Homeकोण्डागांव : ग्रामीणों के मन में पैठ बना चुका है ‘‘रमन का गोठ‘‘ : हिन्दी एवं छत्तीसगढ़ी दोनों भाषाओं में श्रोताओं के समक्ष रखी अपनी बात

Secondary links

Search

कोण्डागांव : ग्रामीणों के मन में पैठ बना चुका है ‘‘रमन का गोठ‘‘ : हिन्दी एवं छत्तीसगढ़ी दोनों भाषाओं में श्रोताओं के समक्ष रखी अपनी बात

Printer-friendly versionSend to friend

स्व-सहायता समूह की महिलाओं एवं वरिष्ठ नागरिको में भी दिखी उत्सुकता


कोण्डागांव 14 फरवरी 2016

 दिनांक 14 फरवरी 2016 को आकाशवाणी और क्षेत्रीय न्यूज चैनलों से प्रसारित मासिक रेडियो वार्ता ‘‘रमन के गोठ‘‘ की छठवी कड़ी को कोण्डागांव जिले के नगरीय क्षेत्र सहित ग्रामीण क्षेत्रों में भी उत्साहवर्धक प्रतिसाद मिला। इस क्रम में विकासखण्ड कोण्डागांव के ग्राम पंचायत माकड़ी में स्व-सहायता समूह की महिलाएं, पंच, सरपंच, वरिष्ठ नागरिक एवं छात्रों ने मुख्यमंत्री द्वारा जनता से अपने विचार साझा करने के कार्यक्रम को सराहनीय बताया।
    कार्यक्रम रेडियो प्रसारण में मुख्यमंत्री ने विभिन्न जिलों के श्रोताओं के नाम लेते हुए उनके द्वारा भेजे गए सुझाव का उल्लेख करते हुए बसंत पंचमी एवं माघ पुन्नी पर्व की शुभकामना दी। राजिम कुम्भ मेले के भव्य आयोजन की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि कुम्भ मेले में देश के बड़े संत एवं महात्माओं के आगमन के साथ ही सत्संग एवं प्रवचन का आध्यात्मिक आयोजन राज्य शासन द्वारा किया जायेगा।

तनाव मुक्त होकर परीक्षा देवें - डॉ. रमन सिंह

    23 फरवरी से प्रारंभ होने वाले 10वीं एवं 12वीं बोर्ड परीक्षाओं के संदर्भ में उन्होंने छात्र-छात्राओं को शुभकामना देते हुए कहा कि वे पूरे परिश्रम एवं लगन के साथ परीक्षा में बैठे और सफल होवे। उन्होंने बच्चों से कहा कि असफलता से ही सफलता का मूल मंत्र निकलता हैं। सभी की वैचारिक क्षमता बराबर नहीं होती। अतः कम नंबर मिलने पर हताश एवं निराश होने की आवश्यकता नहीं हैं। बल्कि जीवन के संघर्ष में खेल भावना के साथ आगे बढ़ने की जरुरत हैं। अपने बाल्य काल को याद करते हुए उन्होंने कहा कि वे भी स्कूल की प्राथमिक परीक्षाओं में बहुत आगे नहीं हुआ करते थें लेकिन बाद की परीक्षाओं में उन्होंने बेहतर किया। बच्चों की सुखद भविष्य की कामना करते हुए उन्होंने कहा कि एक अच्छे डॉक्टर, इंजीनियर, कलेक्टर, वैज्ञानिक, शिक्षक बनने के सपने को अवश्य पूरा करें।

महिलाओं के खिलाफ अपराध रोकने हेतु सरकार संकल्प बद्ध

    इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने घरेलू हिंसा, लैंगिक उत्पीड़िन, दहेज हिंसा, यौन अपराध से पीड़ित महिलाओं को न्याय दिलाने हेतु सरकार के संकल्प को दोहराया। उन्होंने कहा कि पीड़ित महिलाओं को न्याय दिलाने हेतु राजधानी रायपुर में देश के प्रथम सखी वन स्टॉप सेंटर की स्थापना की गई हैं। और इसका हेल्प लाईन (टोल फ्री नंबर) 181 और कार्यालय का टेलीफोन नंबर 0771-4061215 हैं। इस सेंटर में पीड़ित महिलाओं को पुलिस सुरक्षा एवं परामर्श चिकित्सा सुविधाओं के साथ-साथ 5 दिवस तक रुकने की सुविधा प्रदान की जायेगी।

