Homeकोण्डागांव : चिचडोंगरी के ग्रामीणों ने उत्साहपूर्वक सुना ‘‘रमन के गोठ‘‘ कार्यक्रम : राज्य सरकार के 13 साल के प्रयासों को ग्रामीणो ने सराहा

Secondary links

Search

कोण्डागांव : चिचडोंगरी के ग्रामीणों ने उत्साहपूर्वक सुना ‘‘रमन के गोठ‘‘ कार्यक्रम : राज्य सरकार के 13 साल के प्रयासों को ग्रामीणो ने सराहा

Printer-friendly versionSend to friend

कोण्डागांव 11 दिसम्बर 2016

जिले के विकासखण्ड कोण्डागांव के ग्राम चिचडोंगरी में ‘‘रमन के गोठ‘‘ की 16वीं कड़ी के प्रसारण  को पंचायत पदाधिकारियों और ग्रामीणों ने उत्साहपूर्वक श्रवण किया। ग्राम पंचायत भवन के परिसर में आयोजित कार्यक्रम के अवसर पर मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत योगिता देवांगन, ग्राम के सरपंच बालसिंह नाग, उप सरपंच दल्लूराम दीवान, जनपद सदस्य श्यामनाथ नेताम सहित ग्राम के  वरिष्ठ नागरिक एवं भारी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का रेडियो प्रसारण में कहा कि जनता के प्यार, सहयोग, समर्थन और मार्गदर्शन से ही मैं इस काबिल बन सका कि बड़े निर्णय ले सकूं। उन्होंने कहा कि आज जब मैं तेरह साल पीछे पलटकर देखता हूं तो मुझे लगता है कि छत्तीसगढ़ में जिन योजनाओं पर अमल किया है, वे देश के लिए भी अनुकरणीय हैं। जनता ने ही मुझे बड़े निर्णय लेने और उनके क्रियान्वयन की ताकत दी।
    अपने रेडियो प्रसारण में डॉ. सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा कैशलेस समाज बनाने  के आव्हान की चर्चा करते हुए उन्हें दृढ़ संकल्पित और दूरदर्शी प्रधानमंत्री बताया। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार, आतंकवाद, नक्सलवाद और महंगाई जैसी बड़ी समस्याओं की जड़ काला धन है। इसलिए प्रधानमंत्री ने काले धन के खिलाफ सीधी लड़ाई छेड़ दी है। डॉ. सिंह ने विमुद्रीकरण के विकल्प के रूप में नकदीरहित लेनदेन के लिए छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा राज्य की जनता को दी जा रही विभिन्न सुविधाओं पर भी विस्तार से प्रकाश डाला। इसके अलावा उन्होंने बताया कि जब व्यक्तिगत रूप से हम नकद राशि का लेनदेन नहीं करेंगे और जब सभी लोग कार्ड या ई-भुगतान के माध्यम से लेन-देन करने लगेंगे तब करेंसी नोटों को अपनी जेब में लेकर घूमने की समस्या ही समाप्त हो जाएगी और ‘नकद विहीन समाज अथवा कैशलेस सोसायटी का निर्माण होगा और नकदी का भी दुरूपयोग रूकेगा।  
    डॉ. सिंह ने अपने रेडियो वार्ता में श्रोताओं को बताया कि कॉलेजों में पढ़ाई करने वाली बेटियों के लिए निःशुल्क शिक्षा की व्यवस्था की गई है। इंजीनियरिंग और पॉलीटेक्निक में पढ़ाई करने वाली बेटियों के लिए शिक्षण शुल्क माफ किया गया है। मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत गरीब परिवारों की 67 हजार बेटियों के विवाह हुए हैं। बुजुर्गों के लिए मुख्यमंत्री तीर्थ यात्रा योजना का भी डॉ. सिंह ने जिक्र किया और बताया कि लगभग दो लाख वरिष्ठजनों को इस योजना में निःशुल्क तीर्थ यात्रा करायी गई है। मुख्यमंत्री ने कौशल विकास योजना और उच्च शिक्षा के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ में प्राप्त सफलताओं का भी उल्लेख किया। उन्होंने बताया कि प्रदेश के सभी 27 जिलों में युवाओं के कौशल उन्नयन के लिए लाइवलीहुड कॉलेज खोले गए हैं। छत्तीसगढ़ राज्य का निर्माण हुआ तो राष्ट्रीय स्तर के कोई संस्थान नहीं थे। आज हमारे पास आईआईटी, एनआईटी, आईआईएम, ट्रिपल-आईटी, नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी हैं। प्रदेश में अब मेडिकल कॉलेजों की संख्या दस हो गई है। वहीं इंजीनियरिंग कॉलेजों की संख्या 49 तक पहुंच गई है। यह सब छत्तीसगढ़ के युवाओं को नये अवसर देने के लिए एक बड़ा कदम है। डॉ. रमन सिंह ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की प्रमुख योजनाओं का भी विशेष रूप से उल्लेख किया। इसके अलावा उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत छत्तीसगढ़ में दो साल के भीतर 25 लाख बहनों को सिर्फ 200 रूपए में निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन के तहत सिलेण्डर और चूल्हा दिया जा रहा है। प्रधामंत्री आवास योजना के तहत वर्ष 2022 तक प्रत्येक गरीब परिवार को मकान दिए जाएंगे। इस योजना में लगभग आठ हजार करोड़ रूपए खर्च होंगे। सौर सुजला योजना में 51 हजार गरीब परिवारों को तीन हार्स पावर और पांच हार्सपावर के सोलर सिंचाई पम्प काफी कम कीमत पर दिए जाएंगे। उक्त योजना से अंदरूनी विद्युतविहीन ईलाकों के किसानों को सोलर सिंचाई पंप से उन्नत खेती-किसानी के लिए मदद मिलेगी। वहीं किसान अपने परिवार को आर्थिक रूप से सक्षम बनाकर खुशहाली की ओर अग्रसर होंगे।


क्रमांक/1614/घनश्याम


 

Date: 
11 Dec 2016