Homeकोण्डागांव : अनवरत बारिश में भी रमन के गोठ सुनने को जुटे ग्राम किबई बालेंगा के ग्रामीण : युवाओं के कौशल उन्नयन एवं उच्च शिक्षा पर आधारित रहा रेडियो प्रसारण

Secondary links

Search

कोण्डागांव : अनवरत बारिश में भी रमन के गोठ सुनने को जुटे ग्राम किबई बालेंगा के ग्रामीण : युवाओं के कौशल उन्नयन एवं उच्च शिक्षा पर आधारित रहा रेडियो प्रसारण

Printer-friendly versionSend to friend

अब कलेक्टर के अनुमति के बगैर कोई भी कंपनी नहीं खोल पायेगी अपना कारोबार
‘‘प्रयास आवासीय विद्यालय‘‘ के बच्चों ने छु ली शिक्षा की नई बुलन्दियों को
किसानों को मिलेगा अब 5 लाख तक का ब्याज मुक्त ऋण - डॉ. रमन सिंह


कोण्डागांव 10 जुलाई 2016

दिनांक 10 जुलाई 2016 को बहुचर्चित रेडियो कार्यक्रम ‘‘रमन के गोठ‘‘ के 11वीं कड़ी का प्रसारण किया गया। विकासखण्ड कोण्डागांव के ग्राम पंचायत किबई बालेंगा के पंचायत भवन में रेडियो कार्यक्रम को सुनने के लिए ग्रामीण बड़ी संख्या में उपस्थित थे। गौरतलब है कि अंचल में विगत् 3-4 दिनों से लगातार वर्षा की झड़ी लगी हुई। फिर भी ग्रामीणों ने धैर्यपूर्वक प्रदेश के मुख्यमंत्री के उद्बोधन को सुना और सकारात्मक प्रतिक्रियाऐं दी।
    आज प्रसारित रेडियो कार्यक्रम में माननीय मुख्यमंत्री ने नई युवा नीति की तैयारी, बाल भविष्य सुरक्षा योजना एवं प्रयास आवासीय विद्यालय के बच्चों के बेहतर प्रदर्शन का जिक्र करते हुए कहा कि युवाओं पर ध्यान देने के लिए पूर्व से ही प्रयास किए गए है जिसके उत्साहवर्धक परिणाम आए है। प्रदेश की युवा नीति के निर्माण हेतु ग्राम सभाओं में विशेष चर्चा होनी चाहिए और इसमें लोगो द्वारा दिए गए सुझाव एवं प्रतिक्रिया पर अमल किया जायेगा। प्रदेश में उच्च शिक्षा हेतु ट्रिपल आईटी, एनआईटी, एम्स जैसी संस्थाऐं प्रारंभ है और नक्सली हिंसा से पीड़ित इलाको में भी बच्चों को उच्च शिक्षा देने के लिए ‘‘प्रयास आवासीय विद्यालय‘‘ खोले गए है। जिसका लाभ उन्हें हर साल मिल रहा है। हालहि में जे.ई.ई. के रिजल्ट में प्रयास विद्यालय के बच्चों ने प्रशंसनीय सफलता पाई है। इसके साथ ही उन्होंने सुकमा और राजनांदगावं के चयनित बच्चें का भी उल्लेख किया।
    मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के किसानों मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के किसानों को 5 लाख रुपये तक के ब्याज मुक्त अल्पकालीन कृषि ऋण देने की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा ब्याज अनुदान की पात्रता हेतु प्रति हेक्टेयर असिचिंत भूमि पर 20 हजार एवं सिचिंत भूमि पर 25 हजार की ऋण सीमा को समाप्त कर दिया गया है। कौशन उन्नयन पर प्रकाश डालते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा कौशल विकास के लिए मनपसंद व्यवसायों पर प्रशिक्षण पाने का कानूनी अधिकार दिया गया है इस योजना के अंतर्गत प्रदेश के 3 लाख युवाओं ने प्रशिक्षण प्राप्त किया है एवं आत्मनिर्भर होने की दिशा में अग्रसर है।
    फर्जी चिटफंड कंपनियों पर नियंत्रण के उद्देश्य से सरकार द्वारा यह निर्णय लिया गया है कि किसी भी जिले में बिना कलेक्टर के अनुमति के चिटफंड कंपनिया अपना कारोबार नहीं कर सकती है और उन्होंने आम जनता से आग्रह किया कि बिना जांच पड़ताल के किसी भी कपंनी में पैसा न लगाएं। अपने प्रसारण में मुख्यमंत्री ने किसानों से अपील करते हुए कहा कि किसान भाई प्रधानमंत्री फसल बीमा से लाभान्वित होवे। और कृषि विभाग एवं कृषि विशेषज्ञों से सलाह लेकर खाद तथा बीज के सही अनुपात का प्रयोग करे जिससे फसल का संतुलित विकास हो। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने वर्षा ऋतु के आगमन के साथ ही नए शिक्षा सत्र का उल्लेख करते हुए शालेय एवं महाविद्यालयीन छात्रों को शुभकामनाएं दी। प्रथम बार शाला जा रहे बच्चों को सलाह देते हुए उन्होंने कहा कि शिक्षा ही जीवन को सुधारने का सबसे अच्छा माध्यम है। बच्चों को शाला में अच्छा वातावरण मिलने पर ही उनके मन में आदर्श शाला की छवि बनेगी जो उन्हें निरंतर शिक्षा के लिए प्रेरित करेगी। बच्चों को नियमित रुप से शाला भेजने में शिक्षक-शिक्षिकाओं एवं पालको की समान जिम्मेदारी है। इसी तरह बालिका शिक्षा ही नारी सशक्तिकरण की बुनियाद है। आज बेटियाँ पढ़ाई के कारण ही समाज में बेहतर मुकाम बना रही है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री द्वारा विभिन्न जिलों में शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य कर रहे शिक्षकों एवं पालको की विशेष रुप से सराहना करते हुए बधाईयाँ दी।
    ग्राम किबई बालेंगा के सरपंच लखमुराम कोर्राम ने बताया कि ‘‘रमन के गोठ‘‘ सुनने के लिए वे प्रतिमाह एक दिन पूर्व ही ग्राम में सूचित कर देते है। इस कार्यक्रम के द्वारा उन्हें नई योजनाओं की जानकारी मिलती है। जिससे वे ग्रामीणों को बताते है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री कौशल उन्नयन के तहत ग्राम के कई युवाओं ने लाईवलीहुड कॉलेज में राजमिस्त्री, मेकेनिक एवं ड्राईविंग का प्रशिक्षण भी लिया है। इस दौरान मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत योगिता देवांगन, उपसरपंच भवर सिंह कौशल, सचिव विश्वनाथ देवांगन, ग्राम के वरिष्ठ नागरिक बालसिंग, मंगड़ूराम, सुगन्तीन बाई एवं अन्य ग्रामीण उपस्थित थे।  


क्रमांक/1281/रंजीत


 

Date: 
10 Jul 2016