Homeकोरबा : रमन के गोठ : असफलता से निराश नहीं होने की सीख दी मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने

Secondary links

Search

कोरबा : रमन के गोठ : असफलता से निराश नहीं होने की सीख दी मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने

Printer-friendly versionSend to friend

कोरबा 14 फरवरी 2016

 

मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने आज आकाशवाणी से अपने मासिक प्रसारण ’’रमन के गोठ’’ की छठवीं कड़ी में दसवीं, बारहवीं के बोर्ड परीक्षाओं में सम्मिलित होने वाले बच्चों को बोर्ड परीक्षा की तैयारी पूरे परिश्रम और एकाग्रता के साथ करने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने अपने बचपन के दिनों को याद करते हुए कहा कि स्कूल के प्राथमिक परीक्षाओं में मैं बहुत आगे नहीं हुआ करता था लेकिन बाद में मुझे अहसास हुआ कि आगे बढ़ने के लिए बाद की परीक्षाओं में और बेहतर प्रदर्शन करने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री ने बच्चों की बेहतर भविष्य के लिए शुभकामना दी। उन्होंने कहा कि आप और आपका परिवार इस परीक्षा में आपके साथ जुड़ा हुआ है तो आप अपने परिवार और स्वयं के लिए परिश्रम करते हुए अपने परिवार का सम्मान बढ़ायें लेकिन इसका यह अर्थ नहीं कि हम सभी को परीक्षा में बहुत अच्छे अंक प्राप्त हो। जीवन के संघर्ष में यदि असफलता मिलती हो तो निराश होने की जगह पुनः दुगुने उत्साह से कार्य में जुटना चाहिए। उन्होंने कहा कि जितने भी सफल व्यक्ति दुनिया में हुए हैं, सभी को कहीं न कहीं असफलता मिली थी और उस असफलता को ही सफलता का मूलमंत्र मानते हुए उन्होंने जीवन में कामयाब होकर राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनाई।
     उन्होंने कहा कि राज्य में तेंदूपत्ता सहित लघु वनोपज संग्रह का समय भी प्रारंभ होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि वन क्षेत्रों में रहने वाले आदिवासियों को बिचौलियों से बचाने और उनकी मेहनत का सही मोल दिलाने तेंदूपत्ता संग्रहण के वर्तमान दर 1200 रूपये प्रति मानक बोरा को बढ़ाकर 1500 रूपये प्रति मानक बोरा कर दिया गया है जिससे राज्य के लगभग 15 लाख संग्राहक परिवार लाभान्वित होंगे। तेंदूपत्ता संग्राहकों को चरण पादुकाएं भी निःशुल्क दी जायेगी।
   उन्होंने कहा कि शासन द्वारा रोजगारमूलक शिक्षा व प्रशिक्षण पर विशेष जोर देते हुए सभी 27 जिलों में लाईवलीहुड कालेज खोले जा चुके हैं। हर विकासखंड में कम से कम एक आईटीआई खोलने का लक्ष्य है। उन्होंने महिलाओं के खिलाफ अपराध रोकने शासन द्वारा उठाये जा रहे कदमों की जानकारी दी। उन्होंने सखी-वन स्टाप सेंटर के संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि  पीड़ित महिलाओं को सखी-वन स्टाप सेंटर में एक ही स्थान पर सभी प्रकार की सुविधाएं जैसे चिकित्सा, कानूनी सहायता, पुलिस सहायता आदि के साथ अस्थायी रूप से पांच दिनों तक आवासीय सुविधा भी दी जाती है।
रमन के गोठ के माध्यम से लोगों को शासकीय योजनाओं व विकास कार्यों की मिली जानकारी-             नगर निगम क्षेत्र अंतर्गत पुष्पलता उद्यान में अनुविभागीय दण्डाधिकारी गजेंद्र सिंह ठाकुर सहित अन्य शासकीय अधिकारियों व गणमान्य नागरिकों ने रमन के गोठ का श्रवण किया। रमन के गोठ कार्यक्रम का ग्राम पंडरीपानी में एसडीएम बी.बी.पंचभाई सहित अन्य अधिकारियों व ग्रामीणों द्वारा श्रवण किया गया। जिले के ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों में विभिन्न स्थानों पर रेडियो ट्रंजिस्टर के माध्यम से मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह के का लाभ लोगों ने उठाया।
आदिवासी विकास विभाग द्वारा संचालित आश्रम एवं छात्रावास में किया गया रमन के गोठ का श्रवण- मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह द्वारा रमन के गोठ के माध्यम से दिए गये संबोधन को कोरबा जिले में आदिवासी विकास विभाग द्वारा संचालित अनुसूचित जनजाति बालिका छात्रावास भैंसमा, बालक छात्रावास माखनपुर, बालिका छात्रावास कोरबा, बालक छात्रावास सेंदरीपाली, बालक छात्रावास मुनगाडीह, बालिका छात्रावास कटघोरा, अरदा, बालक छात्रावास तिलकेजा, फरसवानी सहित अन्य आश्रमों एवं छात्रावासों में छात्र-छात्राओं द्वारा श्रवण किया गया।


क्रमांक 1570/तंबोली

Date: 
14 Feb 2016