Homeजांजगीर-चांपा : ‘‘रमन के गोठ‘‘ की चौथी कड़ी प्रसारित: छात्रावास की बालिकाओं ने भी सुना मुख्यमंत्री जी की रेडियो वार्ता

Secondary links

Search

जांजगीर-चांपा : ‘‘रमन के गोठ‘‘ की चौथी कड़ी प्रसारित: छात्रावास की बालिकाओं ने भी सुना मुख्यमंत्री जी की रेडियो वार्ता

Printer-friendly versionSend to friend

      जांजगीर-चांपा, 13 दिसंबर 2015

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की रेडियो वार्ता ’रमन के गोठ’ कार्यक्रम की चौथी कड़ी आकाशवाणी के सभी केन्द्र, सभी एफ.एम. रेडियो सहित राज्य के सभी निजी चैनलों में आज रविवार को सवेरे 10.45 से 11 बजे तक प्रसारित हुई।  मुख्यमंत्री जी के ‘‘रमन के गोठ‘‘ कार्यक्रम को जिले के छात्रावास के छात्र-छात्राओं ने भी सुना और इसे काफी सराहा।
          जिला मुख्यायल जांजगीर स्थित अनुसूचित जाति एवं जनजाति पोस्ट मैट्रिक कन्या छात्रावास में ‘‘रमन के गोठ‘‘ कार्यक्रम को छात्राओं ने बड़े ही उत्साह और ध्यान से सुना। छात्रावास में रह रही कु.संगीता कंवर ने कहा कि रेडियो के जरिए ग्रामीण लोग सीधे मुख्यमंत्री जी से राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यो के बारे में जान रहे है। मुख्यमंत्री जी ने प्रदेश के विशेष पिछड़ी जनजाति के लोगों के कल्याण और बेहतरी के लिए जो 11 सूत्रीय कार्यक्रम की शुरूआत की है वह बहुत ही महत्वपूर्ण तथा सराहनीय कदम है।
       ग्यारहवी कक्षा की कु.राधा मिंच ने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने इस कार्यक्रम में किसानों के लिए किए जा रहे राहत कार्यो व प्रावधानों के बारे में विस्तृत जानकारी दी साथ ही मिट्टी की सेहत को सुधारने के लिए मृद्रा परीक्षण के लिए किसानों को प्र्रेरित किया। निश्चित ही किसानों को उनके खेतों की मिट्टी की सेहत की सही जानकारी होने से वो उतनी ही भूमि में बेहतर उत्पादन प्राप्त कर सकेंगे।
       एमएससी प्रीवियस की कु.शशि महिलांगे ने कहा कि मुख्यमंत्री ने प्रदेश के श्रमिकों के संचालित बीमा व पेंशन योजनाओं के बारे में  बताया कि इन योजनाओं से कामगार लोगों की सामाजिक व आर्थिक सुरक्षा सुनिश्चित हो सकेगी। बारहवी कक्षा की कु.विजय लक्ष्मी मनहर ने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने प्रदेश में सर्व-धर्म समभाव की विशेषता का जिक्र करते हुए आगामी 18 दिसंबर को संत गुरू बाबा घासीदास जी तथा गुरू गोविंद सिंह जी की जयंती, 24 दिसंबर को ईद-उल-मिलाद तथा 25 दिसंबर को क्रिसमस के लिए लोगों को शुभकामनाएं दी जिसे सुनकर बहुत अच्छा लगा।      
     कु.आचल दिनकर ने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने नक्सल प्रभावित नारायणपुर जिले के मंुडापाल के आदिवासी किसान श्री मंगलसाय द्वारा लोगों की सुविधा के लिए स्वेच्छा से अपनी कृषि भूमि को सरकार को दाने में देने तथा दंतेवाड़ा जिले के किसानों द्वारा की जा रही जैविक खेती का उल्लेख किया जोकि प्रदेश के अन्य किसानों के लिए एक प्रेरणात्मक संदेश है। इस अवसर पर सहायक आयुक्त आदिवासी विकास श्री एच.आर.चौहान, मण्डल निरीक्षक श्री दिनेश आजाद, छात्रावास की अधीक्षिका श्रीमती संतोष कठवार, श्रीमती प्रीति दिनकर सहित छात्रावास की सभी छात्राएं उपस्थित थी।


 

Date: 
13 Dec 2015