Homeजांजगीर : शहरों और गांवों में उत्साह से सुना गया ‘रमन के गोठ

Secondary links

Search

जांजगीर : शहरों और गांवों में उत्साह से सुना गया ‘रमन के गोठ

Printer-friendly versionSend to friend
परीक्षा के दौरान बच्चों और पालकों को 
तनाव ग्रस्त नहीं होने की समझाईश
‘रमन के गोठ’ में तालाबों के संरक्षण के बारे में 
मिली कई जानकारियां 
 
जांजगीर 12 फरवरी 2017
 
 
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के मासिक रेडियो वार्ता कार्यक्रम ‘रमन के गोठ’ को आज जिले के सभी शहर और गांवों में उत्साह पूर्वक सुना गया। विकासखण्ड मालखरौदा के ग्राम पंचायत फगुरम के सरपंच श्री महेन्द्र टंडन और ग्राम पंचायत चरौंदी के सरपंच श्री डबिल सिंह के साथ पंचगण और ग्रामीणों ने रमन के गोठ में मुख्यमंत्री की बातों को ध्यान से सुना। 
रेडियो कार्यक्रम के माध्यम से मुख्यमंत्री द्वारा तालाब के संरक्षण में योगदान के अपील को जनप्रतिनिधियों ने स्वीकार करते हुए तालाबों को संरक्षित करने का निश्चय किया है। मालखरौदा के ग्राम सुलौनी में भी सरपंच श्रीमती दिलेश्वरी और ग्राम जमगहन में सरपंच श्री दिनेश जांगड़े के साथ वहां के ग्रामीणों ने रेडियोवार्ता सुना। ग्राम फगुरम के सरपंच श्री महेन्द्र टंडन ने कहा कि मुख्यमंत्री ने परीक्षा के समय को देखते हुए बच्चों और अभिभावकों को तनाव ग्रस्त नहीं होने के लिए सही समझाईश दी है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि परीक्षा में सफलता के लिए कोई शार्टकट नहीं है। असफलता से घबराने की बजाए सुधार के लिए मेहनत करना चाहिए। ऐसी बातों से बच्चों को मेहनत करने की प्रेरणा मिलती है। 
आज रमन के गोठ सुनने वाले जनप्रतिनिधियों सहित प्रायः सभी श्रोताओं को तालाबों की महत्ता, उनके संरक्षण, ‘वेटलैण्ड अथॉरिटी’ और पॉलिसी’ के बारे में मुख्यमंत्री द्वारा दी गई जानकारी ने काफी प्रभावित किया है। इसके अलावा रेडियोवार्ता में मुख्यमंत्री द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में अपनाए जा रहे नवाचारों की जानकारी दी गई। ‘रमन के गोठ’ कार्यक्रम को आज नगरपालिका परिषद जांजगीर-नैला और सक्ती, बन्हनीडीह के ग्राम पंचायत सोनाडीह, गोविन्दा, जैजैपुर के ग्राम परसाडीह,जमडी सहित पूरे जिले में सुना गया। 
 
क्रमांक/ सुनीता
 
Date: 
12 Feb 2017