Homeधमतरी : कुपोषण मुक्ति संबंधी मुख्यमंत्री की मार्मिक अपील संवेदनशीलता का द्योतक : ‘रमन के गोठ‘ के पांचवें प्रसारण पश्चात् नागरिकों ने व्यक्त की अपनी राय

Secondary links

Search

धमतरी : कुपोषण मुक्ति संबंधी मुख्यमंत्री की मार्मिक अपील संवेदनशीलता का द्योतक : ‘रमन के गोठ‘ के पांचवें प्रसारण पश्चात् नागरिकों ने व्यक्त की अपनी राय

Printer-friendly versionSend to friend

धमतरी 10 जनवरी 2016

‘रमन के गोठ‘ के पांचवें प्रसारण में आज मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आकाशवाणी सहित विभिन्न एफएम रेडियो तथा टीवी चैनलों के माध्यम से अपनी बातें प्रदेश की जनता के समक्ष रखीं। प्रसारण के पश्चात् स्थानीय नागरिकों ने अपना अभिमत एवं प्रतिक्रियाएं देते हुए कहा कि प्रदेश में चल रहे आंगनबाड़ी गुणवत्ता उन्नयन अभियान के तहत बच्चों के सुखद और स्वस्थ भविष्य के प्रति शासन गम्भीर और चिंतित है। प्रदेश के मुखिया द्वारा कुपोषण मुक्त स्वस्थ समाज व स्वस्थ प्रदेश की परिकल्पना किसानों की प्रति सहृदयता उनकी गम्भीरता और संवेदनशीलता का द्योतक है।
    आज सुबह 10.45 प्रसारित ‘रमन के गोठ‘ कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को पारंपरिक छेरछेरा पुन्नी त्योहार तथा नए वर्ष के आगमन की शुभकामनाएं प्रेषित करते हुए कहा कि भारत सरकार द्वारा बीसवां राष्ट्रीय युवा उत्सव के आयोजन की मेजबानी छत्तीसगढ़ को मिलना हर्ष का विषय है। उन्होंने स्वामी विवेकानंद का जिक्र करते हुए कहा कि आज की युवा पीढ़ी को अधिक शिक्षित और स्वस्थ होना जरूरी है। विकास निर्माण कार्यों से नहीं, बल्कि युवा उत्थान से परिलक्षित होता है। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने इस दौरान कहा कि चार जनवरी से राज्य शासन द्वारा आंगनबाड़ी गुणवत्ता उन्नयन अभियान चलाया जा रहा है, जिसके माध्यम से प्रदेश के 32 फीसदी कुपोषित बच्चों को कुपोषण से बाहर लाना हमारा प्राथमिक लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि सरकार का पूरा ध्यान नौनिहालों को स्वस्थता प्रदान करना है तथा इसमें जनसहयोग अपेक्षित है। मुख्यमंत्री ने कहा कि विभिन्न विभागों के अधिकारियों की ड्यूटी लगाकर इस अभियान से जोड़ा गया है, वहीं ग्रामीण तथा शहरी निकायों के जनप्रतिनिधि इससे जुड़कर अभियान को सफल बनाने में अपनी अहम भूमिका निभा सकते हैं। इसके अलावा डॉ. सिंह ने अल्पवर्षा वाले क्षेत्रों में मनरेगा के तहत 200 दिनों का रोजगार सृजित करने तथा 35 प्रतिशत से कम उपज पाने वाले कृषकों को आरबीसी 6-4 के तहत पीड़ित किसानों को मुआवजा राशि प्रदान की जा रही है। साथ ही यह भी बताया कि शासन-प्रशासन द्वारा प्रयास किए जा रहे हैं कि मुआवजे की राशि 15 मार्च से पहले सभी लाभार्थी किसानों को वितरण कर ली जाए। इस दौरान उन्होंने ने बताया कि मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत प्रोत्साहन राशि 15 हजार रूपए से दुगनी कर 30 हजार रूपए प्रदान की जाएगी।
स्थानीय मेनोनाइट स्कूल परिसर में आयोजित ‘रमन के गोठ‘ के प्रसारण के बाद वरिष्ठ नागरिकों ने अपनी प्रतिक्रियाएं दी। इसी कड़ी महापौर श्रीमती अर्चना चौबे ने कहा कि आज के ‘गोठ‘ के बाद सरकार की आमजनता के प्रति सहृदयता और संवेदनशीलता परिलक्षित होती है। सरकार द्वारा एक ओर जहां किसानों को राहत देने की कवायद की जा रही है, वहीं कुपोषित बच्चों को सामान्य अवस्था में लाने हेतु चलाए जा रहे अभियान तथा मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के तहत प्रोत्साहन राशि दुगनी किया जाना प्रशंसनीय पहल है। नगरपालिका के पूर्व अध्यक्ष डॉ. एन.पी.गुप्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री की कुपोषण मुक्ति के संबंध में मार्मिक अपील उनकी मानवीय सहृदयता को दर्शाती है। साथ ही जिला प्रशासन द्वारा किए जा रहे प्रयास प्रशंसनीय है।

