Home गरियाबंद : कलेक्टर ने चौपाल में ग्रामीणों के एक साथ सुना ‘रमन के गोठ’

Secondary links

Search

गरियाबंद : कलेक्टर ने चौपाल में ग्रामीणों के एक साथ सुना ‘रमन के गोठ’

Printer-friendly versionSend to friend

गरियाबंद 11 सितम्बर 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने राज्य के मेहनतकश श्रमिकों और ग्रामीणों से अपील की है कि वे मानव तस्करों और फर्जी चिटफंड कंपनियों से सावधान रहें। मुख्यमंत्री आज सवेरे आकाशवाणी के रायपुर केन्द्र से प्रसारित अपनी मासिक रेडियो वार्ता ‘रमन के गोठ’ में श्रोताओं को सम्बोधित कर रहे थे। गरियाबंद विकासखण्ड के ग्राम पंचायत फुलकर्रा में कलेक्टर श्रुति सिंह ने ग्रामीणों के बीच चौपाल लगाकर रमन के गोठ कार्यक्रम को सुना।
    डॉ. रमन सिंह ने अपनी रेडियो वार्ता में ग्रामीणों से मानव तस्करों के चंगुल में नहीं आने का भी आव्हान किया। उन्होंने लोगों से गांव में अगर कोई संदिग्ध व्यक्ति नजर आए तो उसकी सूचना तत्काल पुलिस को देने का भी आग्रह किया। उन्होंने इस समस्या को हल करने के लिए लोगों में जागरूकता बढ़ाने तथा जनता और प्रशासन के बीच निरंतर समन्वय की जरूरत पर भी बल दिया।  मुख्यमंत्री ने कहा-मैंने सभी जिलों में प्रशासन को यह निर्देश दिए हैं कि रोजगार की दृष्टि से अपने परिवार की बेहतर आमदनी के लिए दूसरे प्रदेशों में जाने वाले छत्तीसगढ़ के लोगों की समुचित जानकारी उनके ग्राम पंचायतों में उपलब्ध होनी चाहिए और समय-समय पर उनकी सुरक्षा की समीक्षा भी होनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि प्रदेश के श्रमिकों को मानव तस्करों से बचाने के लिए राज्य सरकार ने नई दिल्ली स्थित अपने छत्तीसगढ़ सदन में आवासीय आयुक्त के नियंत्रण में एक विशेष प्रकोष्ठ बनाने का बड़ा निर्णय लिया है। यह प्रकोष्ठ छत्तीसगढ़ के श्रमिकों और दिल्ली तथा आस-पास के राज्यों के उनके नियोक्ताओं के साथ अच्छे संबंध विकसित करने के लिए भी कदम उठाएगा। इसके अलावा श्रमिकों की समस्याओं का निराकरण भी प्रकोष्ठ के माध्यम से किया जाएगा। उन्हें बीमारी या अन्य परेशानी की स्थिति में तत्काल मदद भी पहुंचाई जाएगी।
    मुख्यमंत्री ने फर्जी चिटफंड कंपनियों का उल्लेख करते हुए लोगों से आग्रह किया कि वे ज्यादा ब्याज का लालच देने वाली ऐसी कंपनियों के जाल में न फँसें। लोग एक-एक रूपए जोड़कर अपनी पूंजी तैयार करते हैं। इस जमा पूंजी को उन बैंकों में जमा करें, जो कानूनी दृष्टि से सुरक्षित है। बिना जांच-पड़ताल के किसी भी संस्था में पैसा जमा न करें। मुख्यमंत्री ने कहा-मैं यह बताना चाहूंगा कि दुनिया में ऐसा कोई बैंक या ऐसी कोई कंपनी नहीं है जो जमाकर्ताओं के धन पर तीस प्रतिशत या चालीस प्रतिशत ब्याज दे। यदि कोई बैंक या कम्पनी ज्यादा ब्याज की लालच दे तो समझ लीजिए कि वह फर्जी कंपनी है। ऐसी कंपनियों से दूर रहें और पुलिस को तत्काल सूचित करें। मुख्यमंत्री ने श्रोताओं को बताया कि छत्तीसगढ़ सरकार ने चिटफंड कंपनियों के गोरख धंधों से जनता को राहत दिलाने के लिए कठोर कानून बनाया है। इस कानून में यह प्रावधान है कि किसी भी संस्था को जनता से पैसा एकत्रित करने के पहले संबंधित जिला कलेक्टर से इसकी अनुमति लेनी होगी।
डॉ. रमन सिंह ने ग्रामीण क्षेत्रों में काम कर रहे सरकारी कर्मचारियों से भी यह अपील की है कि वे चिटफंड कम्पनियों के गोरख धंधे से सतर्क रहे और जनता को भी बचाएं। इसी कड़ी में मुख्यमंत्री ने कोटवारों, पटवारियों, नायब तहसीलदारों, पंचायतों, महिला एवं बाल विकास विभाग, बैंक आदि के अधिकारियों और कर्मचारियों, डॉक्टरों तथा शिक्षकों से भी आग्रह किया है कि वे जनता को ऐसी संस्थाओं के खिलाफ जागरूक करें और उसके खून-पसीने की कमाई की सुरक्षा में अपना योगदान दें।
मुख्यमंत्री ने आज के अपने प्रसारण की शुरूआत में गणेश उत्सव सहित हाल ही में मनाए गए तीजा-पोरा जैसे पारम्परिक त्यौहारों का भी उल्लेख किया। उन्होंने भारत में सार्वजनिक गणेश उत्सव की शुरूआत करने के लिए लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक को याद करते हुए कहा कि तिलक जी ने सन् 1893 में गणेश उत्सव को आजादी की लड़ाई से जोड़कर सार्वजनिक बनाया। उन्होंने शिक्षक दिवस की भी चर्चा की और 13 सितंबर को मनाए जाने वाले ईद-उल-जुहा पर्व के लिए मुस्लिम समाज सहित सभी लोगों को बधाई और शुभकामनाएं दी। डॉ. रमन सिंह ने विश्वकर्मा जयंती, ओणम और अगले माह मनाये जाने वाले शारदीय नवरात्रि के लिए भी जनता के प्रति शुभेच्छा प्रकट की।


समाचार क्रमांक - 627/पोषण

Date: 
11 Sep 2016