Home दंतेवाड़ा : सरकार की संवेदनशीलता झलकती है रमन के गोठ में

Secondary links

Search

दंतेवाड़ा : सरकार की संवेदनशीलता झलकती है रमन के गोठ में

Printer-friendly versionSend to friend

दंतेवाड़ा, 10 जनवरी, 2016

जिले के निवासियों ने हर बार की तरह इस बार भी रुचिपूर्वक मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के संबोधन रमन के गोठ को सुना। इस बार रमन के गोठ का विषय सूखाग्रस्त क्षेत्र में चलाई जा रही राहत योजनाओं तथा प्रदेश में चल रहे आंगनबाड़ी गुणवत्ता उन्नयन अभियान को लेकर था। मुख्यमंत्री का गोठ सुनने पहुँचे वैभव सिंह ने बताया कि ग्लोबल वार्मिंग के चलते मौसम में काफी परिवर्तन हो रहा है। यह एलनिनो का मौसम है। एलनिनो के प्रभाव से बारिश कम होती है। ऐसे में राहत के लिए लोग सरकार का रुख करते हैं। यह अच्छी बात है कि मुख्यमंत्री सूखा पीडि़त किसानों के कष्टों के प्रति काफी संवेदनशील है। मनरेगा में काम के दिन 150 से बढ़ाकर 200 कर दिए गए हैं।
मुख्यमंत्री ने मनरेगा राहत कार्यों की जो समीक्षा की है वह भी राहत पहुँचाने वाली है। कहीं-कहीं मनरेगा में भुगतान को लेकर होने वाली देरी की बातें उठती हैं। यह अच्छी बात है कि मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को हिदायत दी है कि पेमेंट में किसी भी तरह का विलंब न करें। अनिता नाग ने कहा कि यह अच्छी बात है कि मुख्यमंत्री आंगनबाड़ी सुधार पर इतना ध्यान दे रहे हैं। मैंने कल ही अपने गाँव में देखा कि आंगनबाड़ी उन्नयन अभियान जोर-शोर से चलाया जा रहा है। जनप्रतिनिधि आंगनबाडिय़ों को गोद ले रहे हैं। पहले डॉ. कलाम के नाम पर शिक्षा गुणवत्ता अभियान चलाया गया था, उसके भी अच्छे नतीजे आए थे। आंगनबाड़ी पर विशेष फोकस करने से कुपोषण की समस्या होगी। अति दूरस्थ दंतेवाड़ा जैसे क्षेत्रों के लिए तो यह अभियान और भी अच्छा है। आंगनबाड़ी की गुणवत्ता सुधरऩे से कुपोषण की समस्या तेजी से दूर होगी।         
मकर संक्राति तथा गणतंत्र दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने रमन के गोठ में शुभकामनाएँ दी। साथ ही मुख्यमंत्री ने नव वर्ष की भी शुभकामनाएँ अपने गोठ के माध्यम से दी।


स0क्र0/2/जनसंपर्क


 

Date: 
10 Jan 2016