Homeदुर्ग : किसानों के साथ होगा न्याय

Secondary links

Search

दुर्ग : किसानों के साथ होगा न्याय

Printer-friendly versionSend to friend

दुर्ग,  08 नवम्बर 2015

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज आकाशवाणी के माध्यम से राज्य के किसानों को आश्वस्त किया है कि राज्य सरकार हर कदम पर उनके साथ है। सूखे की मार का कोई भी प्रभाव राज्य के किसानों पर पड़ने नहीं दिया जाएगा। राज्य की 110 तहसीलों को सूखा ग्रस्त घोषित किया गया है और यहां किसानों को राहत देने केन्द्र सरकार से 04 हजार करोड़ रूपए की मांग की गई है। आगामी खरीफ फसलों के लिए क्षेत्र के 22 लाख किसानों को एक-एक क्विंटल बीज उपलब्ध कराया जाएगा। कृषक जीवन ज्योति योजना के तहत अब किसानों को 09 हजार यूनिट तक की बिजली निःशुल्क उपलब्ध कराई जाएगी। सूखे की चपेट में आए क्षेत्रों में रोजगार गारंटी के काम शुरू किए जाएंगे और राज्य के प्रत्येक जॉब कार्ड धारक को 150 दिन का रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा। सरगुजा क्षेत्र में विगत दिनों ओला वृष्टि से प्रभावित हुए किसानों को आरबीसी 6/4 के तहत उचित मुआवजा दिया जाएगा।
    मुख्यमंत्री ने बताया कि समर्थन मूल्य में धान खरीदी केे लिए चौकस व्यवस्था की गई है। किसानों का पंजीयन किया गया है और 16 नवम्बर से 1976 खरीदी केन्द्रों में किसानों के धान खरीदी शुरू हो जाएगी। समर्थन मूल्य पर खरीदी के लिए सामान्य धान 1410 रूपए प्रति क्विंटल और ग्रेेड ए धान 1450 रूपए प्रति क्विंटल की दर से खरीदी की जाएगी। प्रति एकड़ 15 क्विंटल धान खरीदा जाएगा। मुख्यमंत्री ने किसानों से कहा है कि वे खरीदे केन्द्रों में धान लाने के पूर्व उसे अच्छी तरह साफ करें और सुखा लें। मुख्यमंत्री ने विगत 17 अक्टूबर को फिंगेश्वर के ग्राम रसकट्ठी में हुए दुर्घटना में पांच स्कूली बच्चों की असामयिक मृत्यु पर दुख जताया और उनके परिजनों को सांतवना दी। उन्होंने इस हेतु दोषी शिक्षकों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही किए जाने की जानकारी दी और शिक्षकों को चेतावनी दी कि भविष्य में इस प्रकार की घटना दुबारा ना हो यह सुनिश्चित करें।
    मुख्यमंत्री ने प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था में सुधार के लिए प्रारंभ किए गए डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम शिक्षा गुणवत्ता अभियान को सफल बताते हुए जानकारी दी कि शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत राज्य के प्रत्येक 06 से 14 वर्ष के बच्चे को उसकी आयु के हिसाब से शिक्षा मिलना चाहिए। अधिनियम के तहत परीक्षा का भय और फेल होने से उत्पन्न हुए निराशा के कारण उठाये जा रहे गलत कार्योंे को रोकने के उद्देश्य से परीक्षा के स्थान पर सतत् और समग्र मूल्यांकन की व्यवस्था की गई है। लेकिन राज्य में सतत् और समग्र मूल्यांकन की प्रक्रिया में हम पीछे रह गए। इसमें सुधार के लिए ही गुणवत्ता अभियान प्रारंभ किया गया है।
    मुख्यमंत्री ने प्रदेश की जनता को दीपावली, गोवर्धन पूजा, भाई दूज, कार्तिक पूर्णिमा और गुरूनानक जयंती की बधाई देते हुए राज्य की खुशहाली की कामना की है। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने श्रोताओं के पत्रों के जवाब भी दिए। दुर्ग जिले की बी.एम.वाय. चरोदा निवासी श्रीमती लक्ष्मी ठाकुर के पत्र पर प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री ने हर संभव सहायता दिए जाने की बात कही है। श्रोताओं की शिकायतों और समस्याओं से जुड़े पत्रों को आवश्यक कार्रवाई के लिए संबंधित जिला कलेक्टरों को भेजे जाने की बात उन्होंने कही है। श्रोताओं की मांग पर ’’रमन के गोठ ’’कार्यक्रम का प्रसारण गांेडी भाषा में किए जाने हेतु विचार करने की बात मुख्यमंत्री ने कहा है।

क्रमांक- 1177/नायक


 

Date: 
08 Nov 2015