गुप्ता ने भी रमन के गोठ कार्यक्रम को प्रेरणा दायक बताया है।  उन्होने कहा कि 12वीं कड़ी के माध्यम से हमे अनेक जानकारी मिली है,जो हमारे और अपने वाली पीढ़ियों को अध्ययन करने की जरूरत है। पार्षद उमंग पाडेय ने कहा कि परलकोट विद्रोह, कण्डेल नहर सत्याग्रह, सविनय अवज्ञा आंदोलन, जंगल सत्याग्रह के इतिहास को जानने का अवसर ‘रमन के गोठ’ कार्यक्रम से मिला है।


समाचार-गुलाब डडसेना
 



 

Date: 
14 Aug 2016