Homeकोण्डागांव : सुदूर ग्राम पोलंग के ग्रामीणों ने भी सुना ‘‘रमन के गोठ‘‘ : अब सूखा पीड़ित किसानों की बेटियों के विवाह में मिलेगी दोगुनी सहायता

Secondary links

Search

कोण्डागांव : सुदूर ग्राम पोलंग के ग्रामीणों ने भी सुना ‘‘रमन के गोठ‘‘ : अब सूखा पीड़ित किसानों की बेटियों के विवाह में मिलेगी दोगुनी सहायता

Printer-friendly versionSend to friend

कोण्डागांव 10 जनवरी 2016


    दिनांक 10/01/2016 को आकाशवाणी से ‘‘रमन के गोठ‘‘ शीर्षक कार्यक्रम की पांचवी कड़ी का 10.45 से 11 बजे तक प्रसारण हुआ। इस क्रम में विकासखण्ड कोण्डागांव के सुदूर वनांचल ग्राम पोलंग में भी ग्रामीणों एवं स्कूली बच्चों ने उत्सुकता से मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिह की बातो को सुना।
    समसामयिक विषयों, तीज, त्यौहारों, जनकल्याणकारी योजनाओं के संबंध में संवाद करते हुए मुख्यमंत्री रमन सिंह ने सर्वप्रथम छेर-छेरा पुन्नी पर्व, मकर सक्रांति, गणतंत्र दिवस एवं स्वामी विवेकानंद की जंयती पर शुभकामना देते हुए कहा कि नए वर्ष में सरकार नए संकल्प के साथ सामाजिक, आर्थिक वचनबद्धताओं को पुरा करने के लिए कटिबद्ध हैं। आंगनबाड़ी गुणवत्ता अभियान एवं कुपोषण मुक्ति के लिए राज्य सरकारों के प्रयासों पर उन्होंने कहा कि 4 जनवरी से प्रदेश व्यापी आंगनबाड़ी गुणवत्ता उन्नयन अभियान प्रारंभ हो गया हैं। अभियान के तहत गर्भवती महिलाओं एवं बच्चों को कुपोषण से मुक्त करने के लिए पोषण आहार का वितरण आंगनबाड़ी एवं कुपोषित बच्चों को गोद दिलाने का क्रियान्वयन, रेडी-टू-ईट यूनिट तथा आंगनबाड़ी केन्द्रो के निरीक्षण और पोषण मेले का आयोजन किया जा रहा हैं। प्रदेश में कुपोषण की दर 52 प्रतिशत से घटकर 32 प्रतिशत हो गयी हैं। जबकि इस वर्ष 2016 में इसे और भी घटाकर 25 प्रतिशत तक लाने का लक्ष्य रखा गया हैं। सूखा पीड़ित किसानों के संदर्भ में उन्होंने कहा कि 117 तहसीलों में सूखे की स्थिति हैं। जहां जरुरतमंद लोगो को मनरेगा के तहत 150 दिनों के साथ-साथ 50 अतिरिक्त दिनों को रोजगार दिया जायेगा। साथ ही प्रभावित इलाकों में किसानों कि विवाह योग्य बेटियों के मांगलिक कार्य के लिए मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत अब तक दी जा रही 15000 रुपये की सहायता को दोगुना करके के 30000 रुपये करने का निर्णय लिया गया हैं। इसके अलावा डॉ. सिंह ने बताया कि 20 हजार हेक्टेयर में मक्का उत्पादन के लिए 400 मेट्रिक टन मक्के के मिनीकिट किसानों को निःशुल्क देने के साथ-साथ हर जिले में किसानों की समस्याओं को सुनने और निराकरण के लिए किसान मितान केन्द्र बनाया जायेगा। अपने संवाद में मुख्यमंत्री ने राजधानी रायपुर में आयोजित किए जा रहे राष्ट्रीय युवा उत्सव 2016 को भी जिक्र किया।
    ‘‘रमन के गोठ‘‘ के विषय में भी ग्राम पोलंग के ग्रामीणों ने उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया देते हुए बताया कि वे नियमित रुप से इस कार्यक्रम को सुनते हैं और इससे उन्हें योजनाओं की जानकारी मिलती हैं। ग्राम पंचायत सचिव तीजू राम नाग ने बताया कि मनरेगा के तहत गांव में भूमि मरम्मत के 7 कार्य चल रहे हैं। इसके अलावा डबरी निर्माण के 4 एवं बकरी पालन शेड के 4 कार्य स्वीकृत हैं। आंगनबाड़ी गुणवत्ता अभियान के संदर्भ में उपस्थित आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने बताया कि अभियान के अंतर्गत आंगनबाड़ी मित्र एवं बाल मित्रों द्वारा बच्चें गोद लिए गए हैं। स्वंय गांव की सरपंच श्रीमती सुबती द्वारा ‘‘हरमनी‘‘ नामक बच्ची को भी गोद लिया गया हैं। इस दौरान मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत योगिता देवांगन द्वारा उपस्थित ग्रामीणों को शासन की विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं जैसे मनरेगा, प्रधानमंत्री बीमा योजना की जानकारी देते हुए लाभान्वित होने को कहा गया। इस संबंध में ग्राम पंचायत सचिव तीजू राम ने सर्पदंश से हुई मृत्यु के मामले की जानकारी देते हुए बताया कि मृतक  जयलाल के परिजनों को प्रधानमंत्री बीमा योजना के तहत 2 लाख रुपया एवं राष्ट्रीय परिवार सहायता योजनांतर्गत 20 हजार और आपदा राहत राशि के तहत 4 लाख रुपया प्रदाय किया गया हैं। इसके साथ ही जिला कोण्डागांव के ग्राम प्रधानचेरा, गारावण्डी, अडेंगा, सिदावण्ड, सुकूरपाल, बड़ेबेन्दरी, मालगांव, छिन्दली, अरण्डी ग्रामों में भी ‘‘रमन के गोठ‘‘ को ग्रामीणों द्वारा सुना गया।


क्रमांक/964/रंजीत

 

Date: 
10 Jan 2016