तेंदुपत्ता संग्राहकों की बढ़ी मजदूरी
    डॉ. रमन सिंह ने अपने रेडियो प्रसारण में बताया कि आदिवासियों को तेंदुपत्ता सहित लघु वनोपज के संग्रहण का लाभ दिलाने और बिचोलियो से बचाने हेतु राज्य शासन द्वारा लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। तेंदुपत्ता संग्रहण की वर्तमान दर 1200/- प्रति मानक बोरा से बढ़ाकर 1500/-रुपये प्रति मानक बोरा कर दिया गया है। इससे राज्य के लगभग 15 लाख संग्राहक परिवार लाभान्वित होंगें। इसके साथ ही फड़मुशियो को प्रति मानक बोरा 25/- रुपये का कमीशन मिलेगा और प्राथमिक लघु वनोपज सहकारी समितियों के प्रबंधको का मासिक वेतन 8000/- रुपये से बढ़ाकर 10000/- रुपये किया गया हैं और संग्राहको को चरण पादुकाएं निःशुल्क प्रदाय की जायेगी।

कौशल उन्नयन और रोजगार परक शिक्षा पर विशेष ध्यान - डॉ. सिंह

    मुख्यमंत्री द्वारा युवाओं को कौशल उन्नयन एवं रोजगार परख शिक्षा राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों की जानकारी दी गई। उन्होंने बताया कि नया रायपुर में ट्रीपल आईटी की स्थापना की जा चुकी हैं और भिलाई में आई.आई.टी. की स्थापना का कार्य प्रगति पर हैं। इसके साथ ही सभी 27 जिलों में लाईवलीहुड कॉलेज खोले गए हैं और हर विकासखण्ड में कम से कम एक आई.टी.आई. खोलने का लक्ष्य रखा गया हैं। इसके अलावा सीधी भर्ती के पदों पर आयु सीमा बढ़ाने के साथ-साथ तृतीय श्रेणी तथा चतुर्थ श्रेणी के पदो के लिए साक्षात्कार के प्रावधान को खत्म कर दिया गया हैं।


        रेडियो प्रसारण पर प्रतिक्रिया देते हुए ग्राम पंचायत माकड़ी की महिला सरपंच लुदोदेवी मौर्य ने बताया कि गांव में प्रतिमाह मुख्यमंत्री के रेडियो प्रसारण को नियमित रुप से सुना जाता है और इससे शासन की योजनाओं की जानकारी मिलती है। कक्षा 10वीं के छात्र मिथिलेश नाग एवं रोहित कुमार मौर्य ने मुख्यमंत्री द्वारा परीक्षा के संदर्भ में शुभकामनाएं देने पर कहा कि उनकी परीक्षा की तैयारी पूर्ण हो चुकी हैं। इसी प्रकार स्व-सहायता समूह की महिलाओं ने भी तेंदुपत्ता के मानदेय बढ़ाने पर प्रसन्नता जताया। इस अवसर पर मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत योगिता देवांगन, पंच दीनूराम, हीरामनी कश्यप, प्रधान अध्यापक प्रभुराम नाग, ग्राम सचिव संतराम मरकाम, तकनीकी सहायक अजीत खापडे सहित वरिष्ठ ग्रामवासी मौजूद थें।
    कार्यक्रम के समाप्त होने पर मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत ने बताया कि ग्राम में मनरेगा के तहत 46 कार्य स्वीकृत हो चुके हैं जिनमें 12 कार्य पूर्ण है। इसी प्रकार डबरी निर्माण के 10 कार्य स्वीकृत किए है जिनमें 1 पूर्ण एवं 6 प्रगतिरत है।

    इसके साथ ही कोण्डागांव जिले के विभिन्न ग्राम पंचायत बफना, खण्डाम, झारा, छिंदली, बोरगांव एवं कोहकामेटा ग्रामों में भी मुख्यमंत्री जी के कार्यक्रम ‘‘रमन के गोठ‘‘ का श्रवण किया गया।  


 

क्रमांक/1028/रंजीत


 

Date: 
14 Feb 2016