Homeजगदलपुर : ‘रमन के गोठ‘ में बस्तर दशहरे के उल्लेख से गौरवांवित हुए बस्तरवासी

Secondary links

Search

जगदलपुर : ‘रमन के गोठ‘ में बस्तर दशहरे के उल्लेख से गौरवांवित हुए बस्तरवासी

Printer-friendly versionSend to friend

जगदलपुर, 9 अक्टूबर 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की वार्तालाप शैली में प्रसारित होने वाले कार्यक्रम ‘रमन के गोठ’ की चौदहवीं कड़ी में बस्तर दशहरे का उल्लेख करने पर श्रोताओं ने गर्व का अनुभव किया और कहा कि सदियों से चली आ रही इस परम्परा का मुख्यमंत्री द्वारा किए जाने से लोगों में इसके प्रति जिज्ञासा बढ़ेगी।  उल्लेखनीय है कि रविवार 9 अक्टूबर को सबेरे 10.45 से 11.05 बजे तक प्रसारित कड़ी में मुख्यमंत्री ने 75 दिन तक चलने वाले इस पर्व में सभी समुदायों की सहभागिता का भी उल्लेख किया। मुख्यमंत्री द्वारा नोनी सुरक्षा योजना की जानकारी दिए जाने पर श्रीमती सरोज ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा बेटियों के उत्थान के लिए निश्चित तौर पर अच्छा कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस प्रदेश में महिलाओं को प्रारंभ से ही सम्मान मिलता रहा है। नोनी सुरक्षा योजना से गरीबों में भी आत्मविश्वास जगा है, कि वे अपनी बेटियों को उनके पैरों में खड़ा होते देख सकेंगे। इस प्रदेश में बालिकाओं को पहली से लेकर कॉलेज तक की निःशुल्क पढ़ाई से भी बालिकाओं का हौसला बढ़ा है। महिला परामर्श केन्द्रों के खुलने से पारिवारिक विवादों और घरेलू हिंसा से रोकने के लिए परिवार परामर्श केन्द्र व महिलाओं के संकट के समय टोल फ्री नम्बर 1091 की सेवा की जानकारी दिए जाने पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि निश्चित तौर पर सभी महिलाओं को अपने मोबाईल में इस नम्बर को सेव करना चाहिए।
मुख्यमंत्री द्वारा करवा चौथ सहित विभिन्न पर्वों पर महिलाओं द्वारा पुरुषों के लिए किए जाने वाले त्याग का उल्लेख करते हुए पुरुषों को भी महिलाओं की भावनाओं का सम्मान करने की बात का समर्थन श्री ब्रजलाल निषाद ने किया। उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर पुरुषों को महिलाओं की भावनाओं का सम्मान करना चाहिए और मुख्यमंत्री द्वारा घर-घर में शौचालय निर्माण के लिए जो अपील की है, उसे मानना चाहिए। उन्होंने कहा कि इससे महिलाओं का सम्मान बचेगा। मोहनलाल साहू और फरसूराम ठाकुर ने भारतीय चिकित्सा का उल्लेख मुख्यमंत्री द्वारा किए जाने पर कहा कि इससे लोगों में योग और आयुर्वेद जैसे भारतीय चिकित्सा पद्धति पर विश्वास बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि लम्बी आयु के लिए भारतीय चिकित्सा पद्धति को अपनाना बहुत जरुरी है। श्रीमती सोनकुमारी ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा भोपालपटनम के सकनापल्ली की स्वास्थ्य कार्यकर्ता चंद्रकांता नीलम जैसे लोगों का नाम अपने संदेश में लेने से निस्वार्थ समाज सेवा कर रही दूसरी महिलाओं को भी प्रेरणा मिलेगी। महादेव और तुकाराम मंडावी ने स्वच्छता और समृद्धि को मुख्यमंत्री द्वारा एक दूसरे से जोड़ने के विचार का समर्थन किया और कहा कि स्वच्छता से निश्चित तौर पर स्वास्थ्य पर अनुकुल प्रभाव पड़ता है। स्वच्छ वातावरण से मानसिक कार्यक्षमता भी बढ़ जाती है, जिसके कारण समृद्धि आती है।


क्रमांक- 1057/अर्जुन
 

Date: 
09 Oct 2016