Homeकोण्डागांव : आकाशवाणी से ‘‘रमन के गोठ‘‘ की 15वीं कड़ी प्रसारण हुआ छोटे भिरावण्ड में : धान खरीदी की जानकारी देते हुए , प्रतिभावान बच्चो की उपलब्धियों की सराहना की मुख्यमंत्री ने

Secondary links

Search

कोण्डागांव : आकाशवाणी से ‘‘रमन के गोठ‘‘ की 15वीं कड़ी प्रसारण हुआ छोटे भिरावण्ड में : धान खरीदी की जानकारी देते हुए , प्रतिभावान बच्चो की उपलब्धियों की सराहना की मुख्यमंत्री ने

Printer-friendly versionSend to friend

अब प्रदेश के किसानों को मिलेगा रियायती दर पर सौर ऊर्जा से चलने वाले सिंचाई पंप
मुख्यमंत्री ने नक्सल पीड़ित क्षेत्र के बच्चों के बुलंद हौसले को किया सलाम
500 एवं 1000 के नोट बंदी पर देश की अर्थव्यवस्था सुदृढ़ बनेगी

कोण्डागांव 13 नवम्बर 2016

विकासखण्ड कोण्डागांव के ग्राम छोटे भिरावण्ड में 13 नवम्बर 2016 को ‘‘रमन के गोठ‘‘ की 15वीं कड़ी का प्रसारण किया गया। ग्राम पंचायत भवन में आयोजित कार्यक्रम के अवसर पर जिला कलेक्टर समीर विश्नोई सहित मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत योगिता देवांगन, ग्राम के सरपंच, वरिष्ठ नागरिक एवं भारी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का रेडियो प्रसारण प्रदेश में धान खरीदी, सौर सुजला योजना एवं राज्य के प्रतिभावान बच्चों की उपलब्धियों पर केन्द्रित रहा। धान खरीदी के विषय में मुख्यमंत्री ने बताया कि धान खरीदी 15 नवम्बर से शुरु होकर 31 जनवरी 2017 तक चलेगी। राज्य सरकार ने इस हेतु सहकारी समितियों के अंतर्गत 1986 उपार्जन केन्द्रो की स्थापना की है और 41 कृषि उपज मंडियो में समर्थन मूल्य के अनुसार धान खरीदी की जायेगी। धान उपार्जन केन्द्रो में तैनात कर्मचारियों और अधिकारियों से अपील करते हुए उन्होंने कहा कि वे किसानों से सम्मान जनक व्यवहार करें, ताकि धान खरीदी का कार्य अच्छे वातावरण में पूर्ण हो।
    सौर सुजला योजना का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत 2 साल में राज्य के 51 हजार किसानों को सौर ऊर्जा से चलने वाले सिंचाई पंप बहुत ही रियायती दरों पर दिए जायेंगे। इस योजना से राज्य में ढाई लाख एकड़ भूमि में सिंचाई होने लगेगी। देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु की जयंती (14 नवम्बर) का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि राज्य के प्रतिभावान बच्चों की विभिन्न उपलब्धियों ने छत्तीसगढ़ का मान बढ़ाया है। विज्ञान के क्षेत्र में दिए जाने वाले राष्ट्रीय इग्नाईट अवार्ड के लिए राज्य के 3 बच्चों का चयन किया गया है। जिनमें राज्य के नक्सल हिंसा पीड़ित इलाको के बच्चे रोशन सोरी, इंदू मानिकपूरी भी है। दंतेवाड़ा निवासी कक्षा 7वीं की छात्रा इंदू मानिकपुरी की प्रशंसा करते हुए उन्होंने बताया कि उक्त छात्रा ने शौचालयों के सेप्टिक टैंक भरने और ओवर फ्लो से होने वाले प्रदुषण को रोकने वाले सेप्टिक टेंक प्रेशर रिकार्डर का मॉडल बनाया