Homeधमतरी : नगदविहीन भुगतान को लेकर परखंदावासियों में बढ़ी उत्सुकता : मासिक रेडियो वार्ता ’रमन के गोठ’ को सुनने के बाद

Secondary links

Search

धमतरी : नगदविहीन भुगतान को लेकर परखंदावासियों में बढ़ी उत्सुकता : मासिक रेडियो वार्ता ’रमन के गोठ’ को सुनने के बाद

Printer-friendly versionSend to friend

नगरी के 30 ग्राम पंचायतों में नगदरहित लेन-देन को ग्रामीणों द्वारा पसंद किए जाने का मुख्यमंत्री ने रमन के गोठ में किया जिक्र

धमतरी, 08 जनवरी 2017

रायपुर के आकाशवाणी से प्रसारित होने वाला मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह का मासिक रेडियो वार्ता ’रमन के गोठ’ के 17 वीं कड़ी का आज प्रसारण किया गया। जिसमें मुख्यमंत्री ने प्रमुखतः प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नोटबंदी के फैसले और कैशलेस अर्थव्यवस्था के लिए की जा रही कवायदों का जिक्र किया। उन्होंने प्रदेश में नगदी रहित लेन-देन के लिए लोगों को प्रशिक्षित करने पिछले महीने चलाए गए विशेष अभियान के अलावा विभिन्न जिलों में कैशलेस लेन-देन के उदाहरणों का जिक्र करते हुए उनकी तारीफ भी की।  
जिले के कुरूद स्थित विधायक आदर्श ग्राम परखंदा में ’रमन के गोठ’ का श्रवण करने के बाद जिला पंचायत अध्यक्ष श्री रघुनंदन साहू ने सरकार के नोटबंदी के फैसले की प्रशंसा करते हुए नगदी रहित लेन-देन को काफी सराहा। उन्होंने कहा कि इससे भ्रष्टाचार पर अंकुश लगेगा, सीधा सरकार को टैक्स मिलेगा। इस तरह से देश का विकास तेज गति से होगा। मुख्यमंत्री डॉ.सिंह द्वारा नगरी विकासखण्ड  के वनांचल में बसे 30 ग्राम पंचायतों में कैशलेस लेन-देन को ज्यादा पसंद किए जाने का जिक्र ’रमन के गोठ’ में करने पर श्री साहू ने इन ग्रामीणों और जिला प्रशासन को ढेरों बधाईयां दी। इसके अलावा नगदी रहित लेनदेन को बढ़ावा देने केन्द्र सरकार के ’भीम एप्प’ तथा प्रदेश सरकार के ’मोर खीसा एप्प’ का भी अधिक से अधिक लोगों को उपयोग करने पर श्री साहू ने जोर दिया।
गांव के सरपंच श्री रमेश कुमार साहू ने ’रमन के गोठ’ के जरिए नगदी रहित लेन-देन को बढ़ाए जाने के बातों का जिक्र करते हुए सरकार के कैशलेस ट्रांजेक्शन के फैसले को काफी सराहा। उनका मानना है कि इससे लेन-देन में पारदर्शिता आएगी और चोरी-डकैती जैसे मामलों पर भी अंकुश लगेगा। वहीं गांव की पंच श्रीमती गंगेश्वरी साहू ने मोबाईल के जरिए नगदविहीन लेन-देन के बारे में दी गई जानकारी को काफी फायदेमंद बताया। वहीं खेतिहर मजदूर श्रीमती रूखमणी साहू ने नगद विहीन लेन-देन के लिए घर जाते ही अपने पति और पुत्र के सहयोग से मोबाईल में ’मोर खीसा एप्प’ डाउनलोड किए जाने की बात कही। परखंदावासी श्री कौशल साहू का कहना है कि जहां शिक्षित लोग मोबाईल अथवा पी.ओ.एस. मशीन से नगदविहीन भुगतान कर सकते हैं, वहीं अशिक्षित और कम पढ़े-लिखे लोगों के लिए भी सरकार ने आधार आधारित भुगतान की व्यवस्था की है। जिसमें केवल अंगूठे के निशान से ही लेन-देन किया जा सकता है, जो कि काफी सुविधाजनक है।



इस मौके पर श्री त्रिलोकचंद जैन ने नगद रहित लेन-देन के लिए प्रदेश में चल रहे प्रयासों की काफी सराहना की। उन्होंने जल्द से जल्द सभी लोगों को इसके लिए सही तरीके से प्रशिक्षण देने और इस दौरान बरते जाने वाले ऐहतियात के बारे में बताने की बात कही। जय बूढ़ादेव स्व सहायता समूह की सचिव श्रीमती लालिमा ध्रुव ने भी आधार आधारित नगदविहीन भुगतान के बारे में ’रमन के गोठ’ में सुन इसे काफी सराहा। वहीं समूह की बुककीपर श्रीमती पुष्पलता साहू ने ’मोर खीसा एप्प’ के बारे में जानकारी लेकर इसका इस्तेमाल करने की बात कही। परखंदा के श्री चम्पेश्वर सोनकर ने प्रधानमंत्री द्वारा रबी फसल के कृषि ऋणों पर 60 दिनों का ब्याज माफ करने और गर्भवती महिलाओं को छः हजार रूपए प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण के माध्यम से देने की घोषणा को ’रमन के गोठ’ में सुन इसकी तारीफ की। उनका मानना है कि नगदरहित भुगतान वास्तव में गरीब और किसान परिवारों के लिए एक वरदान साबित होगा। जिससे पैसा सीधे उनके खाते में जमा होगा और यह आम जनता के लिए वास्तव में लाभदायक है। आज ’रमन के गोठ’ की 17 वीं कड़ी का परखंदा स्थित पंचायत परिसर में श्रवण करने के लिए जहां परखंदावासी इकट्ठे हुए, वहीं जनप्रतिनिधि सहित जिला स्तर के अधिकारी भी मौके पर मौजूद रहे।


                                                क्रमांक-37/1395/इस्मत




 

Date: 
08 Jan 2017