Homeजगदलपुर : रेडियो के माध्यम से मुख्यमंत्री के कार्यक्रम ‘रमन के गोठ‘ को बस्तर जिले में उत्साहपूर्वक सुना गया

Secondary links

Search

जगदलपुर : रेडियो के माध्यम से मुख्यमंत्री के कार्यक्रम ‘रमन के गोठ‘ को बस्तर जिले में उत्साहपूर्वक सुना गया

Printer-friendly versionSend to friend

जगदलपुर, 13 सितम्बर 2015

प्रदेश के सभी आकाशवाणी केन्द्रों द्वारा आज सुबह प्रसारित ‘रमन के गोठ‘ नाम से मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह की बात को आज बस्तर जिले में पूरे उत्साह एवं रुचिपूर्वक सुना गया। इसके लिए ग्राम पंचायतों के भवनों, सामुदायिक भवनों, छात्रावासों आदि में इसे एक साथ सुनने के लिए भी व्यवस्थाएं की गई थीं। अपने तरह के इस पहले कार्यक्रम में मुख्यमंत्री रमन सिंह ने प्रदेश के नागरिकों के साथ बातचीत की शैली में अपनी बात कही और उनसे खेती को बढ़ावा दिए जाने, प्रदेश में सिंचाई पम्पों को बढ़ावा देकर खेतों में पानी की व्यवस्था किए जाने, फसल बीमा कराए जाने की अवधि 15 सितम्बर तक बढ़ाए जाने, अवर्षा या फसलों के खराब होने की स्थिति में किसानों के साथ सरकार के खड़े रहने, छत्तीसगढ़ के तीज-त्यौहार और पर्वों की महत्ता और खेती-किसानी में उनके महत्व, स्कूलों में शैक्षणिक गुणवत्ता सुधार के लिए किए जा रहे व्यापक एवं नए प्रयासों तथा इसके लिए राज्य के हर एक ग्राम सभाओं में होने वाली विशेष बैठकों, स्वच्छता एवं साफ-सफाई अभियान चलाकर हर एक गांव, जिले और प्रदेश को स्वच्छ बनाने जैसे बातों और मुद्दों पर अपनी बात कही।

ग्राम बाबुसेमरा में हर वर्ग के लोगों ने सुनी मुख्यमंत्री की बात

बस्तर जिले के जगदलपुर विकासखण्ड के ग्राम बाबुसेमरा के ग्राम पंचायत भवन में सामुदायिक भावना से उत्प्रेरित सभी वर्ग के लोगों ने एक साथ बैठकर रेडियो के माध्यम से मुख्यमंत्री की बात सुनी। इसमें गांव के 70 वर्षीय वृद्धजन से लेकर 7 वर्षीय बच्चे, महिलाएं, निःशक्तजन, जनप्रतिनिधि और अधिकारी-कर्मचारी सभी शामिल हुए।

मुख्यमंत्री का उद्गार सुनने के बाद वहां उपस्थित निःशक्तज श्री कमल साय ने कहा कि मुख्यमंत्री को सुनना अच्छा लगा। गांव के वृद्धजन श्री भागीरथी देवांगन ने कहा कि रमन सिंह हमारे प्रदेश के मुखिया हैं। गांव और खेती-किसानी के संबंध में उनके द्वारा कही गई बातें अच्छी लगीं। कक्षा नवमीं की पढ़ाई कर रहे छात्र श्री विनय भारती ने कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री को पहली बार रेडियो पर सुना है। वह आगे भी मुख्यमंत्री को सुनना चाहेगा। छत्तीसगढ़ी तीज-त्यौहारांे के संबंध में उसे नई जानकारी मिली है। गांव की महिलाएं श्रीमती बागो बघेल और पद्मा कश्यप ने कहा कि गांव को साफ-सुथरा बनाने के लिए स्वयं भी प्रयास करेगी। श्री फूल कुंवर और ने कहा कि निश्चय ही गांव में शिक्षा की ओर ध्यान देना चाहिए। मुख्यमंत्री का प्रयास अच्छा है। श्री रामाधर कश्यप ने कहा कि उसे फसल बीमा के संबंध में नई जानकारी मिली। सरपंच श्री धनुर्जय बघेल ने कहा कि मुख्यमंत्री जी की मंशा के अनुरुप ग्राम पंचायत में ग्राम सभा की बैठक होंगी तथा शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार और साफ-सफाई के लिए विशेष बल दिया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि गांव को खुले में शौच मुक्त बनाने के लिए गांव के हर घर में शौचालय बनाने और उपयोग करने पर बल दिया गया। इस अवसर पर कार्यक्रम सुन रहे जनपद पंचायत जगदलपुर के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री निर्भय साहू ने सरपंच, ग्राम सचिव तथा अन्य लोगों से कहा कि वे गांव को खुले में शौच मुक्त बनाने के लिए के यहां के सभी लोगों को प्रेरित करें। इसके लिए नागरिकों की निगरानी समिति भी बनाएं।

