Homeजांजगीर-चांपा : ‘‘रमन के गोठ‘‘ - रेडियो के जरिए प्रदेश के मुखिया को सुना ग्रामीणों ने

Secondary links

Search

जांजगीर-चांपा : ‘‘रमन के गोठ‘‘ - रेडियो के जरिए प्रदेश के मुखिया को सुना ग्रामीणों ने

Printer-friendly versionSend to friend

ग्राम पंचायत भवनों व चौपालों में बड़ी उत्सुकता और तनमन्यता से लोगों ने सुना मुख्यमंत्री को

जिले के सभी नगरीय निकायों व ग्राम पंचायतों में कार्यक्रम को सुनने की रही व्यवस्था

       जांजगीर. 13 सितम्बर 2015

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आकाशवाणी के जरिये सुबह 10:45 से 11 बजे तक ‘‘रमन के गोठ‘‘ कार्यक्रम के माध्यम से आज प्रदेश की जनता से सीधे मुखातिब हुए। उन्होंने इस अवसर पर प्रदेशवासियों को राज्य के परंपरागत त्यौहार पोला और तीजा की बधाई और शुभकामनाएं दी वहीं छत्तीसगढ़ पकवान ठेठरी-खुरमी, गुड़हा-चीला की चर्चा कर लोगों का मनमोह लिया। मुख्यमंत्री ने अपने उद्बोधन में प्रदेश में कम वर्षा की स्थिति पर चर्चा करते हुए किसानों को हर संभव मदद का भरोसा दिलाया वहीं उन्होंने इस अवसर पर लोगों से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा प्रारंभ किए गए स्वच्छ भारत अभियान में सक्रिय सहभागिता निभाने का आहवान किया। उन्होंने प्रधानमंत्री जन-धन योजना, प्रधानमंत्री बीमा योजना का जिक्र करते हुए प्रदेशवासियों से इन योजनाओं से जुड़कर इनका अधिक से अधिक लाभ लेने की अपील की। मुख्यमंत्री ने पूर्व राष्ट्रपति डॉ. ए.पी.जे.अब्दुल कलाम के नाम पर प्रारंभ किए गए शिक्षा गुणवत्ता अभियान की चर्चा करते हुए लोगों से अपने गांवों के स्कूलों की गुणवत्ता का परीक्षण करने को कहा ताकि वहां बेहतर तरीके से बच्चों को शिक्षा मुहैया करायी जा सके।
        मुख्यमंत्री जी का यह कार्यक्रम हर माह के दूसरे रविवार को उपरोक्त निर्धारित समय पर आकाशवाणी के सभी केन्द्रों से एक साथ प्रसारित किया जाएगा। आज इस कार्यक्रम की पहली कड़ी का प्रसारण किया गया। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के ‘रमन के गोठ’ कार्यक्रम को अधिक से अधिक लोग सुने सके इसके लिए कलेक्टर श्री ओ.पी.चौधरी के मार्गनिर्देशन में जिला मुख्यालय जांजगीर के कचहरी चौक स्थित सांस्कृतिक भवन, लाईवलीहुड कॉलेज, चांपा के नगर पालिका सभाकक्ष, सक्ती के टाउन हॉल और अकलतरा के नगर पालिका सभा में जनप्रतिनिधियों और आम लोगों के लिए कार्यक्रम के श्रवण की व्यवस्था की गई इसके अलावा जिले के सभी नगर पंचायत व ग्राम पंचायतों के भवनों में भी आवश्यक रेडियो-ट्रांजिस्टर आदि की व्यवस्था रही जिससे जिले में बड़ी संख्या में लोगों ने मुख्यमंत्री जी के कार्यक्रम को सुना।
     जिला मुख्यालय जाजंगीर के कचहरी चौक में नगर पालिका के सांस्कृतिक भवन में ‘‘रमन के गोठ‘‘ कार्यक्रम को नगर पालिका की अध्यक्ष श्रीमती मालती देवी रात्रे, पार्षदगणों सहित नगरवासियों ने सुना। नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमती रात्रे ने कहा कि प्रदेश के मुखिया ने अपने उद्बोधन में राज्य के तीज त्यौहार विशेष कर माताओं और बहनों के तीजा, पोला और छत्तीसगढ़ी पकवान ठेठरी-खुरमी की चर्चा महिलाओं को बड़ा सम्मान दिया है।
        नगर पालिका सक्ति के अध्यक्ष श्री श्याम सुन्दर अग्रवाल ने कहा कि इस कार्यक्रम के माध्यम से हर माह प्रदेशवासी अब सीधे मुख्यमंत्री जी से प्रदेश में संचालित विकास कार्यो को सुन सकेंगे।
           बलौदा विकासखण्ड के ग्राम पंचायत कोसमंदा के सरपंच श्री गौतम राठौर ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रांे में लोगों के लिए शासन-प्रशासन के कार्यक्रलापों को जानने का रेडियो एक बहुत अच्छा माध्यम है। मुख्यमंत्री जी ने इसे चुना इसके लिए उन्हें बहुत-बहुत धन्यवाद।
       नवागढ़ के पेन्ड्री सरपंच श्री राजकुमार कश्यप ने कहा कि मुख्यमंत्री जी स्वयं एक किसान है, और उनके द्वारा किसानों के लिए किए जा रहे प्रयासों को सुनकर बहुत अच्छा लगा।
         पामगढ़ विकासखण्ड के श्री सकुन साहू ने कहा कि वो नियमित रेडियो सुनते है और इसमें मुख्यमंत्री जी को सुनकर अच्छा लगा। अब हर माह लोग मुख्यमंत्री जी के माध्यम से प्रदेश सरकार के कार्यो को घर बैठ ही जान सकेंगे।
        लाईवलीहुड कॉलेज के प्रशिक्षणार्थी श्री राजेन्द्र कुमार ने कहा कि मुख्यमंत्री जी द्वारा युवाओं के कौशल विकास के लिए प्रारंभ किए गए प्रशिक्षणों से बहुत से युवाओं की जिन्दगी संवर गई है।
         आटो चालक श्री अरमान खान ने कहा कि डॉ. रमन सिंह जमीन से जुड़े हुए मुख्यमंत्री हैं, वे यहां की जरूरतों और समस्याओं से बेहतर ढंग से वाकिफ है। वाहन चालक श्री ब्रजेश राठौर ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री स्वयं लागों को शासकीय योजनाओं से अवगत करा रहे है, इससे प्रदेशवासियों का उत्साह और बढ़ेगा। लाईन मेन श्री विजय कुमार  ने बताया कि  रेडियो कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के द्वारा छत्तीसगढ़ी पकवान ठेठरी, खुर्मी और छत्तीसगढ़िया त्यौहार तीजा-पोला के बारे में सुनकर अपनी परंपरा के प्रति गर्व हुआ।  


क्रमांक//पवन/भार्गव
 

Date: 
13 Sep 2015