Homeगरियाबंद : उत्साहपूर्वक सुना गया ‘‘रमन के गोठ’’

Secondary links

Search

गरियाबंद : उत्साहपूर्वक सुना गया ‘‘रमन के गोठ’’

Printer-friendly versionSend to friend

गरियाबंद 13 मार्च 2016 

प्रत्येक माह के दूसरे रविवार को प्रसारित होने वाले ’’रमन के गोठ’’ के प्रसारण को आज जिले भर में उत्साहपूर्वक सुना गया। बच्चे, बुजुर्ग सभी ने इस मासिक प्रसारण को उत्साहपूर्वक सुना। इस प्रसारण की सातवीं कड़ी को सुनने के लिए जिले में समुचित व्यवस्था की गई थी। जिला स्तरीय कार्यक्रम जिले के प्रसिद्व पर्यटन स्थल जतमाई धाम के नजदीक छुरा विकासखण्ड के ग्राम तौरंेगा में आयोजित किया गया था, जहॉ पर कलेक्टर श्री निरंजन दास, गरियाबंद एसडीएम रोक्तिमा यादव, छुरा तहसीलदार राकेश साहू, जनपद सीईओ सहित आसपास के ग्रामीण शामिल होकर इस कार्यक्रम को उत्साहपूर्वक सूना।   
    मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने अपनी सातवीं रेडियो प्रसारण में स्व. संत पवन दीवान को श्रद्वांजलि अर्पित कर छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण में उनके योगदान को याद करते हुए कहा कि माता कौशल्या मंदिर का निर्माण के उनके सपनों को साकार किया जाएगा। 22 मार्च को विश्व जल दिवस को याद करते हुए उन्होंने जल के संरक्षण की अपील की। होली, गुड फ्राइडे इत्यादि त्योहारों की बधाई देते हुए मुख्यमंत्री ने आपसी भाईचारा के साथ उत्साहपूर्वक त्योहार मनाने तथा होलिका दहन के लिए पेड़ों को नहीं काटने नागरिकों से आग्रह किया। महिला सशक्तिकरण के लिए छत्तीसगढ़ राज्य में किए गए प्रावधानों की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि त्रिस्तरीय पंचायतों में महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण के अलावा महिला के नाम संपत्ति खरीदने पर स्टॉप शुल्क में छूट दी गई है। नोनी सुरक्षा योजना के तहत कन्या के जन्म होने पर उनके नाम से पॉच साल तक लगातार 5 हजार रूपए जमा किया जाता है तथा 18 साल की आयु पूरा होने पर उसे एक लाख रूपए प्रदाय किए जाते हैं। हाई स्कूल में पढ़ने वाली बालिकाओं  को सरस्वती सायकल योजना के तहत निःशुल्क सायकल प्रदाय की जा रही है। मुख्यमंत्री सामूहिक कन्या विवाह योजना के तहत सामान्य विवाह पर 15 हजार रूपए और विधवा विवाह पर 30 हजार रूपए प्रदाय किए जाने का प्रावधान किया गया है। राज्य में टोनही प्रताडना के विरूद्व कानून बनाए गए हैं। मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 21 फरवरी को छत्तीसगढ़ राज्य से जनऔषधी केंद्र के शुरूआत करने की जानकारी भी दिया। जन्म-मृत्यु की घटनाओं का पंजीयन कराने की अपील करते हुए उन्होंने कहा कि यह एक महत्वपूर्ण दस्तावेज होता है, जन्म-मृत्यु का पंजीयन अवश्य कराए। राज्य के सभी पंचायतों, नगरीय निकायों एवं स्वास्थ्य केंद्रों में जन्म-मृत्यु पंजीयन किया जाता है। मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने अपने मासिक रेडियो वार्ता में कहा कि एक अप्रैल से नया शैक्षिणक सत्र शुरू हो रहा है, कोई भी बच्चा स्कूल जाने से वंचित न हो, पालकगण यह सुनिश्चित करें। उन्होंने बताया कि कक्षा पहलीं से दसवीं तक सभी विषयों का पाठ्यपुस्तक निःशुल्क वितरित किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि विद्यार्थी पढ़ाई से न घबराए तथा आत्मविश्वास में कमी न आने दें। असफलता से न डरें और निरंतर आगे बढ़े, सफलता जरूर मिलेगी। आगामी वित्तीय वर्ष के लिए राज्य शासन द्वारा किए गए बजट प्रावधानों की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि इससे छत्तीसगढ़ के विकास को नई दिशा मिलेगी।
कलेक्टर ने सुनी ग्रामीणों की समस्याएं

     कलेक्टर श्री निरंजन दास ने इस अवसर पर चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्याएं सूनीं। ग्राम पंचायत तौरेंगा के सरपंच श्री भोजराज ध्रुव सहित ग्रामीणों द्वारा गली में नाली विस्तार, डीहीपारा में विद्युतीकरण, तालाब गहरीकरण जैसे कार्य कराने का अनुरोध कलेक्टर से किया गया। कलेक्टर श्री दास ने उन्हें अवगत कराते हुए कहा कि रोजगार उपलब्ध कराने के लिए अतिशीघ्र नहर निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा। इसके लिए जल संसाधन विभाग के अधिकारियों को उनके द्वारा निर्देशित किया गया है। उन्होंने तालाब गहरीकरण का कार्य कराने के लिए भी जनपद के मुख्य कार्यपालन अधिकारी को निर्देशित किया। ग्रामीणों से चर्चा करते हुए कलेक्टर द्वारा तौरेंगा ग्राम को खुले में शौचमुक्त तथा राजस्व विवादमुक्त गांव बनाने अपील किया गया। ग्रामीणों को साफ पानी का उपयोग करने की समझाईश देते हुए उन्होंने बताया कि निस्तारी के लिए सिकासार जलाशय के नहरों से पानी छोडा गया है, इससे गांव में पानी का जलस्तर बढ़ेगा तथा तालाब भरने से निस्तारी की सुविधा भी मिलेगी। ग्राम स्तरीय कर्मचारियों को मुख्यालय में रहना सुनिश्चित करने के लिए भी कलेक्टर द्वारा निर्देशित किया गया।
समाचार क्रमांक - 176/सुरेन्द्र
 

Date: 
13 Mar 2016