Homeकोरबा : प्रधानमंत्री ल तो सुनथन ही, अब मुख्यमंत्री ल सुन के खुशी होइस : रमन के गोठ कार्यक्रम सुनने ग्रामीणों में रही उत्सुकता

Secondary links

Search

कोरबा : प्रधानमंत्री ल तो सुनथन ही, अब मुख्यमंत्री ल सुन के खुशी होइस : रमन के गोठ कार्यक्रम सुनने ग्रामीणों में रही उत्सुकता

Printer-friendly versionSend to friend

कोरबा 13 सितंबर 15

 रेडियो पर देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की मन की बात कार्यक्रम सुनते आ रहे अनेक ग्रामीणों को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह द्वारा आकाशवाणी में प्रसारित ’’रमन के गोठ’’ कार्यक्रम की प्रस्तुति से बहुत खुशी है। अपनी पुरानी रेडियो पर मुख्यमंत्री के महत्वपूर्ण संदेश को सुनने के लिए ग्रामीणों में भी उत्सुकता थी। जिनके पास अब रेडियो नहीं है वे रेडियो रखने वाले घरों में पहुंचे हुए थे। ग्राम बुंदेली के भरतलाल साहू ने बताया कि आकाशवाणी के माध्यम से मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने जो संवाद जनता के बीच स्थापित किया है इससे आने वाले समय में जनता और शासन दोनों को लाभ पहुंचेगा।
    छत्तीसगढ़ में हर माह के दूसरे रविवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ’’रमन के गोठ’’ कार्यक्रम के साथ आकाशवाणी के माध्यम से सुबह 10.45 बजे से 11 बजे तक आम जनता के बीच संवाद स्थापित करेंगे। आज पहले दिन रमन के गोठ सुनने शहरवासियों के साथ ही ग्रामीणों में भी उत्सुकता दिखी। ग्राम बुंदेली के ग्रामीण भरत लाल साहू ने बताया कि वर्तमान में भले ही घर-घर में लोगों के पास टीवी है, लेकिन रेडियो ही एक ऐसा माध्यम है जो बिना बिजली, बिना किसी सड़क के रास्ते दूर दराज के घरों तक पहुंच सकता है। रेडियो का कार्यक्रम हर किसी को सुरूचिपूर्ण लगता है और ग्रामीण क्षेत्र में तो रेडियो ही ऐसा महत्वपूर्ण माध्यम है जिसे ग्रामीण अपना कृषि कार्य तथा दूसरे कार्य को करते-करते सुन सकते हैं और सुने हुए संदेश से प्रेरणा लेकर आगे बढ़ सकते हैं। भरतलाल ने बताया कि उसने प्रधानमंत्री की बात भी रेडियो पर सुनी है। मन की बात से प्रधानमंत्री का विचार जानने का अवसर मिला। हमारे मुख्यमंत्री से भी कार्यक्रम में अनेक जरूरी जानकारी और विचार सुनने , जानने का मौका मिलेगा। ग्राम बुंदेली के ही ग्रामीण रमेश कुमार साहू, जेठ सिंह, श्रीमती आसाम कुंवर, विमला बाई, गोमती बाई सहित अन्य ग्रामीण हैं, जिन्हें रमन के गोठ कार्यक्रम को सुनने की उत्सुकता है। आज पहला प्रसारण सुनने से चूकने के बाद अगले प्रसारण का बेसब्री से इंतजार करने लगे हैं। जिनके घर रेडियो नही है वे भी रेडियो खरीदने की तैयारी में हैं।

क्रमांक 625/कमलज्योति

Date: 
13 Sep 2015