Homeदंतेवाड़ा : अच्छे मानसून की भविष्यवाणी सुनकर लोग हर्षित, कहा मुख्यमंत्री की बात सच होगी : रमन के गोठ की दसवी कड़ी का हुआ प्रसारण

Secondary links

Search

दंतेवाड़ा : अच्छे मानसून की भविष्यवाणी सुनकर लोग हर्षित, कहा मुख्यमंत्री की बात सच होगी : रमन के गोठ की दसवी कड़ी का हुआ प्रसारण

Printer-friendly versionSend to friend

     दंतेवाड़ा, 12 जून, 2016

रमन के गोठ की दसवीं कड़ी को दंतेवाड़ा के लोगों ने सुनकर खूब सराहा, विशेष रूप से अच्छे मानसून की उम्मीद जताए जाने पर लोगों को बहुत अच्छा लगा जो नई फसल के लिए खेतों को तैयार कर रहे हैं।
साप्ताहिक बाजार गीदम में खरीदी करने आए हिड़मा ने रमन के गोठ के संबंध में प्रतिक्रिया करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री जब अपने गोठ में अच्छे मानसून की मौसम विभाग की भविष्यवाणी कर रहे थे तब मैंने आसमान में बादलों को देखा तब मुझे लगा कि उनकी बात बिल्कुल सच होगी। हिड़मा ने बताया कि इस बार अच्छे मानसून नहीं होने से उसको अपेक्षित फसल नहीं मिली। सरकार की तरफ से मुआवजा राशि मिली तो बड़ी राहत मिली। फिर इस बार नि:शुल्क धानबीज भी दिया गया है। इस बार अपने खेतों में डबरी भी कराई है। अच्छे मानसून से खूब जलभराव होगा।
 साप्ताहिक बाजार में ही खरीदी करने आईं कारली की मासे ने बताया कि पिछली बार उसने हल्बी में रमन के गोठ सुना था, मुख्यमंत्री की बात हल्बी में सुनना बहुत अच्छा लगता है। पिछली बार हल्बी में उनका गोठ सुन ऐसा लगा जैसे मुख्यमंत्री एक बार फिर लोक सुराज के दौरान चौपाल लगाने हमारे गाँव पहुँच गए हैं और हम एक बार फिर ध्यान से उनकी बातें सुन रहे हैं। मासे ने बताया कि पिछली बार मुख्यमंत्री ने धुँए से होने वाले नुकसान के बारे में बताया और बहुत से गरीब परिवारों को सिलेंडर देने की बात कही, यह बहुत अच्छा है अब मैं भी सिलेंडर में खाना पकाऊँगी। मासे ने बताया कि जब गाँव के जनप्रतिनिधि हमर छत्तीसगढ़ में पौधा लगाने रायपुर जाएंगे तो वो भी अपने घर की थोड़ी सी मिट्टी और एक पौधा देगी। बाजार में ही रमन के गोठ सुन रहे बिसेन ने बताया कि रेडियो उसका सबसे अच्छा संगी है, रविवार को वह गुलदस्ता प्रोग्राम सुनता है, इसी बीच में रमन के गोठ का प्रसारण भी होता है। गीत-संगीत के बीचोंबीच मुख्यमंत्री द्वारा छ्तीसगढ़ के विकास की कहानी सुनना बहुत अच्छा लगता है। यह भी अच्छा लगता है कि मुख्यमंत्री प्राय: दंतेवाड़ा से जुड़ी हुई बातों को अपने गोठ में संबोधित करते हैं। पिछली बार उन्होंने जैविक खेती का उदाहरण दिया। मैं भी जैविक खेती का प्रशिक्षण प्राप्त कर रहा हूँ। पहले मुझे इसके बारे में ज्यादा पता नहीं था, लेकिन मुख्यमंत्री के संबोधन के बाद मुझे लगा कि यह जरूरी चीज है और मुझे इसका लाभ उठाने तुरंत इससे जुडऩा चाहिए।

स.क्र./ 41२/जनसंपर्क


 

Date: 
12 Jun 2016