Homeगरियाबंद: रमन के गोठ को जिले में उत्साहपूर्वक सुना गया :केड़िआमा के दौरे को याद किया मुख्यमंत्री ने बरदुला में हुआ जिला स्तरीय कार्यक्रम

Secondary links

Search

गरियाबंद: रमन के गोठ को जिले में उत्साहपूर्वक सुना गया :केड़िआमा के दौरे को याद किया मुख्यमंत्री ने बरदुला में हुआ जिला स्तरीय कार्यक्रम

Printer-friendly versionSend to friend

गरियाबंद 12 मार्च 2017 

मासिक रेडियोवार्ता रमन के गोठ के प्रसारण को आज जिले में उत्साहपूर्वक सूना गया। रेडियोवार्ता में मुख्यमंत्री ने नागरिकों को होली त्यौहार की बधाई एवं सुभकामनाएं दी तथा होली त्यौहार में लकड़ी जलाने के बजाय कण्डा एवं घास-फूस का उपयोग करने की सलाह दिया। राज्य में महिलाओं की तरक्की और खुशहाली के लिए किये जा रहे उपायों की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में ’नारी-शक्ति ’ अब ’महाशक्ति’ का रूप ले चुकी है। सरस्वती साईकिल योजना, कन्या छात्रावास, पोटाकेबिन, कस्तूरबा विद्यालय, स्कूलों के उन्नयन आदि सुविधाओं के कारण राज्य के स्कूलों में 15 से 17 वर्ष आयु समूह की बेटियों की दर्ज संख्या 65 प्रतिशत से बढ़कर 90 प्रतिशत हो गई है। स्कूलों की बेटियों की दर्ज संख्या के मामले में हम राष्ट्रीय औसत 84 प्रतिशत से काफी ऊपर और देश में 9वें स्थान पर हैं। उन्होंने गरियाबंद जिले के ग्राम केड़िआमा (विकासखण्ड-छुरा) के अपने हाल ही के दौरे की एक रोचक घटना को भी याद किया। उन्होंने बताया-इस गांव में नंदिनी नामक गृहणी को रसोई गैस कनेक्शन मिला है। उन्होंने मुझे पांच मिनट में चाय बनाकर पिला दी। उनकी चाय पीकर मुझे जो स्वाद और आनंद आया, उसकी तुलना मैं किसी फाईव-स्टार होटल की चाय से भी नहीं कर सकता। इतना ही नहीं बल्कि नंदिनी ने जिस अंदाज में रसोई गैस से चाय बनने की तारीफ की, छत्तीसगढ़ी भाषा में उन्होंने मुझसे कहा-’भक्क ले जलथे अउ झट ले बनथे।’ यह उनके लिए खुशी का अवसर था।
    मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने लोक सुराज अभियान की चर्चा करते हुए कहा कि यह अभियान जनता से सीधे जुड़ने के साथ-साथ सुशासन का पहला कदम है। इसी से हमें सही दिशा मिलती है। उन्होंने कहा कि इस अभियान के तहत मैं पहले की तरह किसी भी दिन, किसी भी गांव और किसी भी जिले में अचानक पहुंचकर जनता से मुलाकात करूंगा, समाधान शिविरों में भी जाउंगा और रात को जिलों की समीक्षा भी करूंगा। प्रेस से भी मिलूंगा।  डॉ. सिंह ने ’रमन के गोठ ’ में राज्य सरकार के नये बजट में शामिल संचार क्रांति योजना (स्काई) में 45 लाख स्मार्ट फोन बांटने के लक्ष्य का भी उल्लेख किया। उन्होंने बताया-इस योजना के तहत हमने 39 लाख ग्रामीणों, शहरी क्षेत्रों के तीन लाख परिवारों और कॉलेजों के तीन लाख विद्यार्थियों को स्मार्ट फोन और सिम देने का निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री ने कहा-यह एक डिजिटल डिवाइड है, जो अमीरों और गरीबों के बीच की खाई से भी बड़ी गहरी खाई है। इस अंतर को समाप्त करना बहुत बड़ी चुनौती है। यह वर्तमान और नई पीढ़ी के सशक्तिकरण और उत्थान का भी सवाल है। उन्होंने कहा-संचार क्रांति योजना(स्काई) के तीन मुख्य काम होंगे- स्मार्ट फोन वितरण, टावरों की स्थापना और मोबाइल फोन के माध्यम से सूचनाओं का आदान-प्रदान और इसका उपयोग। उन्होंने बताया-प्रदेश में इस योजना के तहत 1500 टावर लगाए जाएंगे। इसके माध्यम से ’ई-सेवाओं’ का विस्तार होगा।
    अपने रेडियोवार्ता में मुख्यमंत्री ने राज्य में शुरू होने वाली ’डायल-112’ योजना की भी जानकारी दी और बताया कि किसी भी दुर्घटना के समय घायल या संकटग्रस्त व्यक्ति की मदद के लिए यह सेवा एक क्रांतिकारी कदम है, जो हमारी पुलिस व्यवस्था का काया-कल्प कर देगी। इसमें रिस्पांस-टाईम के साथ पारदर्शिता, जिम्मेदारी, मदद और राहत के प्रावधान पुलिसिंग को आधुनिक दिशा देंगे। पुलिस फायर ब्रिगेड और एम्बुलेंस जैसी तत्काल मदद की जरूरत पड़ने पर एक ही नम्बर 112 डायल किया जा सकता है। नई प्रौद्योगिकी, नेटवर्किंग और प्रबंधन का उपयोग करते हुए हम डायल-112 योजना शुरू कर रहे हैं, ताकि शहरी इलाकों में दस मिनट के भीतर और ग्रामीण क्षेत्रों में 30मिनट के भीतर मदद पहुंचाई जा सके। इस नम्बर को डायल करते ही राज्य स्तरीय कंट्रोल रूम में तुरंत एक्शन चालू हो जाएगा। इसके लिए जीपीएस युक्त 240 वाहनों और 50 मोटरसाईकिलों का नेटवर्क होगा। जिला स्तरीय कार्यक्रम मैनपुर विकासखण्ड के ग्राम पंचायत बोईरगांव के आश्रित ग्राम बरदुला में आयोजित किया गया था, जहॉ पर संयुक्त कलेक्टर ओ.पी.कोसरिया, तहसीलदार मनीष देव साहू, जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी बी.आर पाल, जनपद सदस्य सुकचंद ध्रुव, सरपंच हिरौंदी मांझी सहित ग्रामीणों ने रमन के गोठ का प्रसारण सुना।
समाचार क्रमांक - 1066/सुरेन्द्र/
संलग्न फोटो - रमन के गोठ बरदुला/
---00---

 

Date: 
12 Mar 2017