Homeकोण्डागांव : ‘‘रमन के गोठ की सातवीं कड़ी का हुआ प्रसारण‘‘ :ग्राम मालाकोट की नवसाक्षर महिलाओं ने बताया प्रेरणादायी

Secondary links

Search

कोण्डागांव : ‘‘रमन के गोठ की सातवीं कड़ी का हुआ प्रसारण‘‘ :ग्राम मालाकोट की नवसाक्षर महिलाओं ने बताया प्रेरणादायी

Printer-friendly versionSend to friend

कोण्डागांव 13 मार्च 2016

                कोण्डागांव विकासखण्ड के ग्राम मालाकोट में दिनांक 13.03.2016 को ‘‘रमन के गोठ‘‘ कार्यक्रम का ग्रामीणों ने उत्सुकता पूर्वक श्रवण किया। इस माह अपने कार्यक्रम में सर्वप्रथम माननीय मुख्यमंत्री द्वारा सर्वप्रथम स्वर्गीय संत पवन दीवान को श्रद्धांजलि देते हुये उनके बताये हुये आदर्शों पर अमल करने को कहा। तत्पश्चात उन्होने प्रदेशवासियों को होली तथा विश्व जल दिवस की शुभकामनायें दी। अपने संबोधन में उन्होने कहा कि 1 अप्रैल से शुरू हो रहे शाला प्रवेश उत्सव के दौरान 6 वर्ष से अधिक उम्र के स्कूल जाने लायक सभी बच्चों का दाखिला सुनिश्चित करें। चूंकि नया शिक्षा सत्र इस वर्ष 1 अप्रैल से शुरू होने जा रहा है अतः राज्य सरकार द्वारा यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि कक्षा पहलीं से दसवीं तक सभी बच्चों को उनकी मुफ्त स्कूली किताबें उनके शिक्षा सत्र शुरू होने से पहले मिल जाये। लगभग उन्सठ लाख बच्चों को इन किताबों की दो करोड़ इन्कानवे लाख प्रतियां निःशुल्क दी जायेंगी। माननीय मुख्यमंत्री द्वारा अपने रेडियो प्रसारण में सभी छात्र-छात्राओं को स्कूल कॉलेज की परीक्षाओं के नतीजों से असफल होने पर विचलित न होने का हौसला दिया। उन्होने कहा कि हर असफलता, सफलता की प्रथम सीढ़ी है अतः जिनके पेपर कमजोर गए हैं वे निराश ना होवें क्योंकि जीवन के सारे सफलता के दरवाजे बंद नही होते हैं। जीवन में सभी महत्वपूर्ण व्यक्ति भी कभी ना कभी असफल जरूर हुए हैं लेकिन अंत में उन्होने सफलता पाई है। मुख्यमंत्री ने छात्र-छात्राओं से यह भी कहा कि यदि आपको कोई शिकायत या संदेह हो अथवा आपके पेपर एवं नंबर के बारे में यदि आपको लगता है कि आपके साथ बेइंसाफी हुई है तो आप स्वयं मुख्यमंत्री से सीधे संपर्क कर सकते हैं इस संबंध में उनके द्वारा हेल्पलाईन नंबर 0771-2331001 बताया गया।

                इसके अलावा उन्होने स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार के तहत मरीजों को सस्ती दरों पर अच्छी गुणवत्ता वाली जेनेरिक दवाईयां उपलब्ध कराने के लिए जनऔषधि केन्द्र खोलने के लिए इच्छुक संस्थाओं को दो लाख पचास हजार रूपये की सहायता देने की भी घोषणा की। सूखा पीडि़त किसानों की मदद के लिए उन्होने बताया कि इस कार्य हेतु दो हजार करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है जिसमें लगभग एक सौ पचास करोड़ निःशुल्क धानबीज देने के लिए रखे गए हैं। इसी प्रकार स्वच्छ भारत अभियान के लिए बजट में सात सौ करोड़ रूपये का प्रावधान है, इसमें से चार सौ करोड़ गांवों में तथा तीन सौ करोड़ शहर में खर्च किए जायेंगे।

                विश्व महिला दिवस के संदर्भ में उन्होने महिला सशक्तिकरण के लिए उठाए गए कदमों के तहत बताया कि महिलाओं के नाम पर संपत्ति खरीदने पर स्टाम्प ड्यूटी में छूट दिया जा रहा है इसके अलावा नोनी सुरक्षा योजना के तहत प्रत्येक गरीब परिवार में दो बेटियों के जन्म पर प्रत्येक नवजात बेटी के नाम पर राज्य सरकार पांच हजार रूपये पांच साल तक हर वर्ष जमा कर रही है जब कन्या 18 वर्ष की हो जायेगी तो उसे एक लाख रूपये दिये जायेंगे। साथ ही सभी कन्याओं को पहली कक्षा से कॉलेज तक निःशुल्क शिक्षा की सुविधा दी जा रही है। अपने रेडियो प्रसारण के अंत में उन्होने कहा कि सभी लोगों द्वारा जन्म और मृत्यु पंजीयन अनिवार्य रूप से कराया जाना चाहिए क्योंकि जन्म और मृत्यु पंजीयन का प्रमाण पत्र प्रत्येक नागरिक एवं प्रत्येक परिवार के लिए एक महत्वपूर्ण दस्तावेज होता है।

                ग्राम मालाकोट में नवसाक्षर महिलायें शांतीबाई, कलावती, रामदई, पार्वती ने मुख्यमंत्री के संवाद को महिलाओं के प्रति प्रेरणादायी बताया और उन्होने कहा कि दिनांक 20 मार्च 2016 को महापरीक्षा अभियान में वे अवश्य सम्मिलित होंगी तथा दूसरी अन्य महिलाओं को भी साक्षर होने के लिए जागरूक करेंगी। ग्राम मालाकोट के उपसरपंच मोहन राम नेताम ने बताया कि मुख्यमंत्री के रेडियो प्रसारण को सुनना एक सुखद अनुभव है, मुख्यमंत्री द्वारा सीधे संवाद करने तथा योजनाओं की जानकारी देने से ग्रामीणों को सहज ही जानकारी उपलब्ध हो जाती है, इसलिए मुख्यमंत्री के गोठ को उनके गांव में नियमित रूप से सुना जाता है। इस अवसर पर गांव के पंच फूलसिंह, मालती, सुखराम, शांति मरकाम एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत कोण्डागांव सुश्री योगिता देवंागन एवं सहायक विकास विस्तार अधिकारी हेमेन्द्र कुमार जैन उपस्थित थे।

                प्रसारण के उपरांत मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत कोण्डागांव सुश्री योगिता देवांगन ने बताया कि सूखा राहत के तहत सूखा पीडि़त किसानों की बेटियों के विवाह के लिए सरकार द्वारा राशि रूपये 15000 से बढ़ाकर 30000 रूपये कर दी गई है। इस हेतु इच्छुक कृषक पटवारी एवं ग्राम सचिव से संपर्क कर योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा उन्होने मनरेगा के तहत किये जा रहे डबरी निर्माण एवं भूमि सुधार जैसे कार्यों की अद्यतन जानकारी लेते हुए अपूर्ण कार्यों को शीघ्र पूर्ण करने के निर्देश दिए।

क्रमांक/1077/रंजीत

Date: 
13 Mar 2016