Homeकोरबा : छोड़कर सारा काम,’’रमन का गोठ’’ सुनता है मनीराम

Secondary links

Search

कोरबा : छोड़कर सारा काम,’’रमन का गोठ’’ सुनता है मनीराम

Printer-friendly versionSend to friend

कोरबा 10 जनवरी 2016

जी हां ये मनीराम मंझुवार है, जो बांगो डूबान वाले एक टापूनूमा गांव में रहता है। पिछले 3 साल से रेडियो ही मनीराम का मनोरंजन का पसंदीदा साधन है। कुछ साल पहले एक उंचे पेड़ से गिरने के बाद भले ही वह भारी-भरकम काम नहीं कर सकता, लेकिन अन्य कई काम है जो मनीराम कर लेता है। मनीराम के पास इतनी फुर्सत नहीं थी कि वह दिन को खाली बैठकर रेडियो सुने। लेकिन तीन माह पहले जब मालूम हुआ कि रायपुर आकाशवाणी स्टेशन से प्रदेश के मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ’’रमन के गोठ’’ कार्यक्रम के माध्यम से आम जनता से रूबरू होते हैं तो मनीराम हर माह के दूसरे इतवार को सब काम छोड़कर रेडियो में रमन का गोठ सुनता है। मनीराम का कहना है कि जब हमारे मुख्यमंत्री अपना कीमती वक्त हमारे लिए निकाल कर बात कर रहे हैं तो हमारी भी जिम्मेदारी बनती है कि कार्यक्रम सुने।
      पोंड़ी उपरोड़ा विकासखंड के ग्राम पंचायत पाथा अन्तर्गत आने वाला बोड़ानाला गांव का आसपास का क्षेत्र साल भर जलमग्न रहता है। शहर से दूर टापूनूमा इस गांव तक न कोई यात्री बस चलती है और न ही आवागमन का नियमित माध्यम है। नाव से ही अक्सर कहीं आना-जाना हो पाता है। यहां रहने वाले ग्रामीण मनीराम मंझुवार ने बताया कि उनके गांव में अभी-अभी बिजली पहुंची है। रेडियों के कार्यक्रम में उनकी शुरू से ही रूचि है। गांव में बिजली नहीं होने से रेडियो ही मनोरंजन का साधन था। मनीराम ने बताया कि रमन के गोठ कार्यक्रम के बारे में जैसे ही मालूम हुआ उसे बहुत खुशी हुई। कार्यक्रम के शुरूआत में वह दो प्रसारण नहीं सुन सका। इसके बाद हर माह के दूसरे रविवार का इंतजार करता था। श्रोता मनीराम ने बताया कि रेडियो के रायपुर आकाशवाणी केंद्र से अन्य कार्यक्रम की अपेक्षा रमन का गोठ सुनना अलग ही अनुभव है। रमन के गोठ में मुख्यमंत्री का शासन की योजनाओं के विषय में बताना, महिलाओं, ग्रामीणों किसानों के हित में चर्चा सुनकर अच्छा लगा। श्रोता मनीराम ने मुख्यमंत्री द्वारा रमन के गोठ के माध्यम से प्रदेश के जन-जन तक संवाद स्थापित करने के कार्यक्रम की सराहना करते हुए इस संवाद का अनवरत बनाये रखने की इच्छा जताई है। रमन के गोठ कार्यक्रम का श्रवण मनीराम के अलावा उनके परिजन एवं आसपास के मित्र भी करते है।


क्रमांक 1379/कमलज्योति

Date: 
10 Jan 2016