Homeकोरबा : रमन के गोठ सुन सियाराम को मिलती है अनेक जानकारी

Secondary links

Search

कोरबा : रमन के गोठ सुन सियाराम को मिलती है अनेक जानकारी

Printer-friendly versionSend to friend

कोरबा 8 जनवरी 2017

यूं तो सुदूरवर्ती सियाराम के गांव तक अभी बिजली नहीं पहुंची है। खंभे और ट्रांसफार्मर जरूर लगाये जा चुके हैं। गांव में मोबाइल का कोई नेटवर्क भी नहीं है। ऐसे में सियाराम के लिये रेडियो ही उसका मनोरंजन और जानकारी का एक आसान एवं सस्ता माध्यम है। खेती किसानी पर निर्भर सियाराम ने बताया कि यह पिछले कई माह से आकाशवाणी पर प्रदेश के मुध्यमंत्री डा. रमन सिंह द्वारा संबोधित रमन के गोठ का श्रवण करता है, इससे उन्हें कई जानकारी और प्रदेश की गतिविधियां मालूम होती हैं शहर में लगभग 90 किलोमीटर दूर पाली विकासखंड के ग्राम उड़ान के मुड़ाटिकरा पारा एक वनांचल गांव है। पहाड़ों के नजदीक दूर-दूर घर बनाकर बसे यहां के ग्रामीणों को कुछ दिन बाद बिजली मिल पायेगी। यहंा खंभे लगाने के साथ विद्युत ट्रांसफार्मर एवं बिजली के तार लगाया जा चुका है। फिलहाल गांव में मनोरंजन का कोई उचित माध्यम ग्रामीणों के पास नहीं है। अधिकांश लोग खेती-किसानी पर निर्भर है। इसी गांव के वृद्ध सियाराम धनुहार के पास रेडियो है जो उसके खाली समय में मनोरंजन का एक मात्र साधन के साथ रेडियों पर प्रसारित कार्यक्रम चौपाल, ग्राम सभा से महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने का माध्यम भी है। ग्रामीण सियाराम ने बताया कि वह रमन के गोठ का श्रवण करता है। माह के प्रत्येक दूसरे रविवार को सुबह 10.45 बजे रमन के गोठ में मुख्यमंत्री को सुनकर प्रदेश की अनेक गतिविधियों की जानकारी मिलती है। उसने बताया कि दूरस्थ गांव होने की वजह से यहंा रेडियों में ही कार्यक्रम का आनंद लिया जा सकता है। रेडियों से कार्यक्रम सुनते अन्य काम भी आसानी से हो जाता है। रमन के गोठ सुनने वह पहले से ही रेडियो चालू करके रखता है। उसने बताया कि हम जैसे दूरस्थ क्षेत्र में रहने वाले ग्रामीणों के लिये रेडियों ही जानकारी और मनोरंजन का अच्छा माध्यम है। प्रदेश के मुख्यमंत्री ने इस तरह के कार्यक्रम को प्रारंभ कर दूरस्थ गांव तक अपनी बात पहुचाने और चिठठी आदि के माध्यम से श्रोताओं की बातों को सुनने अभिनव कार्यक्रम की शुरूवात की है। ग्रामीण रामसिंह ने बताया कि गांव में जल्द ही बिजली पहुंचने वाली है इससे मनोरंजन के अन्य साधन टी.वी. आदि की पहुंच बढ़ेगी।


क्रमांक 1447/कमलज्योति

 

Date: 
08 Jan 2017