नगर निगम के पार्षद श्री नील पटेल ने कहा कि यह आमजनता और सरकार के मध्य सुख-दुख बांटने का सशक्त माध्यम है। शासन की सभी योजनाओं का सार्थक क्रियान्वयन प्रशासन द्वारा किया जाना चाहिए। पार्षद श्री नीलेश भारद्वाज ने कहा कि नई पीढ़ी के निर्माण के लिए मुख्यमंत्री द्वारा युवाओं को आगे आने की अपील महत्वपूर्ण है, साथ ही कन्यादान योजना में राशि दुगनी करना प्रशंसनीय पहल है। पार्षद श्रीमती दमयंतीन गजेन्द्र ने कहा कि सूखाग्रस्त पीड़ित किसान अपनी बेटियों के हाथ पीले करने में लाचारी महसूस कर रहे थे, ऐसे में मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत प्रोत्साहन राशि दुगनी करना एक श्रेष्ठ निर्णय है। इसका त्वरित लाभ किसानों को मिलेगा। वार्ड क्रमांक 14 की पार्षद श्रीमती वहीदा खोखर ने कहा कि रेडियो के माध्यम से आमजनता तक पहुंच के लिए यह अच्छा प्रयास है। प्रदेश के मुखिया को सीधे तौर पर सुनना सबके लिए खुशी की बात है। विंध्यवासिनी वार्ड की पार्षद श्रीमती अनिता सोनकर ने कहा कि प्रदेश सरकार सभी वर्गों के लिए चिंतित है। एक ओर जहां किसानों को मुआवजा राशि प्रदान कर तथा सूखा इलाकों में 200 दिनों का रोजगार सृजित कर उनके हितों का खयाल रखा जा रहा है, वहीं मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना में राशि दुगनी कर 30 हजार रूपए करना तथा कुपोषित बच्चों को स्वस्थ बनाने के लिए अभियान चलाना पुण्य का काम है। इसी तरह पूर्व पार्षद श्री दयाशंकर सोनी ने ‘रमन के गोठ‘ के प्रसारण समय में वृद्धि करने की बात कही, वहीं वरिष्ठ नागरिक श्री विनोदराव रणसिंह ने सभी वर्ग के लोगों के लिए जनजागरण का बेहतर मंच निरूपित किया। जिला मुख्यालय के अलावा नगर पंचायत कुरूद, जनपद पंचायत नगरी तथा मगरलोड में भी ‘रमन के गोठ‘ का अनुश्रवण किया गया तथा लोगों द्वारा प्रतिक्रियाएं व्यक्त की गईं।


क्रमांक-58/1517/सिन्हा
 

Date: 
10 Jan 2016