Homeजगदलपुर : मसकोटवासियों ने सुना ‘रमन के गोठ‘

Secondary links

Search

जगदलपुर : मसकोटवासियों ने सुना ‘रमन के गोठ‘

Printer-friendly versionSend to friend

जगदलपुर 11 दिसम्बर 2016

 

प्रत्येक माह की दूसरी रविवार को रेडियो और टेलीविजन चैनलों के माध्यम से प्रसारित होने वाले लाकप्रिय कार्याक्रम ‘रमन के गोठ‘ की 16वीं कड़ी को बस्तरवासियों ने पूरे उत्साह के साथ सुुना। तोकापाल विकास खण्ड के मसकोट ग्राम पंचायत में ‘रमन के गोठ‘ सुनने पहुंचे ग्रामीणों ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा पिछले 13 साल में जनकल्याण में लागू की गई योजनाओं की बहुत अच्छी जानकारी दी गई। सरपंच श्रीमती फूलमती मौर्य ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा आज के संदेश में छत्तीसगढ़ शासन द्वारा संचालित बहुत सारी योजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इन सारी योजनाओं का लाभ मसकाटवासियों को मिल रहा है। उन्होंने कहा कि इन योजनाओं को बेहतर और त्वरित ढंग से जनता तक पहुंचाने में जनप्रतिनिधियों की भी महत्वपूर्ण भूमिका है। श्रीमती मौर्य ने कहा कि वे इन योजनाओं का लाभ इस ग्राम पंचायत के सभी पात्र ग्रामीणों को मिले, इसके लिए पूरा प्रयास करेंगी।

‘रमन के गोठ‘ सुनने के बाद श्री भीमा मंडावी ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा निश्चित तौर पर अपनी योजनाओं से वनवासी, गरीब, किसान, विद्यार्थी और छात्र सहित प्रदेश की पूरी जनता लाभान्वित किया है।

उन्होंने कहा कि इस गांव में सभी गरीबों के राशन कार्ड बन चुके हैं और उन्हें हर माह समय पर राशन उपलब्ध हो रहा है। लिबरु ने कहा कि सरकार द्वारा जब से शून्य प्रतिशत ब्याज पर कृषि ऋण देने की योजना प्रारंभ की गई, किसानों को महाजनों के जाल से मुक्ति मिल गई। उन्होंने बताया कि शासन द्वारा अनुदान पर दिए जाने वाले खाद-बीज से भी किसानों को राहत पहुंची है। लिबरु ने बताया कि इस क्षेत्र के किसान अब केवल धान की खेती नहीं कर रहे हैं, बल्कि अपनी आर्थिक स्थिति को तेजी से सुधारने के लिए सब्जियों की खेती भी कर रहे हैं। शासन द्वारा नलकूप खनन के लिए मिलने वाली छूट सहित बिजली बिल में दी जाने वाली छूट को भी किसानों के लिए मददगार बताया। 

रमन के गोठ सुनने पहुंची गुरबे ने कहा कि वह निरक्षर है, किन्तु अब इस गांव की बालिकाएं अच्छा पढ़ाई कर रही हैं। उन्होंने बताया कि गांव की बालिकाएं सायकल में रायकोट और मावलीभाटा पढ़ने जाती हैं। उन्होंने कहा कि बालिकाओं का पढ़ने-लिखने से गांव की गृहणियों को भी बहुत मदद मिल जाती है, क्योंकि बालक अक्सर घर से बाहर रहते हैं। ऐसी स्थिति में लेन-देन से संबंधित मसलों को हल करने की जिम्मेदारी घर की बालिकाएं उठाती हैं। उन्होंने कहा कि बालिकाओं के पढ़ने से उनकी गृहिणी माताओं का आत्मविश्वास भी बढ़ गया है।

जलधर एवं सोमारु ने प्रदेश सरकार द्वारा चलाए जा रहे 108 और 102 योजना के संबंध में मुख्यमंत्री द्वारा उल्लेख किए जाने पर कहा कि निश्चित तौर पर इस योजना से मरीजों को त्वरित उपचार का लाभ मिला है। उन्होंने बताया कि गांव के लोगों को स्वास्थ्य की गंभीर समस्या होने पर तत्काल 108 को बुलाया जाता है। उन्होंने कहा कि 102 सेवा के कारण संस्थागत प्रसव बढ़े हैं।

बुधरी ने मुख्यमंत्री द्वारा नगदरहित भुगतान के संबंध में जानकारी देने पर कहा कि इससे लोगों में नगदरहित भुगतान के संबंध में जानकारी बढ़ेगी और नगदरहित भुगतान से महंगाई, भ्रष्टाचार और आतंकवाद की जननी कालाधन को रोकने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि वह मुख्यमंत्री के इस बात से सहमत हैं कि नगदरहित भुगतान आज के समय की जरुरत है। भुगतान की इन नई प्रणालियों से जहां पारदर्शिता रहेगी, वहीं लोगों को नगद रखने के जोखिम से भी छुटकारा मिलेगा। उन्होंने कहा कि मसकोट में अब इंटरनेट आ चुका है और वे नगदरहित भुगतान की सभी तकनीकियों को न केवल बारीकी से सीखेंगी, बल्कि अपने गांव के दूसरे लोगों को भी इसके लिए प्रेरित करेंगी।  

क्रमांक-1464/अर्जुन

 

Date: 
11 Dec 2016