Homeकोण्डागांव : कोण्डागांव जिले के विभिन्न ग्राम पंचायतों में भी सुना गया ‘‘रमन के गोठ‘‘ : ग्राम बैजनपुरी, कोकोड़ी, जैसे संवेदनशील अंचलो एवं महिला और वृद्धजनों ने उत्साहपूर्वक सुना प्रदेश के मुखिया की बात

Secondary links

Search

कोण्डागांव : कोण्डागांव जिले के विभिन्न ग्राम पंचायतों में भी सुना गया ‘‘रमन के गोठ‘‘ : ग्राम बैजनपुरी, कोकोड़ी, जैसे संवेदनशील अंचलो एवं महिला और वृद्धजनों ने उत्साहपूर्वक सुना प्रदेश के मुखिया की बात

Printer-friendly versionSend to friend

कोण्डागांव 13 दिसम्बर 2015


    दिनांक 13.12.2015 को कोण्डागांव जिले के दूरस्थ ग्राम बैजनपुरी, कोकोड़ी के पंचायत भवन में ग्रामीणों ने धैर्य एवं उत्साह पूर्वक रेडियो पर मुख्यमंत्री डॉ. रमनसिंह का संबोधन सुना। ग्राम पंचायत कोकोड़ी एवं बैजनपुरी के ग्रामवासी रेडियों वार्ता के प्रारंभ होने के आधा घण्टा पहले ही पंचायत भवन में उपस्थित हो गये थें। पंचायत भवन में एक रेडियों के अलावा एक अन्य रेडियों की भी व्यवस्था की गई थी। कृषको, श्रमिकों एवं प्रदेश में धार्मिक सदभाव पर मुख्यतः केन्द्रित अपने संबोधन में मुख्यमंत्री द्वारा सूखा पीड़ित कृषकों के लिए राहत के तहत मुआवजे के राशि की शीघ्र वितरण की बात कही। उन्होंने कहा कि जिले के सभी कलेक्टर आर.बी.सी.-6-4 के तहत् राहत राशि का वितरण शीघ्र करेंगें। विश्व मृदा दिवस पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि मिट्टी की उर्वर क्षमता को जांचने के लिए मृदा परीक्षण करवाना आवश्यक हैं। क्योंकि फसल की कम या ज्यादा पैदावार मृदा में उपस्थित आवश्यक तत्वों पर ही निर्भर करती हैं। इस हेतु मिट्टी के नमूनों की जांच के लिए राज्य में 8 नये प्रयोगशालायें खोली जायेगी। उन्होंने प्रसन्नता जाहिर किया कि दंतेवाड़ा जिले के 128 गांव में 1000 से भी ज्यादा किसान जैविक खेती कर रहे हैं।  
    मुख्यमंत्री द्वारा अपने रेडियों प्रसारण में विशेष पिछड़ी जनजातियों के विकास के लिए समयबद्ध विशेष अभियान श्रमिक कल्याण बीमा योजनाओं एवं धार्मिक सदभाव के विषय का उल्लेख किया गया। इसी प्रकार विकासखण्ड कोण्डागांव के ग्राम डोंगरीगुड़ा में भी आकाशवाणी के द्वारा ‘‘रमन के गोठ‘‘ के प्रसारण के विषय में सरपंच ब्रजलाल सोरी एवं उप सरपंच धानियाराम सोरी ने बताया कि गांव के लोग नियमित रुप से ‘‘रमन के गोठ‘‘ का प्रसारण सुनते हैं। और इस माध्यम से उन्हें शासन की जनहितकारी योजनाओं की जानकारी प्राप्त होती हैं। इसी गांव के माँ दुर्गा स्व-सहायता समूह की महिलाएं सुकली, सहादई, बैसाखिन एवं मुंगली द्वारा भी प्रसारण का ध्यानपूर्वक सुना गया।

 

क्रमांक 921 - रंजीत


 

Date: 
13 Dec 2015