Homeजगदलपुर : बेड़ा उमरगांव के ग्रामीणों ने सुना ‘रमन के गोठ‘

Secondary links

Search

जगदलपुर : बेड़ा उमरगांव के ग्रामीणों ने सुना ‘रमन के गोठ‘

Printer-friendly versionSend to friend

जगदलपुर, 10 अप्रैल 2016

माह के दूसरे रविवार को रेडियो में प्रसारित किए जाने वाले कार्यक्रम ‘रमन के गोठ‘ के आठवीं कड़ी के प्रसारण की प्रतीक्षा कर रहे बस्तर की जनता ने 10 अप्रैल को प्रसारित इस कड़ी को सुना और मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह द्वारा दिए गए संदेशों की प्रशंसा की।

बकावंड विकास खण्ड के बेड़ा उमर गांव के ग्राम पंचायत भवन में इसके सार्वजनिक प्रसारण की व्यवस्था ग्राम पंचायत द्वारा की गई थी, जहां बड़ी संख्या में पहुंचे ग्रामीणों ने इसे सुना। रमन के गोठ का प्रसारण सुनने के लिए पंचायत भवन पहुंचे किराना व्यवसायी श्री सुखनाथ कश्यप ने मुख्यमंत्री द्वारा भू-जल संरक्षण के लिए किए गए आह्वान पर कहा कि आने वाली पीढ़ी के लिए भू-जल का संरक्षण आवश्यक है। मुख्यमंत्री द्वारा भू-जल संरक्षण के लिए किए गए आह्वान का प्रभाव निश्चित तौर पर आम जनता में होगा और सभी इसके लिए आगे आएंगे। उन्होंने गांव की तालाबों के संरक्षण की आवश्यकता भी बताई। मुख्यमंत्री द्वारा जल संरक्षण के लिए वाटर हार्वेस्टिंग को बढ़ावा दिए जाने की योजना का कृषक भोनूराम ने समर्थन किया और कहा कि वाटर हार्वेस्टिंग आम तौर पर शहरी क्षेत्रों में तथा शासकीय भवनों में ही किया जाता है। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में भी वाटर हार्वेस्टिंग किए जाने से भू-जल स्तर के तेजी से बढ़ने की उम्मीद जताई। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में आबादी भले ही विरल है किन्तु शहरी क्षेत्र की अपेक्षा अधिक है। भू-जल स्तर के गिरने का सबसे अधिक नुकसान कृषकों को होता है। सिंचाई के साथ ही पशुओं के लिए भी पानी की कमी होती है, जिससे पशु मर जाते हैं। इससे किसानों को सीधे तौर पर नुकसान होता है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के आह्वान पर कृषकों को भी वाटर हार्वेस्टिंग तकनीक को अपनाना चाहिए, जिससे ग्रामीण क्षेत्र में भी जल-स्तर बढ़े।

मुख्यमंत्री द्वारा शिक्षा गुणवत्ता अभियान के लिए सामाजिक अंकेक्षण किए जाने की बात बताने पर गृहिणी रामप्यारी बाई ने प्रसन्नता व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष चलाए गए शिक्षा गुणवत्ता अभियान का असर स्पष्ट तौर पर देखने को मिला है। उन्होंने कहा कि पालक बालक सम्मेलन से पालकों में भी जागरुकता आई है और वे अपने बच्चों के पढ़ाई के प्रति गंभीर दिख रहे हैं। पालकों की गंभीरता के कारण बच्चे अब स्कूल से घर आकर भी पढ़ाई करते हैं, जिससे उनके शैक्षणिक स्तर में आई बेहतरी दिखाई देने लगी है। उन्होंने कहा कि पढ़ाई के क्षेत्र में अब ग्रामीण बच्चों का आत्मविश्वास बढ़ रहा है, जिससे पालकों को भी गर्व की अनुभूति होती है। उन्होंने इस प्रयास को निरंतर बनाए रखने के लिए मुख्यमंत्री के प्रति आभार व्यक्त किया। एक अन्य गृहिणी घासीन बाई ने गर्मी में होने वाली लू एवं अन्य बीमारियों से बचने के लिए मुख्यमंत्री द्वारा दिए गए सलाहों का पालन करने की बात कही। उसने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा बच्चों को लू से बचने के लिए अधिक से अधिक पानी पीने की सलाह दी है, जो बहुत जरुरी है। 

क्रमांक-712/ अर्जुन

 

Date: 
10 Apr 2016