Homeकोरबा : साल भर की तैयारी दिलाती है परीक्षा में सफलता: मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह

Secondary links

Search

कोरबा : साल भर की तैयारी दिलाती है परीक्षा में सफलता: मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह

Printer-friendly versionSend to friend
’रमन के गोठ’ में विद्यार्थियों को मिली परीक्षा में तनावमुक्त रहने की सलाह
 
कोरबा 12 फरवरी 17
 
मुख्यमंत्री डा रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता ‘रमन के गोठ’ की 18 वीं कड़ी का प्रसारण डा. अम्बेडकर ओपन थियेटर कोरबा में किया गया। मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने प्रदेशवासियों को माघ पूर्णिमा की बधाई देते हुये विद्यार्थियों को परीक्षा के मौसम में बिल्कुल भी नही घबराने और परीक्षाओं के मौसम को ध्यान में रखकर छात्र-छात्राओं को तनावमुक्त रहने, परीक्षा का तनाव दूर करने के लिए पढ़ाई के बीच कुछ समय मिलने पर योग अभ्यास और हल्का फुल्का व्यायाम करने की समझाइश दी है। उन्होंने विद्यार्थियों को हिम्मत नही हारने की भी सलाह दी है। डॉ. सिंह ने बच्चों के माता-पिता और अभिभावकों का भी आव्हान किया है कि वे परीक्षा के दिनों में घर के वातावरण को शांत और सहयोगात्मक बनाकर बच्चों के साथ स्नेहपूर्ण व्यवहार करें। इस दौरान घर में कोई ऐसा आयोजन नही किया जाए जिसकी वजह से बच्चों को अलग रहना पड़े या उनका ध्यान भटक जाए। उन्होंने बच्चों को बताया कि साल भर की तैयारी ही परीक्षा में सफलता दिलाती है। इसलिये शार्टकट का तरीका न अपनाये। बच्चों को यह समझाना पड़ेगा कि पढ़ाई की ‘लान्ग टर्म’ की रणनीति व ‘शॉर्ट टर्म’ की रणनीति में फर्क होता है और दोनों के परिणाम भी उसी के अनुरूप होते हैं। बड़ी सफलता का कोई ‘शॉर्ट कट’ नहीं होता। 
मुख्यमंत्री ने प्रदेश के तेन्दूपत्ता संग्राहकों के पारिश्रमिक में किये गये वृद्धि की जानकारी देते हुये बताया कि 13 वर्ष पहले मात्र 350 रूपए प्रति मानक बोरा संग्रहण पारिश्रमिक मिलता था, जिसे क्रमशः बढ़ाते हुए हमने 1500 रूपए तक ला दिया। इसलिए अब फैसला किया है कि नए सीजन में तेन्दूपत्ता संग्रहण पारिश्रमिक दर 1800 रूपए प्रति मानक बोरा कर दिया जाए। इस तरह तेन्दूपत्ता संग्राहकों को मिलने वाला पारिश्रमिक 5 गुना से अधिक कर दिया गया है।
          मुख्यमंत्री ने तालाबों के संरक्षण पर जोर देते हुए कहा तालाबों के आस-पास पछियों का बसेरा होता है। साथ ही जैव विविधता का भी संरक्षण होता है। मछलियों के साथ कमल के फूल, सिंघाड़ा, जलकोचई आदि तालाबों के वरदान हैं जो स्थानीय लोगों के आमदनी का जरिया बनते हैं। इनके आस-पास औषधीय और सुगंधित पौधों की खेती होती है। इस प्रकार तालाब प्रकृति के लिए ‘किडनी’ की तरह काम करते हैं। ऐसे में तालाब के साथ जल का संरक्षण किया जाना चाहिये।  कार्यक्रम में मुख्य अतिथि सांसद डॉ.बंशीलाल महतो, विशिष्ट अतिथि श्री लखनलाल देवांगन, संसदीय सचिव छग शासन एवं वनमंडलाधिकारी श्री विवेकानंद झा,जिला पंचायत सीईओ श्री इंद्रजीत सिंह चंद्रवाल,निगम आयुक्त अजय अग्रवाल,संयुक्त कलेक्टर गजेन्द्र सिंह ठाकुर, अशोक चावलानी,डॉ अजय शेष,पार्षद सहित बड़ी सख्ंया में आम नागरिक गण एवं बच्चे उपस्थित थे। कटघोरा ब्लाक के ग्राम बतारी में एसडीएम बी बी पंचभाई की उपस्थिति में रमन के गोठ का श्रवण किया।
 
क्रमांक 1593/कमलज्योति
Date: 
12 Feb 2017