Homeजगदलपुर : रमन के गोठ के नवमीं कड़ी का हुआ प्रसारण : श्रोताओं ने बताया जनौषधि केन्द्रों को गरीबों के लिए लाभकारी

Secondary links

Search

जगदलपुर : रमन के गोठ के नवमीं कड़ी का हुआ प्रसारण : श्रोताओं ने बताया जनौषधि केन्द्रों को गरीबों के लिए लाभकारी

Printer-friendly versionSend to friend

जगदलपुर, 8 मई 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा प्रदेश की जनता से संवाद स्थापित करने के लिए प्रतिमाह की दूसरी रविवार को आकाशवाणी तथा अन्य चैनलों से प्रसारित किए जाने वाले कार्यक्रम ’’रमन के गोठ’’ की नौवीं कड़ी को सुनने की उत्सुकता बस्तर जिले के श्रोताओं में दिखी। श्रोताओं की मांग पर इसके सार्वजनिक प्रसारण की व्यवस्था पंचायत विभाग द्वारा की गई।
बकावंड विकास खण्ड के ग्राम पंचायत धोबीगुड़ा के ग्राम पंचायत भवन में ‘‘रमन के गोठ‘‘ सुनने पहुंचे ग्र्रामीणों ने मुख्यमंत्री द्वारा बताई गई, जनौषधि केन्द्र, जैविक खेती, लोक सुराज अभियान और बाल विवाह रोकने की अपील पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की।
मुख्यमंत्री द्वारा लोक सुराज अभियान के संबंध में बताने पर सरपंच श्रीमती सुभद्रा बघेल ने कहा कि वे मुख्यमंत्री की इस बात से पूरी तरह सहमत हैं कि जनता के चर्चा करने बाद बनाई गई योजनाएं ज्यादा कामयाब होती हैं। उन्होंने कहा कि वे स्वयं जनप्रतिनिधि होने के कारण महसूस करती हैं कि जनता की जरुरतों को तभी पूरा किया जा सकता है, जब जनप्रतिनिधि स्वयं उनके पास जाकर उनकी समस्याओं को समझे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा इस गर्मी में पूरे प्रदेश का दौरा करना और गांव-गांव जाकर योजनाओं के क्रियान्वयन तथा जनता की जरुरतों के संबंध में जानकारी लेना उनकी संवेदनशीलता को दर्शाता है।
ग्राम पंचायत धोबीगुड़ा में मितानीन के तौर पर जनता को स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराने वाली श्रीमती पार्वती सेठिया ने मुख्यमंत्री के बाल विवाह को रोकने के लिए की गई अपील को मार्मिक बताया। उन्होंने कहा कि उनका स्वयं छोटी उम्र में ही विवाह हुआ था। कम उम्र में परिवार की जिम्मेदारियां आने पर होने वाली परेशानियों को उन्होंने साझा की। उन्होंने कहा कि कम उम्र में मां बनने पर मां और बच्चा दोनों की जिंदगी खतरे में रहती है। उन्होंने कहा कि वे मितानीन होने के नाते भी प्रसव के दौरान होने वाली समस्याओं को समझती हैं। उन्होंने बताया कि इस पंचायत में अब काफी जागरुकता आ गई है, जिसके कारण पिछले कई वर्षों से बाल विवाह के मामले सामने नहीं आ रहे हैं। ग्रामीणों ने कहा कि बाल विवाह का कोई प्रकरण सामने आने पर वे स्वयं इसका विरोध करेेंगे और ऐसी कुप्रथाओं का अंत अवश्य करेंगे।
यहां के पंच परमानंद सेठिया ने मुख्यमंत्री द्वारा दी गई जनौषधि केन्द्रों को गरीबों के लिए लाभकारी बताया। उन्होंने कहा कि महंगी दवाईयों की अपेक्षा सस्ती दवाईयों से भी उतना ही लाभ होने पर सस्ती दवाइयों का उपयोग ही बेहतर है। उन्होंने कहा कि वे इस योजना के संबंध में गांव के अन्य लोगों को भी बताएंगे।
मुख्यमंत्री द्वारा अपने संबोधन मंे जैविक खेती का उल्लेख करने पर ईश्वर सेठिया ने कहा कि रासायनिक खाद के अधिक उपयोग से मानव शरीर के साथ ही खेती पर पड़ने वाली दुष्प्रभावों से अब किसान परिचित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि रासायनिक खाद के उपयोग से पहले तो भरपूर फसल मिलता है, लेकिन बाद में जमीन लगभग बंजर हो जाती है। इसी तरह रासायनिक खाद के उपयोग से पैदा की गई फसल में भी कोई स्वाद नहीं होता, बल्कि इसका शरीर पर ही दुष्प्रभाव पड़ता है। उन्होंने कहा कि अब किसान जैविक कृषि की ओर वापस जा रहे हैं। इसका लाभ किसानों के साथ ही उपभोक्ताओं को भी मिलेगा। मुख्यमंत्री द्वारा किसानों को निःशुल्क नक्शा-खसरा और गांवों की आबादी भूमि का पट्टा दिए जाने की जानकारी देने पर भी ग्रामीणों ने अत्यंत प्रसन्नता व्यक्त की।
सोमवार को सुबह 10.45 से हल्बी बोली में होगा प्रसारण
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता ‘रमन के गोठ’ की 9वीं कड़ी का पुनः प्रसारण सोमवार 09 मई को प्रदेश के सभी आकाशवाणी केन्द्रों से किया जाएगा। आकाशवाणी के इस विशेष कार्यक्रम को सवेरे 10.45 से 11 बजे तक राज्य में स्थित आकाशवाणी के सभी केन्द्र एक साथ पुनः प्रसारित करेंगे। लोगों की विशेष मांग पर हो रहे इस पुनः प्रसारण को जगदलपुर आकाशवाणी केन्द्र से हल्बी में प्रसारित किया जाएगा। वहीं रायपुर दूरदर्शन से भी सोमवार को हिन्दी में दोपहर 3.30 से 3.45 बजे तक किया जाएगा। ज्ञातव्य है कि प्रत्येक माह के दूसरे रविवार को इसका नियमित प्रसारण किया जाता है और पुनः प्रसारण दूसरे दिन सोमवार को भी किया जाता है।
 ‘‘रमन के गोठ‘‘ पर प्रतिक्रिया अब मोबाईल से
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता ‘रमन के गोठ’ के बारे में श्रोता अब अपनी प्रतिक्रिया मोबाइल फोन पर एस.एम.एस. के जरिए भी दे सकते हैं। कोई भी व्यक्ति अपने मोबाइल के मेसेज बॉक्स में अंग्रेजी अक्षरों में त्ज्ञळ (आरकेजी) लिखने के बाद स्पेस देकर अपने विचार लिखकर 7668-500-500 नम्बर पर भेज सकते हैं। रूचि लेकर सुनने वाले श्रोताओं से ‘रमन के गोठ’ में आज सवाल भी पूछा गया सवाल था कि जनऔषधि केन्द्र से कौन सी दवा मिलेगी? जिसके दो विकल्प दिए गए, विकल्प ‘ए’ में जेनेरिक और विकल्प ‘बी’ में ब्रांडेड। श्रोताओं को अपना जवाब देने के लिए अपने मोबाइल के मेसेज बॉक्स में क्यूए लिखकर स्पेस देकर ‘ए’ या ‘बी’ जो भी सही लगे, वह एक अक्षर लिखकर 7668-500-500 नम्बर पर सवाल का उत्तर भेजने की व्यवस्था भी दी गयी।



क्रमांक-  /अर्जुन


 

Date: 
08 May 2016