कस्तुरबा विद्यालय की बालिकाओं ने भी ध्यान से सुना ‘रमन का गोठ‘

जगदलपुर के कस्तुरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय की बालिकाओं ने भी आकाशवाणी में प्रसारित ‘रमन के गोठ‘ का प्रसारण रेडियो पर सुना। यहां की छात्रा करुणा चालकी ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा अल्प वर्षा की स्थिति को देखते हुए कार्य योजना बनाने की बात कही गई है। इससे खेती को फायदा होगा। अन्य छात्रा राधा चैधरी ने मुख्यमंत्री द्वारा पूर्व राष्ट्रपति डाॅ. एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर प्रारंभ किए जा रहे शिक्षा गुणवत्ता अभियान की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि बस्तर जिले में चलाए जा रहे शिक्षा गुणवत्ता अभियान का प्रभाव पड़ने लगा है। छात्रा खुशी भारती ने कहा कि स्वच्छ परिवेश में ही व्यक्ति स्वस्थ रह सकता है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान से प्रेरित होकर इस स्कूल परिसर को भी स्वच्छ बनाने का कार्य किया जा रहा है। जयश्री जैन ने कहा कि प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना और प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना गरीबों के लिए जरुरी हैं। इसका प्रचार-प्रसार किया जाना चाहिए।

तोकापाल विकास खण्ड के एर्राकोट और पलवा में भी सुना गया ‘रमन के गोठ‘

बस्तर जिले के तोकापाल विकास खण्ड के विभिन्न ग्राम पंचायत भवनों में पंचायत प्रतिनिधियों एवं ग्रामीणजनों ने मुख्यमंत्री का ‘रमन के गोठ‘ कार्यक्रम को सुना। ग्राम पंचायत एर्राकोट में एम्पलीफायर के माध्यम से पूरे गांव में इसका प्रसारण किया गया। इसी तरह गांव के छात्रावास और पलवा ग्राम पंचायत भवन में ग्रामीणों ने भी इसे सुना।

* मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह के आकाशवाणी के माध्यम से प्रसारित कार्यक्रम ‘रमन के गोठ‘ सुनने के उपरांत वरिष्ठ अधिवक्ता एवं प्रेस से जुड़े डाॅ. प्रताप नारायण अग्रवाल ने इस नए और अभिनव प्रयास को एक सराहनीय कदम बताया। उन्होंने कहा कि ऐसे कार्यक्रम अगर साक्षात्कार शैली में होते हैं, तो इससे शासन को जहां जनता का अच्छा फीडबैक मिलेगा, वहीं प्रशासनिक कार्यों में मजबूती बढ़ेगी।

* वरिष्ठ साहित्यकार एवं रंगकर्मी श्री नरेन्द्र पाढ़ी ने कहा कि मुख्यमंत्री के ऐसे कार्यक्रम लगातार होते रहना चाहिए साथ ही कार्यक्रम की समयावधि बढ़ानी चाहिए। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने फसल, सिंचाई, बीमा, रोजगार, त्यौहार, पंचायतों की भूमिका जैसे विविध पहलुओं को छुआ है। इसमें साहित्य एवं कला जैसे विषयों को भी जोड़ना चाहिए।

* वरिष्ठ साहित्यकार श्रीमती मोहिनी ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री ने किसानांे और विद्यार्थियों के हित में अच्छी बातें बताई हैं। ऐेसे प्रयास करने चाहिए कि कृषि उन्नत बने और किसानों की कठिनाईयां कम हों तथा शिक्षा का स्तर उठाने के लिए हर संभव प्रयास हों। उन्होंने कहा कि साफ-सफाई की तरह पर्यावरण का मुद्दा भी आना चाहिए।

क्रमांक-1009/पंकज/अर्जुन

 

Date: 
13 Sep 2015