है। इसी प्रकार सुकमा जिले के पोटाकेबिन में पढ़ाई कर रहे कक्षा 6वीं के छात्र रोशन सोरी ने पोलिंग बूथ से इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन में दर्ज आकड़ों को सीधे कन्ट्रोल रुम भेजने का प्रयोग किया है। डॉ. रमन सिंह द्वारा दोनों मेधावी छात्रों को शुभकामना दी गई है। अपने प्रसारण में डॉ. रमन सिंह द्वारा पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जन्म शताब्दी वर्ष के संदर्भ में उनके एकात्मक मानववाद और अंत्योदय के सिद्धांतो का भी उल्लेख किया गया।
    प्रसारण के उपरांत कलेक्टर समीर विश्नोई ने ग्रामीणों से चर्चा के दौरान कहा कि राज्य शासन के निर्देशानुसार जिले के सभी धान उपार्जन केन्द्रो में धान खरीदी हेतु आवश्यक व्यवस्था की गई है, फिर भी यदि इस संबंध में किसी भी प्रकार की असुविधा होने पर जिला कार्यालय को सूचित किया जा सकता है, जिस पर तत्काल कार्यवाही की जायेगी। इसी प्रकार जिले में नोट बंदी के विषय में उन्होंने बताया कि बैंको द्वारा नए नोट मंगवाये जा रहे है, इससे शीघ्र ही आमजनों को हो रही दिक्कतों से निजात मिलेगी। उन्होंने ग्रामीणों को आगाह करते हुए कहा कि पुराने नोटो के संबंध में कुछ तत्वों द्वारा भ्रामक जानकारी फैलाई जा सकती है, अतः इस संबंध में सतर्कता बरती जानी चाहिए। बच्चों के भावी भविष्य में शिक्षा को सर्वाधिक महत्वपूर्ण बताते हुए उन्होंने कहा कि शिक्षा का कोई विकल्प नहीं है अतः बच्चों को शिक्षा देने में जितनी जिम्मेदारी शिक्षक की है, उतनी ही पालकों की भी है। जब तक पालक शिक्षा का महत्व नहीं समझेंगे, तब तक शिक्षा में उल्लेखनीय सुधार नहीं होगा। अतः पालक न केवल अपने बच्चों को रोजाना स्कूल भेंजे बल्कि बच्चों की शैक्षणिक विकास और गतिविधियों से अवगत रहे। स्वच्छ भारत मिशन पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा शौचालय बनाने के लिए शासन का इंतजार न करके स्वंय बनाकर उपयोग किया जाना चाहिए। क्योंकि शौचालय का उपयोग ग्रामीणों को स्वंय करना है, क्योंकि यह उनके स्वच्छता एवं स्वास्थ्य से जुड़ा मुद्दा है। शासन द्वारा यह भी निर्देश दिया गया है कि जिन गांव में शौचालय शत्-प्रतिशत होंगे उन्हीं ग्रामों में विकास कार्य जैसे सड़के, नाली निर्माण, पेयजल व्यवस्था को सर्वप्रथम पूर्ण किया जायेगा। इसी प्रकार शौचालय बनने एवं उसके उपयोग के बाद ही आवश्यक राशि दिए जाने का भी प्रावधान है। उज्जवला योजना के संदर्भ में उन्होंने कहा कि शासन की इस महत्वाकांक्षी योजना के माध्यम से पर्यावरण रक्षा, प्रदुषण से बचाव एवं महिलाओं के स्वास्थ्य को सर्व प्राथमिकता दी गई है। अतः योजना से अधिक से अधिक महिलाओं को लाभान्वित करें। इस दौरान ग्रामीणों ने ग्राम से संबंधित मांगो और समस्याओं से कलेक्टर को अवगत कराया और शीघ्र समाधान करने का निवेदन किया। जिस पर कलेक्टर ने शीघ्र निराकरण की बात कही।


क्रमांक/1554/रंजीत


 

 

Date: 
13 Nov 2016