Home गरियाबंद : उत्साहपूर्वक सुना गया रमन के गोठ : टाइगर रिजर्व क्षेत्र के वनवासियों को मिलेगा प्रति परिवार दो हजार रूपये बोनस

Secondary links

Search

गरियाबंद : उत्साहपूर्वक सुना गया रमन के गोठ : टाइगर रिजर्व क्षेत्र के वनवासियों को मिलेगा प्रति परिवार दो हजार रूपये बोनस

Printer-friendly versionSend to friend

गरियाबंद 14 फरवरी 2016 

प्रत्येक माह के दूसरे रविवार को प्रसारित ’’रमन के गोठ’’ कार्यक्रम को आज जिले भर में उत्साहपूर्वक सुना गया। इस प्रसारण की छठवीं कड़ी को सुनने के लिए जिले में समुचित व्यवस्था की गई थी। जिले के दूरस्थ अंचल मैनपुर विकासखण्ड के आदिवासी बाहुल्य ग्राम पंचायत दबनई के आश्रित ग्राम फरसरा में कलेक्टर श्री निरंजन दास, अपर कलेक्टर श्री प्रदीप कुमार मिश्रा, देवभोग के एस.डी.एम. अरूण कुमार मरकाम, मैनपुर के तहसीलदार मनीष साहू, जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री बंजारे एवं विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी श्री नागेश सहित आसपास के ग्रामीणों ने शामिल होकर इस कार्यक्रम को उत्साहपूर्वक सुना।   
रमन के गोठ लाभदायक
    मैनपुर विकासखण्ड के आदिवासी बाहुल्य ग्राम फरसरा में आयोजित रमन के गोठ कार्यक्रम को लाभदायक बताते हुए सरपंच अघनता राम एवं ग्रामीण खमतुराम राठौर, समारू राम, पंचूराम, रोहित कुमार, कुवंर प्रसाद इत्यादि ने कहा कि इस कार्यक्रम से शासकीय योजनाओं को समझने में मदद मिली है। मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने अपने रेडियोवार्ता में वनवासियों के लिए जो तोहफा दिया है, वह सराहनीय है। मुख्यमंत्री द्वारा अपने वार्ता में बताया है कि टाइगर रिजर्व एवं अभ्यारण्य क्षेत्र के वनवासी जो प्रतिबंधित क्षेत्र होने के कारण तेंदूपत्ता का तोड़ाई नहीं कर सकते, उन्हें अब मुआवजा स्वरूप प्रति परिवार दो हजार रूपये मिलेंगे। तेंदूपत्ता का पारिश्रमिक दर भी 1200 रूपये से बढ़ाकर 1500 रूपये कर दिया गया है, जो हम लोगों के लाभदायक है। इसी प्रकार फड़मुशियों का भी मानदेय आठ हजार रूपये से बढ़ाकर दस हजार रूपये कर दिया गया है, जिससे वनांचल के लोगों को लाभ मिलेगा।
कलेक्टर ने सुनी ग्रामीणों की समस्याएं

     कलेक्टर श्री निरंजन दास ने इस अवसर पर चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्याएं सूनी। ग्राम पंचायत दबनई के सरपंच श्री अघनता राम सहित ग्रामीणों ने बताया कि ग्रीष्मकाल में पेयजल की समस्या होती है, जिसके लिए पास के नाला में रपटा अथवा स्टाप डेम बनाने से जल स्तर बढ़ेगा।  कलेक्टर श्री दास ने इसके लिए वन परिक्षेत्र अधिकारी मैनपुर को आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। मुख्यमार्ग से खोलापारा तक सड़क निर्माण कराने की मांग पर कलेक्टर द्वारा वन विभाग को क्रियान्वयन एजेंसी नियुक्त करने के लिए निर्देशित किया गया। इसी प्रकार विद्युत की लो-वोल्टेज समस्या के निदान के लिए ग्राम फरसरा में ट्रांसफार्मर को बदलकर 63 किलोवोल्ट का ट्रांसफर्मर लगाने के निर्देश दिये गये। उचित मूल्य दुकान के पास राशन गोदाम का निर्माण कराने, दबनई में एक हेण्डपंप का खनन कराने तथा वन विभाग द्वारा ग्राम फरसरा में निर्मित रपटा का मजदूरी भुगतान अतिशीघ्र कराने, प्राथमिक शाला भवन का मरम्मत कराने, ऑगनबाड़ी भवन का निर्माण शीघ्र पूरा करने, महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता का मुख्यालय में रहना सुनिश्चित करने तथा ग्राम दबनई के लोचन प्रसाद का इलाज संजीवनी कोष के तहत कराने हेतु प्रकरण बनाने के लिए कलेक्टर श्री दास द्वारा देवभोग के एस.डी.एम. एवं जनपद पंचायत मैनपुर के सी.ई.ओ. को निर्देशित किया गया। ग्रामीणों ने बताया कि उनके ग्राम में राजस्व विवाद संबंधी कोई भी मामला नहीं है और न ही नामातंरण, बटवारा संबंधी राजस्व प्रकरण लंबित है। सभी ग्रामवासियों का आधार पंजीयन कराया जा चुका है। गांव में दो महिला स्व-सहायता समूह कार्यरत है। कलेक्टर श्री दास ने फरसरा का राजस्व विवादमुक्त गांव होने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि गांव के लोग सब मिलजुल कर रहें और प्रगति करें। उन्होंने महिला स्व-सहायता समूहों का ग्रेडिंग कराने और उन्हें दस-दस हजार रूपये की चक्रीय निधि प्रदान करने के लिए जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को निर्देशित किया। चौपाल में ग्राम पंचायत दबनई के सरपंच अघनता राम सहित खमतुराम राठौर, समारू राम, पंचूराम, रोहित कुमार, कुवंर प्रसाद, विजेन्द्र, केशरी बाई, कुंती बाई, लता बाई, अमृत बाई, जयराम सोरी, रामनाथ, सखाराम सोरी, तुलाराम नेताम इत्यादि बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे।


 समाचार क्रमांक - 109/सुरेन्द्र
 

Date: 
14 Feb 2016