Homeदुर्ग : ’’रमन के गोठ’’ से महिलाओं को खुद को साबित करने का मिला मौका - श्रीमती माया बेलचंदन

Secondary links

Search

दुर्ग : ’’रमन के गोठ’’ से महिलाओं को खुद को साबित करने का मिला मौका - श्रीमती माया बेलचंदन

Printer-friendly versionSend to friend

किसानों को सूखे में हौसला बनाए रखने मिलेगी मदद- श्री महेन्द्र सिन्हा
गांवों के महिलाएं भी अब होगी आत्मनिर्भर

दुर्ग, 13 दिसम्बर 2015

’’रमन के गोठ’’ कार्यक्रम में प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए जिला पंचायत की अध्यक्ष श्रीमती माया बेलचंदन ने कहा कि प्रदेश की मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह चौथी बार रेडियो के माध्यम से प्रदेश की जनता से उनके सुख-दुख की बात की है। रमन के गोठ कार्यक्रम के माध्यम से प्रदेश के विकास के साथ ही जन-जन की समस्याओं का नियमानुसार निराकरण करने, सूखे की स्थिति में किसानों की तकलीफ को हृदय से समझते हुए हर संभव मदद करने की बात कही है। मुख्यमंत्री ने महिला विशेष ग्राम सभा का आयोजन करने की बात कही है। महिला विशेष ग्राम सभा का आयोजन होने से गांवों और पिछडे़ इलाके की महिलाओं को अपने अधिकारों को जानने और अनेक समस्याओं को ग्राम सभा में रखने तथा उसके निराकरण में मदद मिलेगी। महिला विशेष ग्राम सभा से महिलाओं में सजगता और जागरूकता आएगी। इससे महिला स्वावलंबन की दिशा को गति मिलेगी। मुख्यमंत्री ने महिलाओं के सम्मान व गौरव बढ़ाने का कार्य किया है। दुर्ग जिले की समस्त महिलाओं की तरफ से श्रीमती बेलचंदन ने मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया है।  
    जनपद पंचायत पाटन के जनपद सदस्य श्रीमती कंचन उत्तरा सोनवानी ने कहा कि अब गांव की महिलाएं भी अपनी समस्या को विशेष ग्राम सभा के माध्यम से रख सकेंगी। महिलाओं को एक साथ मिल जुलकर बैठने का अवसर मिलेगा। गांवों की महिलाओं को अनेक योजना की जानकारी मिलेगी। जिससे वे भी अब योजना का लाभ लेकर अपना हित कर सकेेंगे। जनपद पंचायत दुर्ग के उपाध्यक्ष श्री महेन्द्र कुमार सिन्हा ने भी ’’रमन के गोठ’’ पर अपनी प्रतिक्रिया दी।

 

क्रमांक- 1276/प्रभाकर/नोहर

 

Date: 
13 Dec 2015