Homeजगदलपुर : मंडवा में ईमली की छांव के नीचे बैठ ग्रामीणों ने सुना ‘रमन के गोठ‘

Secondary links

Search

जगदलपुर : मंडवा में ईमली की छांव के नीचे बैठ ग्रामीणों ने सुना ‘रमन के गोठ‘

Printer-friendly versionSend to friend

दलपत सागर और कुटुमसर की जलीय संरचनाओं को रामसर साईट में स्थान दिलाने के प्रयासों की प्रशंसा

 

जगदलपुर, 12 फरवरी 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता ’रमन के गोठ’ की 17वीं कड़ी को बस्तर जिले की जनता ने बड़े उत्साह से सुना। तोकापाल विकासखण्ड के ग्राम मंडवा के ग्रामीणों ने इमली की छांव के नीचे बैठकर सुना। मुख्यमंत्री द्वारा जलाशयों की सुरक्षा के लिए किए गए आह्वान पर सरपंच श्रीमती चम्पा नाग ने कहा कि तेजी से हो रहे जलवायु परिवर्तन को रोकने के लिए जलाशयों का संरक्षण निश्चित तौर पर कारगर उपाय होगा। उन्होंने कहा कि भू-जल स्तर को बनाए रखने के लिए मुख्यमंत्री द्वारा आम जनता से की गई इस अपील का निश्चित तौर पर असर होगा। मुख्यमंत्री का संदेश सुन रहे श्रोताओं ने बस्तर जिले के दलपत सागर और कुटुमसर की जलसंरचानाओं को विश्व मानचित्र में स्थापित करने के लिए किए जा रहे प्रयासों के साथ ही वेटलैण्ड प्राधिकरण बनाने और वेटलैण्ड नीति बनाए जाने के प्रयासों की भी प्रशंसा की।

नवमीं कक्षा की छात्रा ज्योति कश्यप ने मुख्यमंत्री द्वारा परीक्षाओं के दौरान तनावमुक्त रहने की सलाह को महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा विद्यार्थियों को तनावमुक्ति और एकाग्रचित्तता के लिए योग और व्यायाम की सलाह दी है, इसका लाभ विद्यार्थियों को होगा। सुखदेव बघेल ने परीक्षा के दौरान माता-पिताओं के बच्चों से व्यवहार पर मुख्यमंत्री के विचारों को महत्वपूर्ण बताया।

तेंदूपत्ता पारिश्रमिक में लगातार वृद्धिरू इस बार 1800 रूपए 

मुख्यमंत्री द्वारा तेंदूपत्ता संग्राहकों को अब प्रति मानक बोरा 1800 रुपए दिए जाने की जानकारी देने पर झितरी व टीड़ो ने कहा कि इस योजना से तेंदूपत्ता संग्राहकों को अधिक लाभ होगा। मुख्यमंत्री द्वारा तेंदूपत्ते की नीलामी के लिए किए जा रहे ई-नीलामी जैसे नवाचारों की भी प्रशंसा की।

मुख्यमंत्री द्वारा जड़ी-बुटियों से किए जा रहे उपचारों पर शोध के लिए की गई पहल का का स्वागत करते हुए दुर्जन कश्यप ने कहा कि बस्तर अंचल के दुरस्थ क्षेत्रों में भी ग्रामीणों द्वारा सदियों से जंगली जड़ी-बुटियों के माध्यम से सफल उपचार किए जाते रहे हैं। इन जड़ी-बुटियों पर शोध किए जाने से इस परम्परा का न केवल विकास होगा, बल्कि लोग भी इन जड़ी-बुटियों के संरक्षण और संवर्द्धन में सहयोग करेंगे।

मुख्यमंत्री द्वारा स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का मासिक मानदेय 15 हजार रूपए से बढ़ाकर 25 हजार रुपए किए जाने की जानकारी देने पर जयराम कश्यप एवं सुखराम कश्यप ने कहा कि यह भारत की स्वतंत्रता के लिए अपना अमूल्य जीवन देने वाले स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का सच्चा सम्मान है। उन्होंने कहा कि खतरे में पड़े देश के लोकतंत्र की रक्षा करने वालों को लोकतंत्र सेनानी का दर्जा देने और उनकी मानदेय राशि बढ़ाने का सरकार का निर्णय स्वागतयोग्य है।

मुख्यमंत्री द्वारा गांवों और वन क्षेत्रों में विशेष रूप से नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में डॉक्टरों की कमी दूर करने के लिए शुरू की जाने वाली ‘मुख्यमंत्री मेडिकल फेलोशिप’ कार्यक्रम का स्वागत ग्रामीणों द्वारा किया गया। मितानीन सोमारी कश्यप ने कहा कि इस क्षेत्र में चिकित्सा सुविधा निरंतर बेहतर हो रही है। मुख्यमंत्री द्वारा प्रारंभ किए जा रहे इस योजना से अब ग्रामीणों को बेहतर चिकित्सा सुविधा मिलेगी। शासन की योजना के क्रियान्वयन के लिए प्रारंभ की जा रही ‘मुख्यमंत्री सुशासन फेलोशिप’ योजना की प्रशंसा भी ग्रामीणों द्वारा की गई।

मुख्यमंत्री द्वारा नया रायपुर में पहली बार 19 फरवरी को होने वाले 21 किलोमीटर के राज्य स्तरीय हाफ मैराथन प्रतियोगिता के आयोजन के संबंध में जानकारी दिए जाने पर श्रोताओं ने प्रशंसा व्यक्त की और कहा कि इससे प्रदेश में खेल और फिटनेस को लेकर लोगों में जागरुकता बढ़ेगी। हाफ मैराथन के अलावा दस, पांच, तीन, दो और एक किलोमीटर की दौड़ का आयोजन, छत्तीसगढ़ के सभी जिलों के अलावा इसमें राष्ट्रीय स्तर के प्रतियोगी भी शामिल होंगे। बालक-बालिकाओं, वरिष्ठ नागरिकों और दिव्यांगजनों के लिए अलग-अलग वर्ग के लोगों के शामिल होने के साथ ही लगभग 30 लाख रुपए के पुरस्कार दिए जाने से सभी वर्गों का उत्साह बढ़ेगा।

 

Date: 
12 Feb 2017